ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशVideo: डॉक्टर ने तीमारदार को तमाचा जड़ अपने गुर्गों से पिटवाया, महिलाओं को भी नहीं बख्शा

Video: डॉक्टर ने तीमारदार को तमाचा जड़ अपने गुर्गों से पिटवाया, महिलाओं को भी नहीं बख्शा

यूपी के बांदा में मरीज को देखने की बात कहने पर डॉक्टर ने तीमारदार को तमाचा जड़ दिया। डॉक्टर के चैंबर में मौजूद गुर्गे तीमारदार को घसीटकर बगल स्थित खाली पड़ी चौकी ले गए और वहां बेरहमी से पीट दिया।

Video: डॉक्टर ने तीमारदार को तमाचा जड़ अपने गुर्गों से पिटवाया, महिलाओं को भी नहीं बख्शा
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,बांदाSat, 15 Jun 2024 11:25 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के बांदा ने डॉक्टर की दबंगई सामने आई है। जहां मरीज को देखने की बात कहने पर डॉक्टर ने तीमारदार को ही तमाचा जड़ दिया। डॉक्टर के चैंबर में मौजूद गुर्गे तीमारदार को घसीटकर बगल स्थित खाली पड़ी चौकी ले गए, जहां बेरहमी से लात-घूंसों से मारा-पीटा। मरीज के साथ मौजूद महिलाएं बचाने दौड़ीं तो उनकी भी पिटाई की। डॉक्टर और उसके गुर्गों की दंबगई से जिला अस्पताल ट्रामा सेंटर में भगदड़ मची रही।

बबेरू कोतवाली क्षेत्र के अहार गांव के मजरा निविहापुरवा की रहने वाली 50 वर्षीय कमलिया ने शनिवार शाम फांसी लगा ली। घरवालों को जानकारी हुई तो फंदा काटकर आनन-फानन जिला अस्पताल ट्रामा सेंटर लेकर पहुंचे। देवर शिवशंकर ने ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर पीके गुप्ता से भाभी कमलिया को देखने के लिए कहा। डॉक्टर ने बिना देखे कहा, ठीक है। जाओ भर्ती कराओ। इसी बात को लेकर डॉक्टर से बहस होने लगी। डॉक्टर 24 साल के शिवशंकर को तमाचा जड़ दिया। डॉक्टर के तमाचा जड़ते ही उसके चैंबर में मौजूद गुर्गों ने शिवशंकर को घेर लिया। घसीटकर बगल स्थित खाली रहनेवाली चौकी ले गए। चौकी का दरवाजा बंदकर पीटने लगे। 

शिवशंकर को पिटता देख परिवार की महिलाएं 35 वर्षीय सीमा पत्नी हरिप्रसाद, 35 वर्षीय ननकी देवी पत्नी बच्चा सिंह बचाने दौड़ीं तो उन्हें भी मारापीटा। घटना से ट्रामा सेंटर में भगदड़ मच गई। किसी तरह जान बचाकर शिवशंकर वहां से भाग निकला। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपित भी नौ दो ग्याहर हो गए। कुछ ही देर में पुलिस बल पहुंच गया। समझा-बुझाकर आक्रोशित लोगों को शांत कराया। मामले में सीएमओ डॉ.अनिल कुमार और सीएमएस डॉ. आरके गुप्ता ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज देखी गई। डॉक्टर ने गलत किया है। तत्काल प्रभाव से इमरजेंसी ड्यूटी से हटा दिया गया है। विभागीय टीम का गठन कर जांच कराई जाएगी। उधर, डॉक्टर पीके गुप्ता का कहना है कि मरीज भर्ती करने से पहले ही उसका इलाज शुरू कर दिया गया था। तीमारदार गाली गलौज करते हुए अभद्रता पर करने लगा। इस पर मारपीट हुई।