DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कानपुर: गैंगरेप पीड़ित बच्ची को छह महीने से दौड़ा रहे हैलट के डॉक्टर

gang rape

गैंगरेप पीड़ित छह वर्षीय बच्ची को हैलट के डॉक्टर छह महीने से दौड़ा रहे हैं। परेशान होकर परिजनों ने डीएम बांदा और सीएम पोर्टल पर शिकायत की तो डीएम बांदा ने मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों को कड़ा पत्र दिया है। साथ ही बच्ची का इलाज सुनिश्चित करने की बात कही है।

गैंगरेप पीड़िता बच्ची को जुलाई 2018 में हैलट अस्पताल भर्ती कराया गया था। बच्ची की सर्जरी करके जान बचाई गई थी। चार बार सर्जरी करने की बात कही गई थी। एक सर्जरी कर दी गई। सर्जरी करके पेटचाक करके एक पाइप के जरिए यूरिन  के रास्ते को बाईपास किया गया था बाहर एक थैली लटका दी गई थी। और 15 दिन बाद बुलाया गया था। पीडि़त परिवार 15 दिन के बाद से लेकर अब तक चक्कर लगा रहा है। हैलट में डॉ. श्रद्धा वर्मा की टीम ने ऑपरेशन किया था। उसके बाद फालोअप में डॉ. आरके त्रिपाठी ने देखा। डॉ. श्रद्धा वर्मा और डॉ. आरके त्रिपाठी बार-बार बच्ची को टाल रहे हैं।

गैस्ट्राइट्रोलॉजिस्ट डॉ. विनय सचान को भी दिखाया था मगर उन्होंने सर्जरी टीम को रेफर कर दिया। बच्ची के पिता का कहना है कि बार बार दौड़ा रहे हैं। यही कहा जाता है कि बेड नहीं है। उसके पास न तो कहीं रहने का ठिकाना है और न ही इतना पैसा है कि वह बार आर यहां आ सकें। इसे लेकर डीएम बांदा और मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत की। डीएम बांदा ने इस सम्बंध में हैलट के अधिकारियों ने फोन पर वार्ता की, उसके बावजूद डॉक्टरों पर कोई असर नहीं पड़ा। सोमवार को भी भर्ती करने से टाल दिया गया। बच्ची को लेकर पिता सीएमएस डॉ. रीता गुप्ता से मिले। डॉ. रीता गुप्ता ने सर्जरी विभागाध्यक्ष प्रो. संजय काला से बात की। प्रो. काला ने मंगलवार को ओपीडी में बुलाया गया है। मरीज के खाने और रहने की व्यवस्था डॉ.रीता गुप्ता ने की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Doctor of hallet hospital Kanpur are not listen to Gang rape victim small girl