ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशइन एक्सप्रेस वे पर बिना बाधा फर्राटा भर सकेंगे इलेक्ट्रिक वाहन, बनेंगे 72 फास्ट चार्जिंग स्टेशन  

इन एक्सप्रेस वे पर बिना बाधा फर्राटा भर सकेंगे इलेक्ट्रिक वाहन, बनेंगे 72 फास्ट चार्जिंग स्टेशन  

यूपी में एक्सप्रेस वे पर इलेक्ट्रिक वाहन बिना बाधा फर्राटा भर सकेंगे। एक्सप्रेसवे के दोनों ओर पीपीपी मॉडल पर इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए 72 फास्ट चार्जिंग स्टेशन बनेंगे।

इन एक्सप्रेस वे पर बिना बाधा फर्राटा भर सकेंगे इलेक्ट्रिक वाहन, बनेंगे 72 फास्ट चार्जिंग स्टेशन  
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,लखनऊSat, 09 Dec 2023 06:04 AM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के पांच एक्सप्रेसवे के दोनों ओर पीपीपी मॉडल पर इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए 72 फास्ट चार्जिंग स्टेशन बनेंगे। इनमें पहले चरण में 26 स्टेशन विकसित होंगे। यहां इलेक्ट्रिक बसों की भी चार्जिंग की सुविधा होगी। साथ ही इन स्टेशनों पर बैटरी स्वैपिंग की भी सुविधा होगी। इसके जरिए वाहन चालक अपनी खराब बैटरी के बदले चार्ज्ड बैटरी ले सकेंगे। अगले साल जनवरी से चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने का काम शुरू हो जाएगा। 
उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवेज औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) इस काम को अंजाम दे रहा है और बिड प्रक्रिया दिसंबर तक पूरी हो जाने की उम्मीद है। 

इन एक्सप्रेसवे पर बनाने की तैयारी 
आगरा लखनऊ एक्सप्रेसवे वे में यह चार्जिंग स्टेशन आगरा, मैनपुरी, इटावा, कानपुर नगर, उन्नाव व लखनऊ में बनेंगे। आगरा व लखनऊ में एक्सप्रेसवे के दोनों ओर चार्जिंग स्टेशन बनाने की तैयारी है। इसी तरह बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के रास्ते बनने वाले चार्जिंग स्टेशन चित्रकूट, बांदा, हमीरपुर, जालौन, इटावा में पड़ेंगे। इटावा व जालौन में चार्जिंग स्टेशन दोनों ओर बनेंगे। पूर्वांचल एक्सप्रेसवे पर बाराबंकी में बाईं ओर, अमेठी में दाईं ओर, सुल्तानुपर में बाईं व दाईं ओर, आजमगढ़ में भी बाएं व दाहिने, मऊ में बाईं ओर व गाजीपुर में दाहिनी ओर चार्जिंग स्टेशन बनाए जाएंगे। गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे गोरखपुर व अम्बेडकर नगर में एक-एक चार्जिंग स्टेशन बनेगा जबकि गंगा एक्सप्रेसवे निर्माणाधीन है। इसके पूरा होने पर यहां भी दूसरे चरण में चार्जिंग स्टेशन बनेंगे।
अभी केवल आगरा लखनऊ एक्सप्रेसवे व यमुना एक्सप्रेसवे पर कुछ चार्जिंग स्टेशन काम करते हैं लेकिन वहां फास्ट चार्जिंग की सुविधा नहीं है। योगी सरकार ने राज्य में 2000 चार्जिंग स्टेशन बनाने की योजना बनाई है। इससे सबसे पहले यूपीडा ने इस पर काम शुरू कर दिया है। यूपीडा इसके लिए  निजी कंपनियों को इस साल के लिए लीज पर जमीन व सेटअप उपलब्ध करवाएगी। 
इनका कहना है 
यूपीडा अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने बताया कि हमारा फोकस इस बात पर रहेगा कि कौन सी कंपनी इलेक्ट्रिक वाहन चालकों के लिए चार्जिंग फीस कितनी कम रखती है। न्यूनतम दरों पर ही कंपनी का चयन होगा। जनसुविधा परिसर में भी यह सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। इनके बनने से एक्सप्रेसवे पर इलेक्ट्रिक वाहनों की तादाद और बढ़ेगी।  

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें