ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश19 साल बाद मिला इंसाफ; दवा कारोबारी की हत्या में पांच को उम्रकैद की सजा, जानें पूरा मामला

19 साल बाद मिला इंसाफ; दवा कारोबारी की हत्या में पांच को उम्रकैद की सजा, जानें पूरा मामला

19 साल पहले दवा कारोबार में प्रतिद्वंद्विता को लेकर व्यापारी की होली मारकर हत्या के मामले में कोर्ट ने 5 को उमक्रैद की सजा सुनाई है। साथ ही 20-20 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है।

19 साल बाद मिला इंसाफ; दवा कारोबारी की हत्या में पांच को उम्रकैद की सजा, जानें पूरा मामला
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,लखनऊTue, 07 May 2024 10:42 PM
ऐप पर पढ़ें

दवा कारोबार में प्रतिद्वंद्विता को लेकर व्यापारी कपिल रस्तोगी की गोली मारकर हत्या के मामले में रितेश उर्फ गुड्डू, संतोष रस्तोगी, दीप रस्तोगी, राजीव रस्तोगी और विवेक प्रकाश रस्तोगी को अपर सत्र न्यायाधीश नरेंद्र कुमार ने उम्रकैद और 20-20 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। कोर्ट ने इसी मामले में संतोष रस्तोगी को आर्म्स एक्ट के अपराध में तीन साल के कठोर कारावास और दो हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। 

मुकदमे की पैरवी के लिए डीएम की ओर से सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता मोहम्मद इंतजार अहमद गाजी को नामित किया गया था। उन्होंने अदालत को बताया कि मामले की रिपोर्ट वादी मुकदमा डॉ. शीतला रस्तोगी ने 25 दिसंबर 2005 को पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर दर्ज कराया था। कोर्ट को बताया गया कि घटना के बाद वह रिपोर्ट दर्ज कराने थाना ठाकुरगंज गए तो उसे पता चला कि विरोधियों ने उनका फर्जी हस्ताक्षर बनाकर रिपोर्ट दर्ज करा दी है। डीजीपी को भेजे पत्र में कहा गया है कि कपिल रस्तोगी उनके इकलौता बेटे और खियामल मार्केट में दवा का थोक विक्रेता थे। 28 जून 2005 की रात करीब 10 बजे आरोपी दीप रस्तोगी के शादी समारोह में भाग लेने रोहिया बैक्वेट हॉल गए थे। वहां हरिश्चंद्र के बेटे राजीव, रामकिशोर के छोटे भाई रितेश और हरिश्चंद्र के साढू और दामाद के हाथ में बंदूकें और रिवाल्वर थीं। 

दीप रस्तोगी, राजीव रस्तोगी, रितेश रस्तोगी तीनों ही दवा का कारोबार करते हैं और कपिल से रंजिश रखते थे। बताया कि मौका पाकर अचानक रितेश ने उनके बेटे के सीने में गोली मार दी, जिससे उसकी मौके पर मौत हो गई। कोर्ट ने आदेश में कहा है कि आरोपियों के अपराध प्रकृति और उम्र देखते हुए आजीवन कारावास की सजा से दंडित किया जाना न्यायोचित है। अदालत द्वारा दंडित किए गए तीन आरोपी जनपद लखनऊ के भिन्न-भिन्न क्षेत्रों के रहने वाले हैं। संतोष रस्तोगी वाराणसी के महेशपुर लहरतारा गांव, विवेक प्रकाश रस्तोगी जनपद कौशांबी के सराय आकिल निवासी है।