DA Image
20 जनवरी, 2021|11:25|IST

अगली स्टोरी

ग्रेटर नोएडा : कोविड-19 अस्पताल बना GIMS, सामान्य मरीज नहीं होंगे भर्ती 

gims

राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान (जिम्स) में सामान्य मरीजों का दाखिला और उपचार नहीं होगा। कोविड-19 अस्पताल घोषित होने के बाद अब यहां कोरोना संक्रमित मरीजों का ही इलाज होगा। यहां पर 150 बेड का कोविड अस्पताल बनाया गया है। हालांकि, आपातकालीन मरीजों का इलाज जारी रहेगा।

शासन ने प्रदेश के 52 मेडिकल कॉलेजों को कोविड अस्पताल की श्रेणी में कर दिया। ग्रेटर नोएडा के कासना स्थित जिम्स में 300 बेड का अस्पताल है। यहां पर पहले 20 बेड का आइसोलेशन वार्ड बना हुआ है लेकिन अब इसे 150 बेड का कर दिया गया है। अन्य वार्ड में भर्ती करीब 55 मरीजों को नोएडा के जिला अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा।

इनमें से जो मरीज जल्द ठीक होकर जा सकते हैं, उनको उपचार के बाद डिस्चार्ज किया जाएगा। इसके चलते अब कोरोना मरीजों का ही इलाज होगा। यहां पर सामान्य मरीजों का उपचार बंद हो गया है।जिम्स के निदेशक ब्रिगेडियर डॉ. राकेश गुप्ता ने बताया कि कोविड अस्पताल घोषित हो गया है। हमारा पूरा ध्यान कोरोना मरीजों के उपचार पर है। अन्य विभागों के मरीजों को संक्रमण से बचाने के लिए अब सामान्य विभागों के मरीजों का दाखिला नहीं किया जाएगा।

10 वेंटिलेटर की सुविधा
अस्पताल के प्रशासनिक अधिकारी डॉ. अनुराग श्रीवास्तव ने बताया कि जिम्स में कोविड के लिए 150 बेड तैयार हो चुके हैं। यहां पर कोविड 19 की जांच हो रही है। प्रतिदिन 150 से अधिक नमूनों की जांच की जा रही है। कोविड के गंभीर मरीजों के लिए जिम्स में 10 वेंटिलेटर हैं। इसके अलावा अस्पताल में प्लाज्मा थेरेपी से भी गंभीर मरीजों के इलाज की सुविधा मिल गई है।

जिम्स में वर्तमान में तीन गर्भवती महिलाएं भर्ती हैं। इसमें पूजा, मंजू, व बेबी देवी में शामिल हैं। जबकि पहली मई मई को कोविड पॉजिटिव एक महिला की डिलीवरी कराई जा चुकी है। इससे पहले एक कोविड पॉजिटिव महिला डॉक्टर की भी डिलीवरी कराई गई थी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:GIMS Greater Noida becomes covid-19 hospital general patients will not be admitted