ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशऑपरेशन के बाद पेट से कॉटन निकालना भूल गया डॉक्टर, दो दिनों तक दर्द से तड़पता रहा मरीज

ऑपरेशन के बाद पेट से कॉटन निकालना भूल गया डॉक्टर, दो दिनों तक दर्द से तड़पता रहा मरीज

मेरठ में एक डॉक्टर की लापरवाही सामने आई है। उसकी एक गलती मरीज की जान पर बन आई। दरअसल डॉक्टर ने ऑपरेशन करते वक्त मरीज के पेट में ही कॉटन छोड़ दी।जिससे उसकी हालत बिगड़ गयी।

ऑपरेशन के बाद पेट से कॉटन निकालना भूल गया डॉक्टर, दो दिनों तक दर्द से तड़पता रहा मरीज
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,मेरठSun, 12 May 2024 09:03 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के मेरठ में एक डॉक्टर की लापरवाही सामने आई है। उसकी एक गलती मरीज की जान पर बन आई। दरअसल डॉक्टर ने ऑपरेशन करते वक्त मरीज के पेट में ही कॉटन छोड़ दी।जिससे उसकी हालत बिगड़ गयी। गुस्साए परिजन अस्पताल पहुंचे और हंगामा किया। सूचना मिलने पर पुलिस भी आ गयी। कई घंटे दोनों पक्षों के बीच गहमागहमी होती रही। बाद में बात न बनती देख मरीज के तीमारदारों ने लोहियानगर थाने में तहरीर दे दी। पुलिस मामले की जांच कर रही है। 

एक महीने पहले खुशहाल कालोनी के रहने वाले इलियास ने पेट में दर्द के चलते अपने 32 साल के बेटे मोहम्मद सलमान को हापुड़ रोड के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया था। डॉक्टर ने अल्ट्रासाउंड कराया और ऑपरेशन करने की बात कही। डॉक्टर ने पित्त की थैली का ऑपरेशन कर दिया। दो दिन बाद सलमान को छुट्टी मिल गई। बताया जाता है कि घर पहुंचने के बाद भी सलमान को दर्द की शिकायत रहने लगी। परिजनों ने अस्पताल में संपर्क साधा लेकिन दर्द कम नहीं हुआ। मजबूर होकर वह सलमान को गढ़ रोड स्थित दूसरे अस्पताल में लेकर आ गए। यहां के डॉक्टर ने अल्ट्रासाउंड कराया और दोबारा ऑपरेशन के लिए बोल दिया। ऑपरेशन हुआ तो सब दंग रह गये। 

सलमान के पेट से काफी मात्रा में कॉटन मिली जो ऑपरेशन के दौरान छूट गयी थी। डॉक्टरों ने ऑपरेशन के बाद परिजनों को वह कॉटन सौंपी। इसे लेकर परिजन हापुड़ रोड वाले अस्पताल आ गये, जहां पहला ऑपरेशन हुआ था। परिजनों ने लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। स्टाफ से जमकर नोकझोंक होने लगी। इसके बाद तीमारदारों ने ही डायल 112 को सूचना देकर बुला लिया। सलमान के भाई राशिद का आरोप था कि उनके भाई के पेट में डॉक्टर ने लापरवाही बरतते हुए कॉटन छोड़ी थी। इस कारण उन्हें दोबारा ऑपरेशन कराना पड़ा। इस ऑपरेशन का खर्चा वह अस्पताल देगा, जिसकी वजह से यहां तक नौबत आई। पुलिस की मौजूदगी में अस्पताल प्रशासन और तीमारदारों के बीच बातचीत हुई लेकिन कोई समाधान नहीं निकला। इसके बाद पुलिस तीमारदारों को लेकर लोहियानगर थाने आ गयी और तहरीर दे दी।