ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशताजमहल पर महिला पर्यटकों ने फहराया मलेशियाई झंडा, फिर शूट कराने लगीं फोटो, ASI ने की सख्ती तो मांगी माफी

ताजमहल पर महिला पर्यटकों ने फहराया मलेशियाई झंडा, फिर शूट कराने लगीं फोटो, ASI ने की सख्ती तो मांगी माफी

आगरा स्थित ताजमहल में आए दिन पर्यटकों द्वारा प्रतिबंधित सामग्री ले जाए जाने के मामले प्रकाश में आ रहे हैं। अधिकतर मामलों में जानकारी न होने की बात कहकर लिखित माफीनामा दे दिया...

ताजमहल पर महिला पर्यटकों ने फहराया मलेशियाई झंडा, फिर शूट कराने लगीं फोटो, ASI ने की सख्ती तो मांगी माफी
Dinesh Rathourमुख्य संवाददाता,आगराThu, 15 Feb 2024 06:54 PM
ऐप पर पढ़ें

आगरा स्थित ताजमहल में आए दिन पर्यटकों द्वारा प्रतिबंधित सामग्री ले जाए जाने के मामले प्रकाश में आ रहे हैं। अधिकतर मामलों में जानकारी न होने की बात कहकर लिखित माफीनामा दे दिया जाता है। ताजमहल में सख्ती के बाद भी इस तरह के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे। एक ऐसा ही केस गुरुवार को भी सुबह लगभग 9:30 बजे देखने को मिला। मलेशियाई महिला पर्यटकों ने अपने देश के झंडे को ताजमहल परिसर में लहरा दिया। यही नहीं उन्हें किसी ने टोका तक नहीं। इस पर वह फोटो शूट भी कराती रहीं। बाद में माफीनामा देने के बाद उन्हें जाने दिया गया। विश्व दाय स्मारक होने के कारण यहां कई तरह के प्रतिबंध भी हैं।

गुरुवार की सुबह मलेशिया का एक समूह ताज के दीदार के लिए पहुंचा। इसमें लगभग 10 महिलाएं शामिल थीं। एक भारतीय पुरुष भी उनके साथ था। ये महिला पर्यटक ताजमहल परिसर में सेंट्रल टैंक के पास पहुंचीं। उन्होंने बैग में रखे अपने देश के झंडे को निकाला और फोटो शूट करने लगीं। यह मलेशियाई महिला दल काफी देर तक ताज परिसर में फोटो शूट कराता रहा और लोग इधर से उधर गुजरते रहे। इस दौरान एएसआई और सुरक्षाकर्मियों ने इस गतिविधि को देख लिया। उन्हें रोका गया और कार्यालय लाकर पूछताछ की गई। हालांकि तब तक मलेशियायी महिलाओं का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। पुरातत्व विभाग एवं सुरक्षा एजेंसियों में हड़कंप मच गया।

इस संबंध में एएसआई के अधिकारियों का कहना है कि सुरक्षा में तैनात कर्मचारियों से बड़ी चूक हुई है। उन्होंने बताया कि घटना के दौरान किन-किन कर्मचारियों की वहां पर ड्यूटी थी उन सभी कर्मचारियों से स्पष्टीकरण मांगा गया है। उन्होंने बताया कि झंडे का कपड़ा बहुत महीन प्रतीत होता है, इसलिए पर्यटक ताज परिसर में उसे अपने पर्स में रखकर ले गए। वहीं  ताजमहल के वरिष्ठ संरक्षण सहायक प्रिंस वाजपेयी का कहना है कि मलेशिया से आई महिलाओं ने बताया कि उनको इसकी जानकारी नहीं थी। उनके साथ आए भारतीय पर्यटक ने लिखित में माफीनामा लिखकर दे दिया। इसके बाद उन्हें जाने दिया गया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें