DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › रेलकर्मी की बड़ी लापरवाही: पासिंग लाइट बाहर रखकर सो गया गेटमैन, धड़ाधड़ निकलती रहीं ट्रेनें
उत्तर प्रदेश

रेलकर्मी की बड़ी लापरवाही: पासिंग लाइट बाहर रखकर सो गया गेटमैन, धड़ाधड़ निकलती रहीं ट्रेनें

फतेहपुर। संवाददाताPublished By: Dinesh Rathour
Fri, 23 Jul 2021 08:24 PM
रेलकर्मी की बड़ी लापरवाही: पासिंग लाइट बाहर रखकर सो गया गेटमैन, धड़ाधड़ निकलती रहीं ट्रेनें

रेलवे के गेट नंबर 47सी पर तैनात गेटमैन ड्यूटी के दौरान पासिंग लाइट बाहर रखकर केबिन में सो गया। इस दौरान ट्रेनें धड़ाधड़ पास होती रहीं। काफी देर तक गेट बंद रहने पर क्रासिंग में खड़े लोगों ने वीडियो वायरल कर दिया गया। वीडियो वायरल होने पर हरकत में आए अफसरों ने मौके पर पहुंचे गेटमैन को सोते हुए पकड़ा और उसे तत्काल निलंबित कर दिया। अफसरो के मुताबिक, गेटमैन की लापरवाही के बड़ा हादसा हो सकता था।

गेटमैन आरके शर्मा गुरुवार रात मिठनापुर स्थित रेलवे फाटक संख्या 47सी पर 22:00 बजे से सुबह 6:00 बजे तक की ड्यूटी पर था। उसने गेट बंद कर पासिंग लाइट को जलाकर बाहर रख दिया और केबिन में जाकर सो गया। बताते हैं कि भोर पहर पीआरबी 112 की गाड़ी गेट बंद होने के कारण काफी देर तक खड़ी रही। ट्रेन पास न होने पर भी गेट न खुलने पर पुलिस वालों ने अंदर जाकर देखा गया तो गेटमैन केबिन में सोता मिला। पुलिसवालों के जगाने पर वह जागा लेकिन कुछ देर बाद वह फिर केबिन में चला गया। क्रासिंग पर निकलने के इंतजार में खड़े किसी व्यक्ति ने वीडियो बना कर वायरल कर दिया। जानकारी रेलवे अधिकारियों को मिली तो वह आनन-फानन मिठनापुर पहुंच गए। उनके पहुंचने पर भी गेटमैन सोता मिला जिस पर उसे तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया।

गेटमैन को मिलती सफेद पासिंग लाइट

गेटमैन को अप व डाउन लाइन का स्टार्टर सिग्नल न दिखने के चलते ट्रेनों को पास कराने के लिए सफेद लाइट दी जाती है। जिसे लोको पायलट व गार्ड को दिखाकर गेटमैन ट्रेनों को पास कराता है। पासिंग लाइट का मतलब होता है आगे सब क्लियर है और ट्रेनें आगे बढ़ जाती हैं। एसएसई अनूप कुमार सिंह ने बताया, भोर पहर तीन से चार बजे के बीच तबियत खराब होने की बात गेटमैन ने बताई थी जिसके चलते उसने दवा खाकर सोने की बात स्वीकार की है। ड्यूटी के दौरान लापरवाही बरतने पर उसे निलंबित कर दिया गया है।


 

 
 

संबंधित खबरें