DA Image
1 जून, 2020|7:13|IST

अगली स्टोरी

कानपुर में भर्ती 8 विदेशी जमातियों ने मौलाना साद से की थी मुलाकात, इस्लाम के विस्तार को लेकर मिले थे टिप्स

up people joined tablighi jamaat  symbolic image

तबलीगी जमात के कोरोना पॉजिटिव पाए गए विदेशी नागरिकों ने न सिर्फ दिल्ली के निजामुद्दीन में हुए कार्यक्रम में शिरकत की थी, बल्कि फरार चल रहे जमात के मुखिया मौलाना साद से मुलाकात भी की थी। साद ने दस मिनट की बातचीत में इन्हें इस्लाम के विस्तार को लेकर टिप्स भी दिए थे।

कानपुर आईजी को इस मामले में इनपुट मिले हैं। उनका कहना है कि विदेशी नागरिकों के ठीक हो जाने पर उनसे पूछताछ की जाएगी। पुलिस ने सभी का ट्रैवेल्स रिकॉर्ड खंगालने के बाद शासन को रिपोर्ट भेजी है।

 

13 से 15 मार्च के बीच निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के कार्यक्रम में आठों विदेशी नागरिक ईरान के इब्राहिम फौलादी, अब्दुल रहीम मजदनी, यूनुस रेगी के साथ अफगानिस्तान के महमूद शाह हसैनी, शब्बीर अब्दुल रहीम, जरीन जायजान मोहम्मद, बारात रहमदुल्लाह और ब्रिटेन के दाऊद अयूब इस्माइल शामिल हुए थे। बताया जा रहा है कि साद ने आठों से कहा था कि अपने देश के अलावा जहां-जहां जा सकते हैं वहां प्रचार-प्रसार करें। उसके बाद सभी विदेशी कानपुर आ गए थे। आठ में छह कानपुर में क्वारंटीन में हैं तो बाकी दोनों कोरोना पॉजिटिव का हैलट में इलाज चल रहा है।

 

निकाह में भी जा सकते थे: इनपुट के मुताबिक अप्रैल में साद की बेटी का निकाह था। मौलाना के अंडरग्राउंड होने और कोरोना के प्रकोप के चलते निकाह टाल दिया गया है। इन विदेशी जमातियों को उसमें भी शामिल होना था। 

 

आईजी रेंज मोहित अग्रवाल ने कहा है कि विदेशी नागरिक दिल्ली में जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए थे। इनपुट मिले हैं कि इनकी मुलाकात जमात के प्रमुख मौलाना साद से भी हुई थी। विदेशी नागरिकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज है। यह पूरी तरह से ठीक हो जाए। उसके बाद इनसे कुछ इनपुट्स जुटाए जाएंगे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Eight forefingers who admitted in kanpur also met tablighi jamaat chief maulana sad in delhi