ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशउन्नाव में दलित लड़कियों की मौत: परिवार वालों को किया नजरबंद, इलाका सील कर लगाया पहरा

उन्नाव में दलित लड़कियों की मौत: परिवार वालों को किया नजरबंद, इलाका सील कर लगाया पहरा

उन्नाव में असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा गांव में दो किशोरियों की मौत और तीसरी की हालत गंभीर होने के बाद सकते में आए पुलिस प्रशासन ने घटनास्थल को कब्जे में ले लिया है। पीड़ित परिवार को नजरबंद कर दिया...

उन्नाव में दलित लड़कियों की मौत: परिवार वालों को किया नजरबंद, इलाका सील कर लगाया पहरा
Yogesh Yadavउन्नाव हिन्दुस्तान टीमThu, 18 Feb 2021 12:51 AM
ऐप पर पढ़ें

उन्नाव में असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा गांव में दो किशोरियों की मौत और तीसरी की हालत गंभीर होने के बाद सकते में आए पुलिस प्रशासन ने घटनास्थल को कब्जे में ले लिया है। पीड़ित परिवार को नजरबंद कर दिया है। किसी को उनसे बात करने की अनुमति नहीं है। यहां तक कि मीडिया के लोगों को भी आगे नहीं जाने दिया जा रहा है। एक तरह से इलाके को सील कर दिया गया है। अधिकारी मान रहे हैं कि घटना बेहद गंभीर है। 

चारा लेने गई तीन किशोरियां एक दूसरे से बंधीं मिलीं
बबुरहा गांव के संतोष वर्मा की बेटी कोमल (16), सूरज पाल वर्मा की पुत्री काजल (13) और सूरज बली की बेटी रोशनी (17)  दोपहर बाद मवेशियों के लिए चारा लेने खेत में गई थीं। देर शाम तक जब तीनों घर नहीं पहुंची तो परिजनों ने उनकी खोजबीन शुरू कर दी। सूरजपाल के खेत में पहुंचे तो तीनों किशोरियां अचेत पड़ी थीं। एक ही दुपट्टे से तीनों के हाथ बंधे थे। कोमल और काजल की मौत हो चुकी थी। रोशनी की सांसें चल रही थीं। रोशनी को तत्काल अस्पताल पहुंचाया गया। जहां से हालत गंभीर होने पर कानपुर रेफर कर दिया गया है। देर रात लखनऊ आईजी रेंज लक्ष्मी सिंह भी असोहा थाने पहुंच गई। जिले के उच्चाधिकारियों ने रोशनी से बातचीत की कोशिश की। मगर उसके होश में न होने से घटना के बारे में कोई तथ्य देर रात तक निकल कर सामने नहीं आ सका।

मामले के खुलासे के लिए कई टीमों का गठन
आईजी लक्ष्मी सिंह के नेतृत्व में ही जांच पड़ताल चल रही है। पुलिस ने कई टीमों का गठन कर दिया है। आईजी का दावा है कि जल्द ही मामले का खुलासा किया जाएगा। अभी इस प्रकरण में कुछ भी कहा नहीं जा सकता है। वहीं, एसपी ने कहा कि तीनों लड़कियां बेहोशी की हालत में मिली थीं। तीनों को अस्पताल पहुंचाया गया तो दो की मौत हो चुकी थी। प्रथमदृष्टया पता चला है कि तीनों घास काटने गई थीं। मौके पर झाग मिला है। जहरीला पदार्थ से हालत बिगड़ने की आशंका है। डाक्टर ने भी यही आशंका जताई है। मौके पर मौजूद लोगों के बयान लिये गए हैं। मामले की गहराई से जांच की जा रही है।

सहमा परिवार, भाई बोला कुछ नहीं समझ आ रहा
अचानक हुई घटना से तीनों किशोरियों का परिवार सहमा हुआ है। जिला अस्पताल की इमरेजेंसी में मौजूद रोशनी के बड़े भाई विशाल का कहना है कि तीनों मवेशियों के लिए चारा लेने रोज जाया करती थी। अभी पता नहीं चल सका है कि बहन रोशनी की हालत कैसे खराब हुई है। अधिकारियों ने परिवार वालों  को ढांढस बंधाया और मदद का आश्वासन दिया।

epaper