ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशDiwali 2023: सदियों बाद 8 शुभ योगों में मनेगी दिवाली, 5 राजयोग में इस बार लक्ष्मी पूजन

Diwali 2023: सदियों बाद 8 शुभ योगों में मनेगी दिवाली, 5 राजयोग में इस बार लक्ष्मी पूजन

Diwali 2023: इस बार आठ शुभ योगों में दिवाली मनेगी। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक, शनि और रविपुष्य के साथ अष्ट महायोग का ऐसा दुर्लभ संयोग पिछले 500 सालों में नहीं बना।

Diwali 2023: सदियों बाद 8 शुभ योगों में मनेगी दिवाली, 5 राजयोग में इस बार लक्ष्मी पूजन
Deep Pandeyमधु सिंह। ,आगरा,Wed, 08 Nov 2023 08:24 AM
ऐप पर पढ़ें

सदियों बाद आठ शुभ योगों में 12 नवंबर को दिवाली मनाई जाएगी। रविवार को अमावस्या दोपहर 2.30 बजे से शुरू होगी। प्रदोष काल में लक्ष्मी पूजा के वक्त पांच राजयोग रहेंगे। साथ में आयुष्मान, सौभाग्य और महालक्ष्मी योग भी बनेंगे। इस तरह आठ शुभ योगों में दिवाली मनेगी। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक, शनि और रविपुष्य के साथ अष्ट महायोग का ऐसा दुर्लभ संयोग पिछले 500 सालों में नहीं बना। इतने शुभ संयोग बनने से ये पर्व सुख-समृद्धि देने वाला रहेगा। दीपावली के बाद कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा से नया साल शुरू होता है। व्यापारियों में पुष्य नक्षत्र और धनतेरस से नए बही-खाते लेकर कारोबारी नया साल शुरू करने की परंपरा है। ज्योतिषियों के मुताबिक, दिवाली पर बन रही ग्रह स्थिति देश की तरक्की का शुभ संकेत दे रही है। 

ये राजयोग देंगे शुभ-लाभ 
गजकेसरी, उभयचरी, काहल, हर्ष और दुर्धरा नाम के पांच राजयोग बन रहे हैं। गजकेसरी से सम्मान और लाभ, हर्ष योग से धन लाभ, संपत्ति और प्रतिष्ठा, काहल योग से स्थिरता और सफलता और उभयचरी योग आर्थिक संपन्नता बढ़ाता है। दुर्धरा योग शांति और शुभता देता है। 

दो दिन अमावस्या से दिवाली दो दिन होने का भ्रम  
कार्तिक माह की अमावस्या रविवार और सोमवार दोनों दिन होने से दिवाली दो दिन होने का लोगों को भ्रम हो रहा है। अमावस्या 12 नवंबर को दोपहर 2 बजकर 44 मिनट से शुरू होगी और 13 नवंबर दोपहर 2 बजकर 56 मिनट तक रहेगी। ग्रंथों में जिक्र है कि प्रदोष काल यानी सूर्यास्त के वक्त अमावस्या में लक्ष्मी पूजन किया जाना चाहिए। ऐसे में दिवाली 12 नवंबर को ही मनाई जाएगी। वहीं, अमावस्या सोमवार दोपहर 3 बजे तक होने के कारण स्नान दान आदि सोमवार को ही होगा।

लक्ष्मी पूजन का प्रदोष काल का मुहूर्त 
ज्येतिषाचार्य डा. अरविंद मिश्र के मुताबिक, स्थिर लग्न और प्रदोष काल के मुहूर्त को लक्ष्मी पूजन के लिए सर्वाधिक उपयुक्त माना जाता है। प्रदोष काल 12 नवंबर 2023 को सायं 5:28 से 8:07 बजे तक रहेगा, जिसमें वृषभ काल (स्थिर लग्न) 5:39 बजे से 7:33 बजे तक रहेगा। लक्ष्मी पूजा का प्रदोष काल का मुहूर्त का समय सायं काल 5:39 से सायं काल 7:33 बजे तक रहेगा। यह अवधि लगभग 1 घंटा 54 मिनट की होगी।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें