DA Image
1 सितम्बर, 2020|12:37|IST

अगली स्टोरी

वाराणसी में खुदाई के दौरान मिला अंग्रेजों के जमाने का नाला, अधिकारियों को भी नहीं पता इसका इतिहास भूगोल

वाराणसी के ह्रदय स्थल दशाश्वमेध पर एक बड़ा नाला मिला है। सोमवार दोपहर हाइड्रोलिक गेट बनाने के लिए हुई खुदाई के दौरान यह नाला सामने आया।पूरी तरह सूखे नाले के बारे में जल निगम के अधिकारियों को भी कुछ नहीं पता है। नाला कितना लंबा है? कहां से कहां तक जाता है? कब इसका निर्माण हुआ? यह सब किसी अधिकारी को फिलहाल नहीं पता है। यानी अधिकारियों को न तो इस नाले के भूगोल के बारे में जानकारी है और न ही इसका इतिहास पता है। आसपास के लोग इसे शाही नाला का ही हिस्सा मान रहे हैं। इसे भी शाही नाले की तरह अंग्रेजों के जमाने का नाला माना जा रहा है।

देर रात राज्यमंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी भी इसे देखने पहुंचे। उन्होंने जल निगम के अधिकारियों से इस नाले के बारे में जानकारी ली। जल निगम के अधिकारियों ने इस नाले के शाही नाले का हिस्सा होने को लेकर स्पष्ट न होने की बात कही। राज्यमंत्री ने अधिकारियों से मंगलवार को इस नाले की जानकारी लेने को कहा है। 

क्षेत्रीय लोग इसे शाही नाला का हिस्सा मान रहे हैं। इस नाले का आकार बड़ा है। उसमें नीचे उतरने के लिए लोहे की कड़ियां भी लगी हुई हैं। खोदाई के दौरान जब इस नाले का चौकोर ढक्कन खोला गया तो लोगों के आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा। आसपास के काफी लोग इस नाले को देखने पहुंचे। 

लोगों का कहना है कि उन्होंने पहली बार इस तरह का नाला देखा है। स्थानीय युवक सोनू इस नाले 15 फीट की गहराई तक गया और फिर उसके नीचे जाने की हिम्मत नहीं कर सका। बोला- बहुत गहरा है। इस नाले में पानी नहीं है। उसने बताया कि नाला और भी गहरा हो सकता है मगर अंधेरा होने के कारण गहराई का सही अनुमान नहीं लग सका। 

राजकीय निर्माण निगम के अधिकारियों ने इस नाले की जानकारी जल निगम गंगा प्रदूषण व नगर निगम के अधिकारियों को दी। जल निगम के कुछ अधिकारी देर शाम मौके पर पहुंचे। गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के प्रोजेक्ट मैनेजर एसके बर्मन ने बताया कि यह शाही नाला का हिस्सा हो सकता है लेकिन फिलहाल स्पष्ट रूप से कुछ कह पाना संभव नहीं है। 

बनारस में है शाही नाला, चार साल से हो रही इसकी सफाई

बनारस शहर में एक शाही नाला है। यह भी ऐतिहासिक धरोहर है। इसे मुगलों ने बनाया था जिसे अंग्रेजों ने शहर का सीवेज सिस्टम बना दिया। मुगलकाल के दौरान ‘शाही नाला’ को ‘शाही सुरंग’ के नाम से जाना जाता था। इसकी खासियत यह बताई जाती है कि इसके अंदर से दो हाथी एक साथ गुजर सकते हैं। शहर के पुरनियों का कहना है कि अंग्रेजों ने इसी ‘शाही सुरंग’ के सहारे बनारस की सीवर समस्या सुलझाने का काम शुरू किया। जेम्स प्रिंसेप की कल्पना के अनुसार, इसका काम वर्ष 1827 में पूरा हुआ था। इसे लाखौरी ईंट और बरी मसाला से बनाया गया था। अस्सी से कोनिया तक इसकी लंबाई 24 किलोमीटर बताई जाती है।

यह अब भी अस्तित्व में है लेकिन उसकी भौतिक स्थिति के बारे में सटीक जानकारी किसी के पास नहीं है। पुरनियों के मुताबिक यह नाला अस्सी, भेलूपुर, कमच्छा, गुरुबाग, गिरिजाघर, बेनियाबाग, चौक, पक्का महाल, मछोदरी होते हुए कोनिया तक गया है। हकीकत यह है कि इसका नक्शा नगर निगम या जलकल के पास नहीं है। इस प्राचीन नाले की मुख्य लाइन अस्सी से कोनिया तक 7.2 किलोमीटर लंबी है, जो भेलूपुर चौराहा, बेनियाबाग मैदान, मछोदरी होते हुए गुजरी है। इसकी सहायक लाइनें शहर के अन्य हिस्सों में फैली हैं। उदाहरण के तौर पर, अर्दली बाजार से आकर एक शाखा इसमें मिलती है। 

पिछले चार साल में कई बार शाही नाले की सफाई का समय बढ़ाना पड़ा, लेकिन वह मुकर्रर तारीख नहीं आई जिसमें कहा जा सके कि शाही नाले की मुकम्मल सफाई हो गई। शाही नाले की लंबाई अस्सी से लेकर कोनिया के आगे खिड़किया घाट तक 7.12 किलोमीटर है। नाले की गोलाई की परिधि के सापेक्ष व्यास अस्सी पर अपस्ट्रीम में चार फीट और डाउनस्ट्रीम कोनिया में आठ फीट है।

शाही नाले पर 500 मकान बने हैं। शाही नाले की सफाई में सबसे बड़ी बाधा मकान हैं। इन मकानों के नीचे से शाही नाला गुजरा है। इसलिए मछोदरी से कोनिया तक करीब 12 सौ मीटर लंबे शाही नाले की सफाई के दौरान कोई बड़ा जोखिम न हो, इसलिए हर कदम फूंक कर रखा जा रहा है। कहा जा रहा है कि इसकी सफाई, मरम्मत (मेंटीनेंस) और लाइनिंग होने से बनारस के पुराने शहरी इलाके में सीवर ओवरफ्लो की 60 फीसद समस्या दूर हो जाएगी।  अधिकारी कहते हैं कि शाही नाले की सफाई का कार्य ब्लाइंड वर्क है। इस दौरान कई तरह के जोखिम हैं इसलिए कार्य पूरा होने में देर हो रही है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:During the excavation at Dashashwamedha in Varanasi the British era sewer was found even the officials do not know its history geography