DA Image
Friday, December 3, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशपूर्व विधानसभा अध्यक्ष सुखदेव राजभर का निधन, मायावती के साथ ही कल्याण और मुलायम कैबिनेट में मंत्री रहे

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सुखदेव राजभर का निधन, मायावती के साथ ही कल्याण और मुलायम कैबिनेट में मंत्री रहे

आजमगढ़। संवाददाताYogesh Yadav
Tue, 19 Oct 2021 12:02 AM
पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सुखदेव राजभर का निधन, मायावती के साथ ही कल्याण और मुलायम कैबिनेट में मंत्री रहे

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष और आजमगढ़ की दीदारगंज क्षेत्र से बसपा विधायक सुखदेव राजभर का सोमवार को निधन हो गया। वह तीन दिन से गोमतीनगर स्थित चंदन हॉस्पिटल में भर्ती हुए थे। चंदन अस्पताल के एमडी डॉ. फारुख अंसारी ने बताया कि सुखदेव राजभर गुर्दे के बीमारी से पीड़ित थे। डायलसिस चल रही थी। जहां सोमवार की रात साढ़े आठ बजे उनका निधन हो गया। सुखदेव राजभर मायावती के साथ ही मुलायम और कल्याण सिंह कैबिनेट में भी मंत्री बने। सुखदेव के निधन पर सीएम योगी और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने दुख जताया है। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने शोक संदेश में कहा कि सुखदेव राजभर का निधन अत्यंत दु:खद है। प्रभु श्रीराम से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान और शोकाकुल परिजनों को यह दु:ख सहने की शक्ति प्रदान करें। अखिलेश ट्वीट करते हुए लिखा कि अत्यंत दु:खद! यूपी विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष एवं वरिष्ठ राजनेता श्री सुखदेव राजभर जी का निधन अपूरणीय क्षति। शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना, दिवंगत आत्मा को शांति दे भगवान! 'सामाजिक न्याय' को समर्पित आप का राजनीतिक जीवन सदैव प्रेरणा देता रहेगा। विनम्र श्रद्धांजलि!

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष के निधन से ना केवल पार्टी को झटका लगा। बल्कि पिछड़ों ने भी एक अच्छा नेता खो दिया। उनके निधन से क्षेत्र में शोक की लहर है। लालगंज के बसपा बिधायक एवं सुखदेव के करीबियों में से एक आजाद अरिमर्दन, पूर्व ब्लाक प्रमुख मास्टर अलीम ने गहरा दुख प्रकट किया है। 

सुखदेव लालगंज क्षेत्र से चार बार विधायक रहे। सुखदेव राजभर ने अपना पहला चुनाव साल 1991के विधान सभा चुनाव में भाजपा के नरेन्द्र सिंह को 24 मतों से पराजित कर जीता और विधायक बने थे। 1993 में सपा-बसपा गठबंधन की सरकार में मंत्री बने। 1996 के चुनाव में भाजपा के नरेन्द्र सिंह से पराजित हुए। पराजित होने के बाद विधान परिषद सदस्य चुन लिए गए।

2002 के चुनाव और 2007के चुनाव में फिर से जीते थे। लालगंज विधान सभा सुरक्षित हो जाने पर 2012 में दीदारगंज विधान सभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा और सपा के आदिल शेख से चुनाव हार गए। 2017 में पुनः दीदारगंज से चुनाव लड़े और जीत गए।

मायावती, कल्याण सिंह और मुलायम कैबिनेट में मंत्री रहे

सुखदेव राजभर मायावती, कल्याण सिंह और मुलायम सिंह यादव की कैबिनेट में मंत्री भी रहे। प्रदेश की 11वीं, 12वीं, 14वीं, 15वीं और 17वीं विधान सभा में विधायक रहे सुखदेव राजभर का जन्म 5 सितम्बर 1951 को आजमगढ़ के बडगहन में हुआ था। बीएससी व एलएलबी की शिक्षा प्राप्त सुखदेव राजभर ने अपने सफर की शुरूआत वकालत से की थी। एक पुत्र व पांच पुत्रियों के पिता सुखदेव राजभर मई-जून 1991 में हुए ग्यारहवीं विधान सभा के चुनाव में पहली बार विधायक बने। वह अनुसूचित जातियों, जन जातियों और विमुक्त जातियां सम्बंधी समिति के सदस्य भी रहे।

अप्रैल-मई 1993 में बारहवीं विधान सभा के मध्यावधि चुनाव में दूसरी बार विधायक बने और 1993 से 1995 तक मुलायम सिंह यादव व मायावती के मंत्रिमण्डल में सहकारिता, माध्यमिक, बेसिक शिक्षा व प्रौढ़ शिक्षा विभाग के राज्य मंत्री रहे। जनवरी 1997 में विधान परिषद के सदस्य चुने गये  और तत्कालीन कल्याण सिंह मंत्रिमण्डल में मंत्री रहे।  फरवरी 2002 तक वह एमएलसी रहे। फरवरी 2002 में चौदहवीं विधान सभा के चुनाव में तीसरी बार विधायक निर्वाचित हुए। मई 2002 से अगस्त 2003 तक संसदीय कार्य मंत्री रहे, इसके तत्कालीन मायावती मंत्रिमण्डल में   वस्त्रोद्योग व रेशम विभाग के मंत्री रहे। 

2002 से 2003 के बीच विधान सभा की नियम समिति के सदस्य रहे। 2002 से 2004 के बीच कार्य मंत्रणा समिति के सदस्य रहे। 2005 से 2012 के बीच पन्द्रहवीं विधान सभा के चौथी बार सदस्य चुने गये। 2007 से 2012 के बीच प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष पद को सुशोभित किया। उन्होंने आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैण्ड, सिंगापुर व हांगकांग की विदेश यात्राएं भी कीं।
 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें