ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशअयोध्या में रामभक्तों के गहने चुराने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 21 लाख के आभूषण के साथ 16 गिरफ्तार

अयोध्या में रामभक्तों के गहने चुराने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 21 लाख के आभूषण के साथ 16 गिरफ्तार

अयोध्या में दर्शन के लिए आए श्रद्धालुओं को लूटने वालें गैंग का पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। ये चोर तमिलनाडु और कर्नाटक के श्रद्धालुओं के आभूषण चोरी की थी। उनके पास से 21 लाख के गहने बरामद हुए हैं।

अयोध्या में रामभक्तों के गहने चुराने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 21 लाख के आभूषण के साथ 16 गिरफ्तार
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,अयोध्याFri, 23 Feb 2024 10:05 PM
ऐप पर पढ़ें

रामनगरी में दर्शन के लिए आए श्रद्धालुओं के आभूषण की चोरी करने वाला बड़ा गैंग पुलिस की गिरफ्त में आया है। पूछताछ में तमिलनाडु और कर्नाटक के श्रद्धालुओं के साथ हुई चोरी का पुलिस ने खुलासा किया है। चोरों के पास से करीब 21 लाख कीमत की 11 सोने की चेन बरामद की गई है। गिरफ्तार अभियुक्तों में शंकर रावत, लक्ष्मण रावत, राजेश राय, मिथुन राय निवासी बेतिया बिहार, मुन्नाराय, डोमा राय, आफताब राय, अनुज कुमार पाल, मंतोष कुमार निवासी मोतिहारी बिहार, उपेन्द्र राय, हरेन्द्र राय, निवासी पूर्वी चम्पारण बिहार, रमेश राय, रुपनारायन, सूरज कुमार सिंह निवासी पश्चिमी चम्पारन बेतिया बिहार, जनार्दन कुंवर, राजन कुमार चौरी चौरा गोरखपुर शामिल है। गिरफ्तार आरोपितों के पास से पुलिस को तीन स्कार्पियों व एक इनोवा कार भी मिली है।

एसपी ग्रामीण अतुल कुमार सोनकर ने बताया कि दस फरवरी को तमिलनाडु व कर्नाटक के श्रद्धालुओं के साथ रामलला दर्शन मार्ग पर सोने की चेन व मंगलसूत्र की चोरी होने की रिपोर्ट दर्ज की गई थी। मुखबिर की सूचना पर जेल के पीछे ओवरब्रिज की दाहिनी तरफ दबिश देकर 16 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया। पूछताछ में अयोध्या, मथुरा, वाराणसी जैसे धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं के आभूषण को चोरी करने की बात आरोपितों ने स्वीकारी है। दूसरे जनपदों की पुलिस से सम्पर्क के आरोपितों के आपराधिक इतिहास की जानकारी हासिल की जा रही है।

मौके पर पकड़े जाने पर भी चोरों के पास नहीं मिलता था जेवर

पकड़े गये आरोपी काफी शातिर हैं। यह अलग-अलग टीम बनाकर चोरी को अंजाम देते थे। किसी श्रद्धालु का जेवर चुराते ही उसे वह दूसरे व्यक्ति को दे दिया करते थे। इसके बाद दूसरे से तीसरे व तीसरे चौथे हाथ में जेवर चला जाता था। मौके पर कोई चोरी करते पकड़ भी लिया जाता था तो तलाशी में उसके पास जेवर नहीं मिलता था जिससे यह आसानी से बच जाते थे।