ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशबिजली का बिल जमा कर दिए हैं तो भी रहें सावधान, कहीं फंसा न दे SMS और कॉल

बिजली का बिल जमा कर दिए हैं तो भी रहें सावधान, कहीं फंसा न दे SMS और कॉल

गोरखपुर जोन के उपभोक्ताओं को पिछले कई दिनों से पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड का कर्मचारी बनकर फर्जी तरीके से कॉल और मैसेज कर बिल जमा करने के निर्देश देने के मामले सामने आ रहे हैं।

बिजली का बिल जमा कर दिए हैं तो भी रहें सावधान, कहीं फंसा न दे SMS और कॉल
Ajay Singhकार्यालय संवाददाता,गोरखपुरMon, 27 May 2024 09:35 AM
ऐप पर पढ़ें

Electricity Bill News: गोरखपुर जोन के उपभोक्ताओं को पिछले 12 दिनों से पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड का कर्मचारी बनकर फर्जी तरीके से कॉल और मैसेज कर बिल जमा करने के निर्देश देने के मामले सामने आ रहे हैं। उपभोक्ताओं के मोबाइल नंबर पर व्हाट्सएप कर कनेक्शन काटने की धमकी दी जा रही है। झांसे में आने वाले उपभोक्ताओं को व्हाट्सएप पर एक लिंक भेजा जा रहा है।

यह फोन और मैसेज ऐसे नंबरों पर भी आ रहे हैं, जिनका बिल या तो जमा हो चुका है या फिर उनके नाम से कनेक्शन ही नहीं है। खास बात यह है कि जो लोग मैसेज या कॉल कर रहे हैं, उन्होंने व्हाट्सएप पर इलेक्ट्रिसिटी नाम की डीपी लगा रखी है। इसे लेकर गोरखपुर जोन के चीफ आशु कालिया ने निर्देश जारी किए हैं ।

पहले बिजली के फर्जी मैसेज भेजकर कर उपभोक्ताओं से बात करने की कोशिश की जा रही है। फिर बताया जा रहा है कि पेमेंट अपडेट नहीं है। इसके लिए व्हाट्सएप नंबर मांगकर लिंक भेजा जाता है। उस पर क्लिक करके पेमेंट कन्फर्म करने के लिए कहां जाता है। लिंक पर क्लिक करने पर ओटीपी जनरेट हो रहा है। हालांकि, राहत यह है कि उपभोक्ता अब तक ओटीपी नहीं बताए हैं, जिसकी वजह से वह ठगी से बच गए हैं।

गुलरिहा के रहने वाले प्रशांत कुमार के नाम से कोई कनेक्शन नहीं है। घर में पिता के नाम पर कनेक्शन है और उनका मोबाइल नंबर भी निगम के रिकॉर्ड में दर्ज है। इसके बाद भी प्रशांत के मोबाइल पर 9935200450 से फोन करके बिल जमा करने की बात कही गई। इसके लिए उसने उनके व्हाट्सएप पर लिंक भी भेजा गया। लिंक पर क्लिक करके पेमेंट करने को कहा, लेकिन प्रशांत ने समझदारी दिखाते हुए लिंक पर क्लिक नहीं किया और उस नंबर को ब्लॉक कर दिया।

राम जानकीनगर के रहने वाली शैलजा त्रिपाठी के मोबाइल पर पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड का कर्मचारी बनकर 7800050902 मोबाइल नंबर से बिल भुगतान अपडेट न होने का फोन आया। जबकि, शैलजा का एक भी रुपये बिजली का बिल बकाया नहीं है। इसी तरह शक्तिनगर के रहने वाले चंद्रशेखर सिंह के मोबाइल पर भी एक फर्जी नंबर से मैसेज आया कि प्रीपेड कनेक्शन का बिल बकाया है। जमा न करने पर कनेक्शन काट दिया जाएगा। जबकि, चंद्रशेखर का बिल जमा है।

क्‍या बोले अधिकारी 
बिजली निगम गोरखपुर जोन के प्रमुख आशु कालिया ने कहा कि उपभोक्ताओं को फर्जी एसएमएस और कॉल से सतर्क रहना चाहिए। बिल जमा करने के लिए निगम की तरफ से कोई भी लिंक नहीं भेजा जाता है। इस तरह के कॉल और मैसेज आएं सूचना 1912 पर दें।