ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशRO ARO पेपर लीक मामले में एक और मास्टरमाइंड समेत चार गिरफ्तार, STF के हाथ लगे कई महत्वपूर्ण दस्तावेज

RO ARO पेपर लीक मामले में एक और मास्टरमाइंड समेत चार गिरफ्तार, STF के हाथ लगे कई महत्वपूर्ण दस्तावेज

आरओ-एआरओ का पर्चा लीक कराने के मामले में एसटीएफ ने रविवार को एक और मास्टरमाइन्ड डॉ. शरद व उसके तीन साथियों को गिरफ्तार कर लिया। मुख्य मास्टरमाइंड राजीव नयन ने गिरफ्तार होने पर डॉ. शरद का नाम लिया था।

RO ARO पेपर लीक मामले में एक और मास्टरमाइंड समेत चार गिरफ्तार, STF के हाथ लगे कई महत्वपूर्ण दस्तावेज
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,लखनऊSun, 21 Apr 2024 10:53 PM
ऐप पर पढ़ें

समीक्षा अधिकारी (आरओ)/सहायक समीक्षा अधिकारी (एआरओ) का पर्चा लीक कराने के मामले में एसटीएफ ने रविवार को एक और मास्टरमाइंड डॉ. शरद सिंह पटेल व उसके तीन साथियों को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए इन आरोपितों में प्रयागराज के विशप जानसन गर्ल्स कॉलेज का परीक्षा नियंत्रक अर्पित विनीत और पारा स्थित जीडी मेमोरियल पब्लिक स्कूल का प्रिंसिपल अभिषेक शुक्ला भी हैं। इस स्कूल का मैनेजर सौरभ शुक्ला पहले ही पकड़ा जा चुका है। मुख्य मास्टरमाइंड राजीव नयन ने गिरफ्तार होने पर डॉ. शरद का नाम लिया था। शरद ने 25 लाख रुपये में राजीव नयन को प्रयागराज स्थित विशप जॉनसन गर्ल्स स्कूल से लीक कराया हुआ पर्चा व्हाट्सऐप पर भेजा था। 

डॉ. शरद इससे पहले भी कई प्रतियोगी परीक्षाओं का पर्चा लीक कराने में शामिल रहा है। इस मामले में कई और लोग भी एसटीएफ की रडार पर है। गिरफ्तार आरोपितों के पास दो लाख रुपये, दो लग्जरी गाड़ियां समेत कई दस्तावेज मिले हैं। इस गिरोह के लोग सिपाही भर्ती परीक्षा का पर्चा लीक कराने में भी शामिल रहे हैं। एसटीएफ के एडीजी अमिताभ यश के मुताबिक मास्टरमाइंड डॉ. शरद सिंह पटेल मूल रूप से मिर्जापुर के चुनार का रहने वाला है। लखनऊ में वृंदावन योजना स्थित लवनेस्ट अपार्टमेंट में रह रहा था। उसे वृंदावन योजना में कालिंदी पार्क के पास पकड़ा गया है। 

उसके साथ पकड़े गये लोगों में राजा बाजार निवासी जीडी मेमोरियल पब्लिक स्कूल का प्रिंसिपल अभिषेक शुक्ला, प्रयागराज के झूसी निवासी कमलेश कुमार पाल और प्रयागराज के कैंट निवासी व विशप जानसन गर्ल्स कॉलेज का परीक्षा नियंत्रक अर्पित विनीत यशवंत हैं। एसटीएफ के डिप्टी एसपी लाल प्रताप सिंह ने बताया कि 14 मार्च को इस मामले में बर्खास्त सिपाही अरुण कुमार सिंह और पारा स्थित जीडी मेमोरियल पब्लिक स्कूल का प्रबन्धक सौरभ शुक्ला को पकड़ा गया था। इन दोनों ने ही सबसे पहले राजीव नयन की अहम भूमिका का खुलासा किया था। इसके बाद ही दो अप्रैल को नोएडा में एसटीएफ ने राजीव को पकड़ा था। इस दौरान ही अमित सिंह का नाम सामने आया था। अमित चार अप्रैल को गिरफ्तार किया जा चुका है। वह गोमतीनगर में कामर्स की कोचिंग चलाता था। अमित ने खुलासा किया था कि डॉ. शरद व उसके साथियों ने पलासियो माल के पास चार लग्जरी गाड़ियों में मोटी रकम लेकर अभ्यर्थियों को लीक पर्चा पढ़वा कर उसका उत्तर रटवाया था।

वृंदावन योजना में गिरोह के सदस्यों को बुलाया था

डिप्टी एसपी लाल प्रताप सिंह को पता चला था कि शरद पटेल ने गिरोह के कुछ लोगों को फ्लैट के पास बुलाया है। इनके साथ उसे मीटिंग करनी थी। यह पता चलते ही इंस्पेक्टर अंजनी तिवारी, आदित्य सिंह समेत पूरी टीम वहां पहुंच गई और शरद व उसके तीन साथियों को गिरफ्तार कर लिया। एसटीएफ ने गिरफ्तार चारों आरोपितों को कौशाम्बी भेज दिया है। कौशाम्बी में ही इनके खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था।