Wednesday, January 19, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशनए वैरिएंट का खौफ: किसी भी देश से लौटे लोग सर्विलांस पर लिए गए, जीनोम सीक्वेंसिंग होगी

नए वैरिएंट का खौफ: किसी भी देश से लौटे लोग सर्विलांस पर लिए गए, जीनोम सीक्वेंसिंग होगी

संवाददाता ,कानपुर Amit Gupta
Tue, 30 Nov 2021 11:35 AM
नए वैरिएंट का खौफ: किसी भी देश से लौटे लोग सर्विलांस पर लिए गए, जीनोम सीक्वेंसिंग होगी

इस खबर को सुनें

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रान की दहशत के बीच स्वास्थ्य विभाग ने विदेश से आने वाले यात्रियों की आरटीपीसीआर जांच के साथ जीनोम सीक्वेंसिंग कराने का फैसला किया है। अभी तक प्रभावित सात देशों से आने वाले लोगों की ही जांच की बात कही गई थी मगर अब नई गाइडलाइन के हिसाब से किसी भी देश से आने वाले लोगों की जांच होगी। उनके नमूने जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे जाएंगे। एयरपोर्ट पर ही सैम्पल लिए जाएंगे। अगर दिल्ली या लखनऊ एयरपोर्ट से कानपुर किसी अन्य साधन से आए हैं तो विदेश मंत्रालय रोजाना सूची अपडेट करेगा।

विदेश से लौटे लोगों की एक सूची स्वास्थ्य विभाग को सौंपी भी गई है जिसके आधार पर सैम्पल लेने का काम शुरू हो गया है। सीएमओ डॉ. नेपाल सिंह के मुताबिक स्क्रीनिंग टीमें सक्रिय कर दी गई हैं। जो लोग विदेश से लौटे हैं वह सात दिन के लिए घर में क्वारंटीन रहेंगे। जांच निगेटिव भी आती है तो भी क्वारंटीन रहना होगा। अगर किसी यात्री में लक्षण देखे जाते हैं और रिपोर्ट निगेटिव रहती है तो सात दिन बाद उनकी दोबारा आरटीपीसीआर और जीनोम जांच होगी। लक्षण खत्म होने तक वह क्वारंटीन रहेंगे। जो लोग विदेश से लौटे हैं वह स्वत: सीएमओ कंट्रोल रूम को सूचना दे दें।

ऑक्सीजन-दवाओं के इंतजाम में जुटे

तीसरी लहर के गम्भीर खतरे की आशंका के बीच स्वास्य विभाग ने दूसरे स्तर पर भी तैयारी शुरू कर दी है। ऑक्सीजन की उपलब्धता और दवाओं के इंतजाम पर चर्चा हो रही है। उन सभी अस्पतालों को निर्देश दिए गए हैं जहां ऑक्सीजन जनरेटर लगे हैं, कि वह अलर्ट रहें। इस बीच अभी तक कोरोना के इलाज में जो भी दवा का प्रयोग किया गया है उसके रिकार्ड और स्टाक बनाए जा रहे हैं। निगरानी समितियों को सक्रिय किया है। कोरोना किट दोबारा तैयार कराई जा सकती है। उधर स्वास्थ्य विभाग ने ड्रग अथॉरिटी से कहा है कि वह बाजार में उपलब्ध कोविड की दवाओं को लेकर भी अलर्ट रहें। किसी तरह पैनिक नहीं होने पाए। सीएमओ डॉ. नेपाल सिंह का कहना है कि कोरोना का संकट बरकरार है यह ओमिक्रान के साथ खतरा बढ़ा भी है। ऐसे में तैयारियों की समीक्षा शुरू कर दी गई है। सभी अस्पतालों में जहां कोविड के इलाज का प्रबंध किया गया है वहा माक ड्रिल में पाई कमियों को एक सप्ताह के अंदर दूर करने को कहा गया है।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें