ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशEtah Results 2024: एटा सीट पर सपा का कब्जा, भाजपा के राजवीर सिंह 28052 वोटों से हारे

Etah Results 2024: एटा सीट पर सपा का कब्जा, भाजपा के राजवीर सिंह 28052 वोटों से हारे

Etah Results 2024: एटा लोकसभा सीट पर भाजपा के राजवीर सिंह राजू लगातार तीसरी जीत दर्ज करने की उम्मीद लगाए बैठे थे, लेकिन यहां सपा के देवेश शाक्य ने जातीय वोटों को अपने पाले में खींच ली।

Etah Results 2024: एटा सीट पर सपा का कब्जा, भाजपा के राजवीर सिंह 28052 वोटों से हारे
Dinesh Rathourलाइव हिन्दुस्तान,एटाTue, 04 Jun 2024 11:31 PM
ऐप पर पढ़ें

Etah Results 2024 : एटा लोकसभा सीट पर भाजपा के राजवीर सिंह राजू लगातार तीसरी जीत दर्ज करने की उम्मीद लगाए बैठे थे, लेकिन यहां सपा के देवेश शाक्य ने जातीय वोटों को अपने पाले में खींच 28052 वोटों से निर्णायक बढ़त बना ली। समाजवादी पार्टी ने एटा सीट पर कब्जा जमा लिया है। सपा के देवेश शाक्य को 475808 वोट मिले। बीजेपी के राजवीर सिंह 447756 वोटों के साथ दूसरे स्थान पर रहे। तीसरे स्थान पर बसपा के मोहम्मद इरफान 71585 वोट के साथ रहे।

9:35 PM-एटा सीट पर भाजपा के राजवीर सिंह का सपना अधूरा रह गया। राजवीर सिंह सपा के देवेश शाक्य से चुनाव हार गए हैं। देवेश ने राजवीर को 27515 वोटों से पराजित किया है। देवेश को 474263 वोट मिले हैं जबकि राजवीर को 446748 वोट हासिल हुए हैं।

3.20 PM- एटा में 38479 वोटों की बड़ी बढ़त के साथ सपा के देवेश शाक्य सबसे आगे चल रहे हैं। उन्हें अब तक 270794 वोट मिले हैं। वहीं दूसरे स्थान पर बीजेपी के राजवीर सिंह हैं जिन्हें अब तक 232315 वोट मिले हैं।

1.15 PM- सपा के देवेश शाक्य 152055 वोटों के साथ सबसे आगे हैं। 12312 वोटों की बढ़त के साथ शाक्य पहले स्थान पर हैं। बीजेपी के राजवीर सिंह 142215 वोटों के साथ दूसरे स्थान पर हैं।

10:57 AM- एटा लोकसभा सीट पर शुरुआती रुझानों में सपा के देवेश शाक्य भाजपा के राजवीर सिंह से 339 वोटों से आगे चल रहे हैं। देवेश को अब तक 41926 वोट मिले हैं जबकि राजवीर सिंह को 4157 वोट हासिल हुए हैं।

एटा-कासगंज लोकसभा क्षेत्र बीजेपी के दिग्‍गज नेता और पूर्व मुख्‍यमंत्री कल्‍याण सिंह की कर्मभूमि रहा है। इस सीट पर 1952 में हुआ पहला संसदीय चुनाव कांग्रेस ने जीता था। 1957 और 1962 में हिन्‍दू महासभा के उम्‍मीदवार ने जीत दर्ज की थी। 1967 और 1971 के आम चुनाव में कांग्रेस की जोरदार वापसी हुई। 1977 में चौधरी चरण सिंह की भारतीय लोकदल ने जीत हासिल की। कांग्रेस उम्‍मीदवार ने 1980 में एक बार फिर इस सीट से जीत दर्ज की। 1984 में भारतीय लोकदल, 1989, 1991,1996 और 1998 में भाजपा के उम्‍मीदवार महकदीप सिंह शाक्‍य ने जीत दर्ज की।

1999 और 2004 में लगातार दो बार कु.देवेन्‍द्र सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी उम्‍मीदवार के तौर पर इस सीट से जीत हासिल की। 2009 के आम चुनाव में पूर्व मुख्‍यमंत्री कल्‍याण ने बीजेपी से अलग होकर अपनी पार्टी बनाई और यहां से जीत हासिल की। 2014 और 2019 में उनके बेटे राजवीर सिंह बीजेपी के ही टिकट पर मैदान में उतरे और वोटों के भारी अंतर से जीत हासिल की।