ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशफर्रुखाबाद: बदमाश ने छह माह की बच्ची को किया रिहा, 24 अब भी बंधक

फर्रुखाबाद: बदमाश ने छह माह की बच्ची को किया रिहा, 24 अब भी बंधक

उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले में एक शातिर अपराधी ने गुरुवार शाम जन्मदिन के बहाने 25 बच्चों को घर बुलाकर बंधक बना लिया। इस घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस से लेकर जिला प्रशासन तक सकते में आ...

फर्रुखाबाद: बदमाश ने छह माह की बच्ची को किया रिहा, 24 अब भी बंधक
हिन्दुस्तान,फर्रुखाबादFri, 31 Jan 2020 12:16 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले में एक शातिर अपराधी ने गुरुवार शाम जन्मदिन के बहाने 25 बच्चों को घर बुलाकर बंधक बना लिया। इस घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस से लेकर जिला प्रशासन तक सकते में आ गया। घटना जिले के मोहम्मदाबाद कोतवाली स्थित करथिया गांव की है। सूचना पाकर पहुंची पुलिस पर बदमाश ने पहले गोलियां चलाई फिर हैंड ग्रेनेड से हमला कर दिया। जिसमें इंस्पेक्टर सहित तीन पुलिस कर्मी घायल हो गए। समझाने पहुंचे विधायक पर भी उसने फायरिंग की जिससे एक ग्रामीण घायल हो गया। एडीजी लॉ एंड ऑर्डर पीवी रामशास्त्री ने बताया कि क्विक रिस्पॉन्स टीम और स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप की टीम मौके पर मौजूद है। एटीएस भी पहुंच रही है। हालांकि कुछ घंटों के बाद शातिर बदमाश सुभाष ने आदेश की छह माह की बेटी शबनम को रिहा कर दिया है। उसने धीरे से दरवाजा खोलकर उसे घर से बाहर निकाल दिया।

करथिया गांव निवासी सुभाष बाथम एक शातिर बदमाश है। उसने गुरुवार दोपहर घर पर अपनी बेटी गौरी का जन्मदिन होने के नाम पर गांव के बच्चों को बुलाया था। दोपहर तीन बजे तक उसने गांव के 25 बच्चों को इकट्ठा कर लिया। फिर उसने सभी बच्चो को घर में बंद कर लिया। काफी  देर तक जब बच्चे घर नहीं लौटे तो पड़ोसी आदेश की पत्नी बबली अपनी पुत्री खुशी और बेटे आदित्य को बुलाने के लिए उसके घर पहुंच गई। उसने दरवाजा खटखटाया तो सुभाष ने खोलने से मना कर दिया। जब उसने ज्यादा जिद की तो उसने कहा कि पहले गांव के लालू को बुलाकर लाओ। जब उसने मना किया तो वह गाली गलौज करने लगा। इस पर बबली अपने घर आई और परिजनों को जानकारी दी। गांव वालों ने पुलिस को खबर दी। सूचना पर गांव पहुंची यूपी 112 के जवानों ने दरवाजा खुलवाने का प्रयास किया। कहा कि अपनी समस्या बताओ उसका निदान किया जाएगा। लेकिन उसने तब भी दरवाजा नहीं खोला।

farrukhabad child hostage

 परेशान होकर यूपी 112 के सिपाहियों ने कोतवाली इंस्पेक्टर को खबर दी। इंस्पेक्टर राकेश कुमार पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। जब उन्होंने दरवाजा खोलने को कहा तो शातिर अपराधी ने गोलियां चलानी शुरू कर दीं। इतना ही नहीं उसने अंदर से हैंड ग्रेनेड भी फेंका जिससे इंस्पेक्टर के हाथ और पीआरवी के दीवान जयवीर और सिपाही अनिल के हाथ और पैर दोनों में चोट आ गई। इससे पुलिस पीछे हट गई। जानकारी मिलने पर क्षेत्रीय विधायक नागेंद्र सिंह भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने पुलिस की मौजूदगी में लाउड स्पीकर से उसे समझाने का प्रयास किया तो उसने फायर झोंक दिया। विधायक को भी पीछे हटना पड़ा। उसकी फायरिंग से एक गोली गांव के अनुपम दुबे को लग गई। उन्हें इलाज के लिए ले जाया गया है।

बच्चों के बंधक बनाने से परिजन का बुरा हाल है। महिलाओं का रो-रोकर बुरा हाल है। सभी अपने-अपने बच्चों की सलामती की दुआ मांग रहे हैं। इस घटना की जानकारी के बाद पुलिस के आला अफसर व प्रशासनिक अधिकारी भी मौके के लिए रवाना हो गए हैं।

farrukhabad child hostage

ये हैं घर के अंदर बंधक बच्चे

आरती पुत्री आनंद, सोनी, रोशनी पुत्री सत्यभान, अरुण, अंजली, लवी पुत्र नरेंद्र, भानु पुत्र मदनपाल, खुशी, मुस्कान, आदित्य पुत्र पंछी, विनीत पुत्र रामकिशोर, पायल, प्रिंटर पुत्र नीरज, प्रशांत, नैनसी पुत्री मुकेश के अलावा मुकेश का भांजा कृष्णा शामिल है।

लखनऊ से कमांडो रवाना

फर्रुखाबाद में हालात बिगड़ते देख एटीएम कमांडो को रवाना किया गया है। यह प्रयास है कि जल्द से जल्द बच्चों को बचाया जा सके। इस घटना पर लखनऊ के आला अफसरान की भी निगाह बनी हुई है।

पुलिस अधीक्षक डॉ अनिल कुमार मिश्रा ने कहा कि एक शातिर अपराधी ने गांव के बच्चों को घर के अंदर बंधक बना लिया है। उन्हें निकलवाने का प्रयास कि या जा रहा है। उसे समझाया जा रहा है। पहला प्रयास है कि पुलिस सकुशल बच्चों को बाहर निकाले।

Advertisement