ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशशाइन सिटी घोटाले में ईडी की ताबड़तोड़ कार्रवाई, लखनऊ-दिल्ली समेत 22 ठिकानों पर की छापेमारी

शाइन सिटी घोटाले में ईडी की ताबड़तोड़ कार्रवाई, लखनऊ-दिल्ली समेत 22 ठिकानों पर की छापेमारी

ईडी ने निवेशकों के साथ धोखाधड़ी की आरोपी शाइन सिटी इंफ्रा प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ कार्रवाई फिर तेज कर दी है। ईडी ने फरार चल रहे राशिद नसीम समेत अन्य निदेशकों के 22 ठिकानों पर छापेमारी की।

शाइन सिटी घोटाले में ईडी की ताबड़तोड़ कार्रवाई, लखनऊ-दिल्ली समेत 22 ठिकानों पर की छापेमारी
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,लखनऊFri, 24 Nov 2023 09:34 PM
ऐप पर पढ़ें

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने निवेशकों के साथ धोखाधड़ी की आरोपी शाइन सिटी इंफ्रा प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ कार्रवाई फिर तेज कर दी है। ईडी ने कंपनी के फरार चल रहे सीएमडी राशिद नसीम समेत अन्य निदेशकों के 22 ठिकानों पर शुक्रवार को छापेमारी की। दिल्ली के अलावा यूपी के लखनऊ, वाराणसी, हरदोई व इलाहाबाद स्थित इन ठिकानों से ईडी को कई आपत्तिजनक दस्तावेज मिले हैं। ईडी अब तक कंपनी और उसके निदेशकों की 128.54 करोड़ से अधिक की संपत्तियां जब्त कर चुकी है। 

ईडी के लखनऊ जोन कार्यालय ने अक्टूबर 2023 में शाइन सिटी की वाराणसी में राजातालाब तहसील क्षेत्र स्थित 10.27 हेक्टेयर जमीन जब्त की थी। यह जमीन वर्ष 2015 में 17.92 करोड़ रुपये की खरीदी गई थी, जिसकी मौजूदा कीमत 100 करोड़ रुपये के करीब है। इससे पूर्व कंपनी के संचालकों की फतेहपुर, रायबरेली, जालौन, गोरखपुर, कानपुर व प्रयागराज स्थित संपत्तियों को जब्त किया गया था। ईडी ने कंपनी के सीएमडी राशिद नसीम, उसके भाई और एमडी आसिफ नसीम के अलावा निदेशकों अमिताभ कुमार श्रीवास्तव और मीरा श्रीवास्तव के नाम खरीदी गई संपत्तियों को जब्त किया था। ईडी को जांच में पता चला कि कंपनी की संपत्तियां यूपी के अलावा बिहार और पश्चिम बंगाल में भी हैं। 

लखनऊ के गोमतीनगर समेत प्रदेश के विभिन्न थानों में कंपनी और उसके निदेशकों के विरुद्ध दर्ज मुकदमों के आधार पर ईडी ने मनी लांड्रिंग का केस दर्ज किया था। थानों में दर्ज मुकदमों की जांच अब प्रदेश पुलिस की आर्थिक अपराध अनुसंधान शाखा (ईओडब्यू) कर रही है। फरार चल रहे कंपनी के सीमएडी राशिद नसीम के भाई और एमडी आसिफ नसीम को लखनऊ पुलिस ने नवंबर 2021 में प्रयागराज से गिरफ्तार कर लिया था। दोनों भाइयों ने शाइन सिटी समेत दो दर्जन से ज्यादा कंपनियां बना डाली थीं और प्रदेश के विभिन्न शहरों में उसके कार्यालय खोल रखे थे।

 इस मामले में पुलिस अब तक विभिन्न निदेशकों, प्रबंधकों व कर्मचारियों समेत 58 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। सीएमडी राशिद नसीम के प्रत्यर्पण के लिए भी कार्रवाई चल रही है। इसके लिए ईओडब्यू ने केंद्र सरकार के जरिए यूएई की सरकार से संपर्क साधा है और जरूरी कागजात भेजे हैं। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी सभी जांच एजेंसियों को इस मामले में जांच तेज करने का निर्देश दिया था। हाईकोर्ट के निर्देश के बाद राशिद नसीम के प्रत्यर्पण की प्रक्रिया तेज हुई है।

निवेशकों को दिया था आकर्षक योजनाओं का झांसा

शाइन सिटी के सीएमडी राशिद नसीम, उसके भाई व कंपनी के एमडी आसिफ नसीम समेत उसके अन्य सहयोगियों ने निवेशकों को आकर्षक योजनाओं का झांसा देकर उनकी गाढ़ी कमाई लूटी। कंपनी ने यूपी के अलावा बिहार, पश्चिम बंगाल व अन्य राज्यों में बड़े पैमाने पर किसानों से सस्ती जमीनें खरीदकर आकर्षक आवासीय योजनाएं बनाईं। झांसे में आकर लोगों ने कंपनी की विभिन्न योजनाओं में प्लाट बुक कराए लेकिन बाद में उन्हें धोखा दिया। एक अनुमान के मुताबिक यह पूरा घोटाला लगभग आठ हजार करोड़ का है। ईओडब्ल्यू व ईडी के अलावा एसएफआईओ भी इस मामले में जांच कर रहा है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें