ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी के किसानों को दो दिनों में मिलेगी खुशखबरी, गन्ना मूल्य में इतने रुपए प्रति कुंतल होगी बढ़ोत्तरी

यूपी के किसानों को दो दिनों में मिलेगी खुशखबरी, गन्ना मूल्य में इतने रुपए प्रति कुंतल होगी बढ़ोत्तरी

गन्ना मूल्यों में बढ़ोतरी का इंतजार कर रहे किसानों को अगले दो दिनों में ही खुशखबरी मिलने वाली है। गन्ना विकास व चीनी उद्योग मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण ने बताया कि पूरी तैयारी कर ली गई है।

यूपी के किसानों को दो दिनों में मिलेगी खुशखबरी, गन्ना मूल्य में इतने रुपए प्रति कुंतल होगी बढ़ोत्तरी
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,लखनऊTue, 09 Jan 2024 06:47 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के गन्ना किसानों के लिए बहुत जल्द खुशखबरी आने वाली है। प्रदेश सरकार चालू पेराई सत्र के लिए बहुप्रतीक्षित गन्ने का राज्य परामर्शी मूल्य घोषित करने की तैयारी कर चुकी है। राज्य के गन्ना विकास व चीनी उद्योग मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण ने मंगलवार को 'हिन्दुस्तान' से बातचीत में साफ कहा कि बस एक-दो दिन में गन्ना मूल्य तय कर दिया जाएगा। विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस बार प्रदेश सरकार गन्ना किसानों को खुश करेगी। दो साल बाद इस बार गन्ने के राज्य परामर्शी मूल्य में 15 से 25 रुपये प्रति कुंतल की बढ़ोत्तरी हो सकती है। 

इसके साथ ही राज्य की चीनी मिलों पर इस बढ़ोत्तरी की वजह से पड़ने वाले व्यय भार को कम करने के लिए प्रदेश सरकार मिलों को भी एक से दो रुपये की परिवहन भाड़े में राहत दे सकती है। गन्ना मूल्य घोषित न होने की वजह से चीनी मिलें परेशान हैं, किसान उन्हें गन्ना आपूर्ति के बजाए कोल्ड व खांडसारी इकाइयों को अपना गन्ना दे रही हैं। बदले में उन्हें 360 से 370 और कही-कहीं 400 रुपये कुंतल का भाव भी मिल रहा है।

उधर, एथानॉल उत्पादन पर लगी पाबंदी की वजह से भी चीनी मिलों की भुगतान क्षमता पर असर पड़ने की आशंका जताई जा रही है। इस पर गन्ना मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार से जितने एथॉनॉल उत्पादन का एग्रीमेंट हुआ है, यूपी में उतना एथेनॉल तो बनेगा ही। उस एग्रीमेंट सीमा के बाद भी एथेनॉल बनाने के लिए केन्द्रीय खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री पीयूष गोयल से बातचीत हो सकती है।  गन्ना मूल्य बढ़ा तो चीनी मिलों की भुगतान क्षमता प्रभावित होगी क्योंकि बाजार में चीनी के दाम भी अब गिरने लगे हैं। 

गन्ना मंत्री ने कहा कि बाजार में चीनी के दाम नहीं गिर रहे जबकि चीनी उद्योग के प्रतिनिधियों का कहना है कि हाल के दिनों में चीनी के दाम में दो रुपये किलो की कमी आ चुकी है। उधर, गन्ना किसानों की तरफ से उत्तर प्रदेश गन्ना सहकारी समिति संघ की पूर्व निदेशक मंजू सिंह ने मांग की है कि किसानों की उत्पादन लागत में हुए इजाफे को देखते हुए इस बार गन्ना मूल्य 400 रुपये प्रति कुंतल घोषित किया जाए।

मंत्री ने कहा कि इस बार जो भी गन्ना मूल्य तय होगा वह मिलों को पहले दिन से हुए गन्ना आपूर्ति पर लागू होगा। प्रदेश सरकार आज कल में ही गन्ना मूल्य तय करने का प्रयास कर रही है। जहां तक गन्ना मूल्य तय न होने से चीनी मिलों के बजाए कोल्हू व खांडसारी को गन्ना डायवर्ट होने की मिलों की शिकायतों का प्रश्न है तो यह तो किसान की मर्जी है वह जहां चाहे अपना गन्ना बेचें।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें