field gun sarang will become important asset to indian army sarang and dhanush - सेना के बेड़े में शामिल होंगी धनुष और सारंग, जानें इनकी खासियतें DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेना के बेड़े में शामिल होंगी धनुष और सारंग, जानें इनकी खासियतें 

dhanush

ऑर्डिनेंस फैक्ट्री कानपुर और फील्ड गन फैक्ट्री में तैयार ‘धनुष' (DHANUSH) और ‘सारंग'  (SARANG) जल्द सैन्य बेड़े में शामिल होंगी। फरवरी में एक भव्य समारोह में दोनों को औपचारिक रूप सेना में शामिल किया जाएगा। दोनों ही गन सेना के हर परीक्षण में पूरी तरह से खरी उतरी हैं।

कुंभ की टेंट सिटी में मिलेंगे लग्जरी कॉटेज, ऐसे कराएं बुकिंग

बोफोर्स तोप (broforce) की जगह ‘धनुष' को तैनात करने का काम शुरू हो चुका है। पूरी तरह से स्वदेशी ‘धनुष' तोप दुनिया की सबसे मारक तोपों में से एक है। बोफोर्स की तुलना में इसकी मारक क्षमता 18 किलोमीटर ज्यादा है। अभी 414 तोप बनाने का लक्ष्य है लेकिन ये संख्या और बढ़ेगी। ‘धनुष' की सफलता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इसे 31 साल पुरानी बोफोर्स की जगह तैनात किया जाएगा। सेना को देने से पहले इससे 2000 राउंड फायर किए गए। सेना ने भी हरी झंडी देने से पहले सियाचीन और राजस्थान में करीब 1500 राउंट टेस्ट फायर किए, तब इसे अपने बेड़े में शामिल किया। 

IS का नया मॉड्यूल: सुहैल समेत चारों संदिग्ध हनी ट्रैप का शिकार!

सारंग तोप रूसी तोप एम-46 टाउड को रिप्लेस करेगी। यह तोप 1968 से सेना के पास है। इसका कैलिबर 130 एमएम है। इसे ओएफसी और फील्डगन फैक्ट्री कानपुर मिलकर तैयार करेंगे। 

इजरायली तोप सॉल्टम का स्वदेशी संस्करण है सारंग
सारंग इजरायली तोप सॉल्टम का ही आधुनिक संस्करण है। इसकी कैलिबर 135 अब 155 एमएम की गई है। मार्च 2018 में हुए कई परीक्षणों में इस तोप ने भारत फोर्ज और पुंजलॉयड की तोपों को पछाड़ कर ओपेन बिड में सेना से ऑर्डर हासिल किया था। वर्ष 2022 तक तीन सौ तोपों का निर्माण कर सेना को दिया जाना है। 

धनुष की यह खासियत

- धनुष देश की पहली तोप हैं जिसमें 90 फीसदी कलपुर्जे भारत में बने हैं
- बैरल का वजन 2692 किलो
- रेंज 46 किलोमीटर तक
- दो फायर प्रति मिनट में दो घंटे तक लगातार फायर करने में सक्षम 
- तीन फायर प्रति मिनट में डेढ़ घंटे तक लगातार फायर
- 12 फायर प्रति मि. कर सकती धनुष
- फिट होने वाले एक गोले का वजन 46.5 किलो 
- माइनस 3 से 55 डिग्री सेल्सियस तक काम करने में सक्षम
- धनुष का बैरल रूसी और यूरोपियन टेक्नोलॉजी को मिला तैयार किया गया, किसी भी सूरत में फटेंगे नहीं 

सारंग की खासियत 
- 70 डिग्री तक मूव किया जा सकता है 
- पहाड़ों में छिपे दुश्मनों को तबाह करने की विशेष क्षमता

पांच तोपों में भारत का धनुष

- बोफोर्स बीओ-5    स्वीडन
- एम 46- एस    इजरायल
- जीसी 45                 कनाडा
- नेक्सटर                 फ्रांस
- धनुष                 भारत

यूपी का ये शहर देश में सबसे ज्यादा प्रदूषित, यहां की हवा ज्यादा खराब

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:field gun sarang will become important asset to indian army sarang and dhanush