ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशकिसी की शादी रुकी तो किसी की छूटी परीक्षा..कई दर्द दे गईं बर्निंग ट्रेन, हर यात्री की अपनी व्यथा

किसी की शादी रुकी तो किसी की छूटी परीक्षा..कई दर्द दे गईं बर्निंग ट्रेन, हर यात्री की अपनी व्यथा

इटावा में वैशाली एक्सप्रेस में लगी आग ने कुछ यात्रियों को ऐसे जख्म दे गई जिसे वह कभी नहीं भूल पाएंगे। किसी की शादी टल गई तो किसी की परीक्षा ही छूट गई।

किसी की शादी रुकी तो किसी की छूटी परीक्षा..कई दर्द दे गईं बर्निंग ट्रेन, हर यात्री की अपनी व्यथा
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,इटावाThu, 16 Nov 2023 10:28 PM
ऐप पर पढ़ें

वैशाली जिले के रहने वाले रामनाथ बीते कई दिनों से बेटी की शादी की तैयारियों में व्यस्त थे। इसी शुक्रवार को बेटी की रुकाई यानी कि वरीक्षा कार्यक्रम तय था। दो दिन पहले ही खरीदारी को निकले रामनाथ को क्या पता था कि वरीक्षा के लिए खून-पसीने की कमाई से खरीदा गया सामान सात सौ किलोमीटर पहले ही जलकर राख हो जाएगा। दिल्ली की एक फॉम फैक्टरी में काम करने वाले रामनाथ के हाथ-पैर जल चुके हैं।

आंखों में आंसुओं के साथ बस एक ही दर्द उनकी जुबां पर है...कि सब सामान तो जल गया अब कल वरीक्षा कार्यक्रम नहीं हो पाएगा। अलवर के रहने वाले राहुल कुमार भी काफी झुलस चुके हैं। आवाज में हताशा है। बीते दो वर्षों से जिस दिन के लिए मेहनत कर रहे थे वह इस हादसे की भेंट चढ़ गया। गुरुवार को होने वाली दिल्ली पुलिस की परीक्षा देने लखनऊ जा रहे राहुल रुंधे गले से बोले- आज के दिन के लिए ही तो दिन-रात एक किया था, सब बेकार हो गया। शायद किस्मत को यही मंजूर था।

वैशाली एक्सप्रेस में लगी आग कुछ यात्रियों को ऐसे जख्म दे गई है जिसे वे जीवन भर नहीं भूल सकेंगे। किसी यात्री के बेटी की शादी की रुकाई टल गई तो किसी की गुरुवार को लखनऊ में होने वाली दिल्ली पुलिस की परीक्षा ही छूट गई। छठ पूजा का त्योहार मनाने के लिए साजो सामान के साथ अपने घरों को निकले यात्री घटना के बाद सुबकते दिखाई दिए। जिला अस्पताल में भर्ती इन यात्रियों ने अपनी-अपनी आपबीती बताई। जिला अस्पताल व सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती लोगों का डीएम अवनीश कुमार राय, एसएसपी संजय कुमार वर्मा, सीएमओ डॉ. गीताराम समेत तमाम अफसर दिनभर हालचाल लेते रहे।

भीड़ के कारण ट्रेन से निकलने में हुई काफी परेशानी

बिहार के रहने वाले मनीष ठाकुर दिल्ली में किसी कंपनी में काम करते हैं और वह छठ पूजा करने के लिए घर जा रहे थे। उन्होंने बताया कि जिस कोच में आग लगी थी वह यात्रियों से खचाखच भरा हुआ था और गेट भी बंद थे, जिस कारण यात्रियों को निकालने में काफी परेशानी उठानी पड़ी। कोच में पैर रखने की भी जगह नहीं थी।

इतना था धुआं कि कुछ नहीं दिखाई दिया

दिल्ली से बिहार के सीवान जा रहे दीपक कुमार के दोनों पैर व हाथ जले हैं। उन्होंने बताया कि बाथरूम के पास आग लगी थी और धुआं इतना तेज था कि कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था। आग लगते ही डिब्बे में भगदड़ मच गई थी और बड़ी मुश्किल से लोग अपनी जान बचा पाए।

डिब्बे में आग लगते ही छा गया था अंधेरा

सिवान के संदीप कुमार दिल्ली में वेल्डिंग का काम करते हैं और वह छठ पूजा मनाने के लिए घर जा रहे थे। उन्होंने बताया कि एस -6 कोच में बाथरूम के पास आग लगी थी और उसके बाद पूरे डिब्बे में अंधेरा छा गया। भीड़ के कारण सभी यात्री जाग रहे थे नहीं तो कुछ भी हो सकता था।

धुएं से सांस लेने में भी हो रही थी काफी परेशानी 

मधुबनी के रहने वाले छोटू कुमार दिल्ली के जगन्नाथ मंदिर में काम करते हैं। आग से उनकी पीठ जल गई हैं। उन्होंने बताया कि ऐसा लगा कि जैसे रॉकेट जैसा कुछ चला हो और चारों तरफ धुआं फैल गया। धुआं इतना तेज था कि लोग सांस भी नहीं ले पा रहे थे।