ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशदेवरिया में डीएम के सामने खुली फर्जी अर्दली की पोल, तहसीलदार का खास आदमी बनकर लेता था रिश्वत

देवरिया में डीएम के सामने खुली फर्जी अर्दली की पोल, तहसीलदार का खास आदमी बनकर लेता था रिश्वत

देवरिया में मंगलवार को संपूर्ण समाधान दिवस पर डीएम ने फर्जी अर्दली को पकड़वाकर पुलिस कस्टडी में सौंप दिया। दरअसल प्राइवेट व्यक्ति से तहसीलदार के अर्दली का काम कराया जा रहा था।

देवरिया में डीएम के सामने खुली फर्जी अर्दली की पोल, तहसीलदार का खास आदमी बनकर लेता था रिश्वत
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,देवरियाWed, 21 Feb 2024 07:08 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के देवरिया से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। बरहज तहसील में मंगलवार को संपूर्ण समाधान दिवस में जिलाधिकारी अखंड प्रताप सिंह ने बरहज तहसीलदार के फर्जी अर्दली को पकड़वाकर पुलिस कस्टडी में सौंप दिया। दरअसल प्राइवेट व्यक्ति से तहसीलदार के अर्दली का काम कराया जा रहा था। इसकी जानकारी होने पर डीएम अधिकारियों पर भी काफी खफा हुए। इस मामले में उन्होंने उपजिलाधिकारी व तहसीलदार से स्पष्टीकरण मंगा है।

समाधान दिवस पर डीएम और पुलिस अधीक्षक संकल्प शर्मा समस्या सुन रहे थे। इसी बीच नंदना वार्ड पूर्वी निवासी रामायण प्रसाद ने बताया कि वह धारा 34 के निपटारे के लिए कई बार प्रतिवेदन दे चुके हैं। इस मामले के निपटारे के लिए तहसीलदार के अर्दली ने साहब को देने के नाम पर दस हजार की रिश्वत मांगी है। डीएम ने अर्दली को तलब किया तो पता चला कि प्राइवेट व्यक्ति से अर्दली का काम लिया जा रहा है। डीएम ने तत्काल अर्दली का टोपा उतरवा कर उसे पुलिस कस्टडी में सौंपते हुए मुकदमा दर्ज कर जांच कराने का निर्देश दिया। मामले में उन्होंने तहसील में निजी कर्मचारी की मौजूदगी पर गहरी नाराजगी जताते हुए एसडीएम और तहसीलदार से भी स्पष्टकरण मांगा कि किन हालात में निजी कर्मचारी रखा गया था।
18 साल से कर रहा काम

हिरासत में लिए गए व्यक्ति ने बताया कि वह तहसील में अर्दली के रूप में 18 साल से काम कर रहा है। 2008 तक संविदा कर्मी के रूप में तैनात था। हर महीने बकायदा वेतन मिलता था। हालांकि बाद में उसकी संविदा समाप्त कर दी गई। लेकिन इसके बावजूद वह कार्य करता रहा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें