DA Image
13 अगस्त, 2020|8:13|IST

अगली स्टोरी

पूर्वांचल के मासूमों पर फिर कहर न बरपाने लगे समय से पहले आया मानसून, सीएम ने अफसरों को किया अलर्ट 

पूर्वी यूपी में झमाझम हो रही बरसात ने स्वास्थ्य विभाग के साथ शासन को भी चिंता में डाल दिया है। भारी बारिश के कारण इस वर्ष इंसेफलाइटिस का प्रकोप बढ़ सकता है। इसको देखते हुए सीएम ने सोमवार को समीक्षा बैठक में अधिकारियों को अलर्ट भी किया।

पूर्वी यूपी में इस समय मानसून का सीजन चल रहा है। जून में झमाझम बारिश ने पिछले छह साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। पिछले साल जून में सिर्फ 87.5 मिलीमीटर ही बारिश हुई थी। जबकि इस बार जून में 382 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई। यह पिछले साल के मुकाबले इस साल जून में बारिश करीब 300 मिली मीटर अधिक हुई। जुलाई के पहले हफ्ते में बादल छाए रहे। रुक-रुक कर बारिश हो रही है।

बारिश के सीजन में बढ़ जाता है इंसेफेलाइटिस 
डॉक्टरों के मुताबिक इंसेफलाइटिस के प्रकोप का सीधा संबंध बारिश है। गांव में जलजमाव, धान के खेतों में पानी रुकने के कारण मच्छर पनपते हैं। ऐसे में बीमारी का प्रकोप बढ़ता है। जानकारों की माने तो पिछले साल इंसेफेलाइटिस के प्रकोप में कमी की वजह बारिश का औसत से कम होना भी रहा। बीआरडी मेडिकल कॉलेज में वर्ष 2019 में 617 मरीज भर्ती हुए। उनमें से 64 की मौत हो गई। इस साल अब तक 81 मरीज भर्ती हो चुके हैं। 16 की मौत हुई। इंसेफेलाइटिस वार्ड में 11 मरीजों का इलाज चल रहा है।

सीएम ने कहा तैयार रहे संसाधन 
सोमवार को समीक्षा बैठक में सीएम योगी आदित्यनाथ ने इसको लेकर चिंता व्यक्त की। उन्होंने अधिकारियों को मानसून को देखकर इंसेफेलाइटिस के प्रकोप के लिए तैयार रहने के निर्देश दिए। सीएम ने कहा कि इस बार मानसून निर्धारित समय से 15 दिन पहले आ गया। रूक-रूक कर बारिश हो रही है। ऐसे में जलजमाव होना स्वभाविक है। सीएम ने ताकीद की कि इस बार पिछले वर्ष से बेहतर इंतजाम हों। जिससे कि मरीजों को समुचित इलाज मिल सके।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:early monsoon may cause mosquito and encephalitis cm yogi alert doctors