ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशतुलसियानी ग्रुप के 10 ठिकानों पर ईडी की छापेमारी, बैंक और निवेशकों के करोड़ों रुपये हड़पने का आरोप

तुलसियानी ग्रुप के 10 ठिकानों पर ईडी की छापेमारी, बैंक और निवेशकों के करोड़ों रुपये हड़पने का आरोप

ईडी ने बुधवार को रीयल स्टेट का कारोबार करने वाली कंपनी तुलसियानी ग्रुप के 10 ठिकानों पर छापेमारी की। ईडी की टीमों ने प्रयागराज, लखनऊ, नोएडा, दिल्ली और ग्रुरुग्राम में रेड डाला है।

तुलसियानी ग्रुप के 10 ठिकानों पर ईडी की छापेमारी, बैंक और निवेशकों के करोड़ों रुपये हड़पने का आरोप
Pawan Kumar Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊWed, 24 Apr 2024 04:12 PM
ऐप पर पढ़ें

ईडी ने बुधवार को तुलसियानी ग्रुप के लखनऊ, प्रयागराज, नोएडा, दिल्ली और गुरुग्राम (हरियाणा) स्थित 10 ठिकानों पर छापा मारा। इस रीयल एस्टेट कंपनी पर धोखाधड़ी करके बैंक और निवेशकों के करोड़ों रुपये डकारने का आरोप है। हाईकोर्ट ने मार्च 2023 में ईडी को तुलसियानी कंस्ट्रक्शन एंड डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ जांच करने का आदेश दिया था। फिर अक्टूबर 2023 में हाईकोर्ट ने ईडी के लखनऊ जोनल आफिस से जांच के बारे में पूछा। हाईकोर्ट ने यह आदेश तब दिया जब जेल में बंद कंपनी के निदेशक अनिल तुलसियानी की जमानत याचिका पर सुनवाई हो रही थी। हाईकोर्ट के आदेश पर ईडी ने कंपनी के खिलाफ मनी लांड्रिंग का केस दर्ज कर जांच शुरू की थी। मशहूर फिल्म अभिनेता शाहरुख खान की पत्नी गौरी खान इस ग्रुप की ब्रांड एंबेसडर रह चुकी हैं। 

ईडी के अनुसार जांच के दौरान पता चला कि कंपनी का निदेशक अनिल तुलनियानी और उनकी पत्नी कविता तुलसियानी जीएस एक्सप्रेस-वे नाम की एक कंपनी में भी निदेशक है, जिसका पंजीकृत कार्यालय 301 सहर प्लाजा (लखनऊ) में है। दोनों लंबे समय से इस कंपनी में निदेशक हैं और दोनों संस्थाओं के बीच लेन-देन होता है। वर्तमान में संग्राम सिंह और सिद्दार्थ सिंह भी इस कंपनी के निदेशक हैं, जो हरैया (बस्ती) के विधायक अजय सिंह के भाई व चचेरे भाई बताए जाते हैं। 

विधायक से छापे का कोई संबंध नहीं

ईडी के अनुसार उसने विधायक अजय सिंह के किसी परिसर की तलाशी नहीं ली है। यह तलाशी तुलसियानी बिल्डर्स और डेवलपर्स से संबंधित है। इसका विधायक के साथ कोई संबंध नहीं है। पंजाब नेशनल बैंक से लिए गए कर्ज की रकम हड़पने और निवेशकों द्वारा दर्ज कराए गए मुकदमों के आधार पर ईडी ने तुलसियानी ग्रुप के खिलाफ जांच शुरू की थी। कंपनी ने कूटरचित दस्तावेज जमाकर पीएनबी से 4.63 करोड़ रुपये कर्ज लिया था। बैंक ने जब कर्ज वसूली के लिए पत्र लिखा तो कंपनी से कोई जवाब नहीं दिया। बैंक मैनेजर की शिकायत पर तुलसियानी ग्रुप के निदेशक अनिल कुमार तुलसियानी समेत अन्य के विरुद्ध लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया गया था। 

बाद में लखनऊ पुलिस ने निवेशकों के करोड़ों रुपये हड़पने के आरोप में  अनिल कुमार तुलसियानी को गिरफ्तार किया। ईडी की शुरुआती जांच में निवेशकों और बैंक की 30 करोड़ से अधिक रकम हड़प लिए जाने की पुष्टि हुई। तुलसियानी ग्रुप जब लुभावनी स्कीम के जरिए लोगों को फ्लैट देने का वादा कर उनसे रकम जमा करा रहा था, तब उसके पास फ्लैट तो दूर जमीन तक नहीं थी। कंपनी के निदेशक राजधानी में अंसल की सुशांत गोल्फ सिटी में फ्लैट बनाने का झांसा देकर रकम जमा कराते थे। फ्लैट नहीं मिलने पर बीते पांच वर्षों के दौरान दर्जनों निवेशकों ने कंपनी के खिलाफ मुकदमे दर्ज कराए हैं। बाद में कंपनी ने सुशांत गोल्फ सिटी में फ्लैट तो बनवाए लेकिन निवेशकों को कब्जा नहीं दिया। यूपीरेरा में इसकी शिकायत होने पर उसके तीन फ्लैट जब्त भी किए गए थे।

भाजपा विधायक ने कहा-मेरे यहां पड़ा ईडी का छापा

बस्ती की हरैया सीट से भाजपा के विधायक अजय सिंह ने कहा कि बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीम जांच के लिए उनके लखनऊ स्थित कार्यालय पर पहुंची लेकिन कार्यालय बंद था। उन्होंने कहा कि वह किसी भी समय जांच के तैयार हैं।  बुधवार को अपने क्षेत्र में पत्रकारों से बातचीत करते हुए विधायक अजय सिंह ने कहा कि उनका गोमती नगर के सहारा प्लाजा में कार्यालय है। उन्हें सुबह-सुबह सूचना मिली कि ईडी की टीम उनके कार्यालय पर पहुंची है, जिसमें कुछ लोग वर्दी में हैं और कुछ लोग बिना वर्दी में हैं। बुधवार को उनका कार्यालय बंद रहता है। भतीजी के विवाह से संबंधित एक कार्यक्रम में वह स्वयं और उनके भाई गए हुए थे। 

अजय सिंह ने कहा,‘मैं किसी भी जांच के लिए तैयार हूं। समय आने पर मैं दूध का दूध और पानी का पानी कर दूंगा। छापे से कोई फर्क नहीं पड़ता, इससे मैं डरा नहीं हूं। मैं पार्टी का एक सिपाही हूं और पार्टी को जिताने के लिए अपना सौ प्रतिशत दे रहा हूं। जांच एजेंसियां अपना काम कर रही हैं। इससे विपक्षियों की जुबान बंद हो जाएगी, जो कहते हैं कि जांच एजेंसियां सिर्फ विपक्षियों के यहां छापे डालती है। मैं तो भाजपा का विधायक हूं, मेरे यहां भी छापा पड़ा है। मैं इसका जवाब दूंगा। मैं इनकम टैक्स की रेड भी झेल चुका हूं, यह ईडी की रेड है।’ उन्होंने कहा कि तीन वर्ष पूर्व मेरे यहां इनकम टैक्स की रेड पड़ी थी, इसके बावजूद पार्टी ने मुझे टिकट दिया और मैं विधायक चुना गया।