ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशमतदान के बाद मारपीट, हरदोई में बीएसपी के पोलिंग एजेंट की मौत; गांव में तनाव 

मतदान के बाद मारपीट, हरदोई में बीएसपी के पोलिंग एजेंट की मौत; गांव में तनाव 

हरदोई जिले में बिलग्राम कोतवाली क्षेत्र के गांव गनीपुर में चुनावी विवाद और पुरानी रंजिश में मतदान समाप्त होने के बाद BSP के पोलिंग एजेंट की पिराई की गई। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

मतदान के बाद मारपीट, हरदोई में बीएसपी के पोलिंग एजेंट की मौत; गांव में तनाव 
Ajay Singhहिन्‍दुस्‍तान,हरदोईTue, 14 May 2024 11:21 AM
ऐप पर पढ़ें

Death due to beating after voting: यूपी के हरदोई जिले में बिलग्राम कोतवाली क्षेत्र के गांव गनीपुर में चुनावी विवाद और पुरानी रंजिश में मतदान समाप्त होने के बाद बसपा पोलिंग एजेंट की पिराई की गई। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

जानकारी के मुताबिक गनीपुर गांव निवासी यदुनंदन बसपा का पोलिंग एजेंट बना हुआ था। बताया गया कि यहीं पर ग्राम प्रधान प्रतिनिधि और उनके साथियों के साथ दिन में वोटिंग को लेकर कुछ तनातनी हुई थी। आरोप है कि शाम को मतदान समाप्त होने के बाद मतदान केंद्र से यदुनंदन बाहर निकला। इसके बाद रास्ते में मौजूद विपक्षियों ने उसे पकड़ लिया। फिर बेरहमी से लाठी डंडों से पीट-पीटकर मारना सन कर दिया। बचाने गई पत्नी और बच्चों को भी पीटा। मृत समझकर सभी भाग गए।

परिवार के लोगों ने पहले उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया हालत नाजुक होने पर लखनऊ रेफर किया गया। मंगलवार सुबह इलाज के दौरान यदुनंदन की मौत हो गई। घटना के बाद से गांव में तनातनी का माहौल है। ग्रामीण बताते हैं कि दोनों पक्षों में पहले भी तनातनी हो चुकी है। मुकदमेबाजी भी चल रही है। उधर थानाध्यक्ष नारायण कुशवाहा का कहना है कि मामले की जानकारी किसी ने नही दी है। कोई भी व्यक्ति थाने शिकायत करने नहीं आया है। तहरीर मिलने पर रिपोर्ट दर्ज कर कारवाई की जायेगी।

पुलिस पर लगे गंभीर आरोप
मारपीट की घटना परिवार के लोगों ने स्थानीय पुलिस को दी । आरोप है कि मौके पर दरोगा पहुंचे। वहां पर जब यदुनंदन के बेटे ने पूरी वारदात का वीडियो दरोगा को दिखाया तो उन्होंने पहले उसे धमका करके वह वीडियो डिलीट कर दिया। फिर बिना कोई कार्रवाई किए भगा दिया । पत्नी का आरोप है पुलिस की मिली भगत से उसके पति की हत्या कर दी गई । कोई रिपोर्ट तक नहीं लिखी गई । यहां तक कि बिना पुलिस की कार्रवाई के ही उन्हें इलाज के लिए दौड़ना पड़ा। पुलिस इन आरोपों को झूठा करार दे रही है।