ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशलखनऊ में पूर्व आईएएस की पत्नी की हत्या कर लूटपाट का खुलासा, एक करोड़ के जेवर भी बरामद

लखनऊ में पूर्व आईएएस की पत्नी की हत्या कर लूटपाट का खुलासा, एक करोड़ के जेवर भी बरामद

लखनऊ में पूर्व आईएएस की पत्नी की हत्या कर लूटपाट के मामले का खुलासा हो गया है। दो ड्राइवरों ने ही वारदात को अंजाम दिया था। दोनों सगे भाई हैं। दोस्त को भी मिलाया था। तीनों गिरफ्तार हो गए हैं।

लखनऊ में पूर्व आईएएस की पत्नी की हत्या कर लूटपाट का खुलासा, एक करोड़ के जेवर भी बरामद
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,लखनऊTue, 28 May 2024 10:45 PM
ऐप पर पढ़ें

इंदिरानगर में पूर्व आईएएस देवेंद्र नाथ दुबे की पत्नी मोहिनी की हत्या उनके दोनों ड्राइवरों अखिलेश यादव व रवि ने अपने दोस्त रंजीत के साथ मिलकर की थी। तीनों लोगों ने पहले ही तय कर रखा था कि अंदर जाते ही मोहिनी की हत्या करने के बाद लूटपाट करनी है। शनिवार को इन लोगों ने ऐसा ही किया। लूट के बाद आराम से आलमारी खंगाली, फिर करीब एक करोड़ रुपये के जेवर, नगदी व विदेशी मुद्रा लूट कर फरार हो गये थे। 

सीसी फुटेज से रंजीत का चेहरा सामने आने के बाद ही पुलिस इन तक पहुंची और सोमवार देर रात तीनों को गिरफ्तार कर लिया। मंगलवार को पुलिस अखिलेश को लेकर कुकरैल नाले के पास झाड़ियों में छिपाये गये जेवर व असलहे बरामद करने पहुंची। इस दौरान ही अखिलेश ने बैग से असलहा निकाल कर पुलिस पर फायरिंग कर दी। पुलिस की जवाबी फायरिंग में अखिलेश के पैर में गोली लग गई। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने दावा किया कि बरामद जेवर व विदेशी मुद्रा की कीमत करीब एक करोड़ रुपये है। 
रंजीत ने मोहिनी के पैर छुए, फिर अखिलेश ने बेरहमी से हत्या की
पुलिस कमिश्नर एसबी शिरडकर ने बताया कि कैंट के राजीवनगर निवासी अखिलेश यादव, उसके भाई रवि और पीजीआई नकखेड़ा निवासी रंजीत को गिरफ्तार किया गया है। दो सप्ताह पहले रवि और अखिलेश ने ही लूटपाट की साजिश रची थी। जेवर और रुपयों में एक तिहाई हिस्सा देने का लालच देकर रंजीत को साजिश में शामिल किया। शनिवार सुबह ड्राइवर रवि पूर्व आईएएस के घर पहुंचा। सात बजे करीब देवेंद्र के साथ वह गोल्फ क्लब के लिए निकला।

रास्ते में पहले से स्कूटी से आये अखिलेश और रंजीत को रवि ने इशारा कर दिया। ड्राइवरों को पता था कि सुबह करीब 7.15 बजे दूध देने के लिए इमरान आता है। ऐसे में दोनों ने कुछ देर इंतजार किया। दूधिए के घर से निकलते ही अखिलेश और रंजीत घर पहुंचे।

कॉलबेल बजने पर मोहिनी ने अखिलेश को देखा तो उन्होंने गेट खोल दिया। अखिलेश ने रंजीत का परिचय कराया और कहा कि यह उसके काम में हाथ बंटा देगा। रंजीत ने मोहिनी के पैर छूए। इसी बीच अखिलेश ने पीछे से उनका गला दबा दिया। वह विरोध करने लगी तो उन पर पेंचकस से चेहरे पर वार कर दिये। फिर दुपट्टे से गला कस कर हत्या कर दी। 

पुलिस पर फायरिंग कर भागने का प्रयास किया
जेसीपी क्राइम आकाश कुलहरि ने बताया कि सीसी फुटेज से आरोपितों तक पहुंचने में मदद मिली। मंगलवार को अखिलेश, रवि और रंजीत को गिरफ्तार किया। पूछताछ में लूटे गए जेवर सर्वोदय नगर कुकरैल नाले के पास छिपाए जाने की जानकारी दी। जिन्हें बरामद करने के लिए पुलिस अखिलेश को कुकरैल नाले के पास पहुंची। जीप से उतर कर अखिलेश झाड़ियों की तरफ बढ़ा।

जहां छिपाए गए बैग में से असलहा निकाल कर पुलिस पर फायरिंग करते हुए वह भागने लगा। पुलिस की तरफ से चलाई गई गोली पैर में लगने से अखिलेश लड़खड़ा कर गिर पड़ा। इस पर पुलिस ने उसे पकड़ लिया। झाड़ियों से मिले बैग से करीब एक करोड़ के गहने और घर से उखाड़ा गया डीवीआर बरामद हो गया है।