DA Image
Thursday, December 2, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशएनटीपीसी टांडा की दो इकाइयों में भी बिजली उत्पादन पर संकट, गहरा सकता है संकट

एनटीपीसी टांडा की दो इकाइयों में भी बिजली उत्पादन पर संकट, गहरा सकता है संकट

हिन्दुस्तान टीम,अंबेडकरनगरDeep Pandey
Mon, 18 Oct 2021 10:11 AM
एनटीपीसी टांडा की दो इकाइयों में भी बिजली उत्पादन पर संकट, गहरा सकता है संकट

कोयले की कमी से एनटीपीसी टांडा में 440 मेगावाट बिजली उत्पादन ठप होने के बाद अब 1320 मेगावाट की दो इकाइयों में भी बिजली उत्पादन पर भी संकट के बादल मंडरा रहे हैं।

कोयले की कमी से पूरे देश में बिजली पर संकट छाया हुआ है। एनटीपीसी टांडा में 110 मेगावाट की चार इकाइयों में विद्युत उत्पादन ठप हो गया है। अब फेज टू में एनटीपीसी विस्तारीकरण के तहत नवनिर्मित 1320 मेगावाट के दो इकाइयों में भी बिजली उत्पादन को लेकर संकट के बादल छाए हुए हैं। एनटीपीसी के सूत्रों की माने तो वर्तमान समय में दोनों परियोजनाओं में लगभग 50 फीसदी बिजली उत्पादन का काम हो पा रहा है। यदि शीघ्र ही कोयले की आपूर्ति में निरंतरता नहीं आई तो इन नवीन परियोजनाओं में भी बिजली उत्पादन बंद हो सकता है। एनटीपीसी टांडा के अधिकारी और कर्मचारी बिजली उत्पादन और कोयले की आपूर्ति के संकट को लेकर कुछ भी नहीं बोल रहे हैं। हालांकि उनके स्तर से प्रयास किया जा रहा है कि यहां पर सब कुछ सकारात्मक हो।

उधर एनटीपीसी टांडा में बिजली उत्पादन को लेकर उत्पन्न हुए संकट पर प्रशासन भी नजर बनाए हुए हैं। यदि आने वाले दिनों में उत्पादन ठप होता है तो निश्चित रूप से चिंताजनक होगा। एनटीपीसी से जुड़े एक सूत्र ने बताया कि परियोजना के अधिकारियों का प्रयास है कि 1320 मेगावाट की दो नवीन परियोजना में बिजली उत्पादन को पूरी क्षमता के साथ हो क्योंकि पहले ही फेज वन की चार इकाइयों के 440 मेगावाट में बिजली उत्पादन ठप है। इससे यहां से जिन राज्यों में बिजली आपूर्ति की जाती है वहां पर संकट की स्थिति बनी हुई है। दोनों फेज में कुल 1760 मेगावाट बिजली उत्पादन होता रहा है।
 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें