DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  यूपी में भी तीसरी लहर से पहले बच्चों पर शुरू हुआ कोवैक्सीन का ट्रायल, 12 बच्चों को दी गई पहली डोज

उत्तर प्रदेशयूपी में भी तीसरी लहर से पहले बच्चों पर शुरू हुआ कोवैक्सीन का ट्रायल, 12 बच्चों को दी गई पहली डोज

कानपुर। प्रमुख संवाददाताPublished By: Dinesh Rathour
Thu, 10 Jun 2021 04:46 PM
यूपी में भी तीसरी लहर से पहले बच्चों पर शुरू हुआ कोवैक्सीन का ट्रायल, 12 बच्चों को दी गई पहली डोज

एम्स दिल्ली और पटना के बाद कानपुर में भी कोवैक्सीन का बच्चों पर मंगलवार से क्लीनिकल ट्रायल शुरू हो गया है। शहर के 12 वालंटियर बच्चों को वैक्सीन की पहली डोज लगाई गई है। अब इन्हें 28 दिन बाद दूसरी डोज लगेगी। सुखद बात यह है कि पहली डोज लेने के बाद किसी भी बच्चे को कोई तकलीफ नहीं हुई। फिर की निगरानी जारी है। अभिभावकों और बच्चों में खासा उत्साह दिखा। कानपुर में प्रखर हॉस्पिटल में कोवैक्सीन का बच्चों पर ट्रायल शुरू किया गया है। इससे पहले भी देशभर में लगाई जा रही मौजूदा कोवैक्सीन में भी भारत बायोटेक-आईसीएमआर ने प्रखर को ही क्लीनिकल ट्रायल का सेंटर बनाया।

मंगलवार सुबह एम्स दिल्ली और भारत बायोटेक-आईसीएमआर की टीम प्रखर पहुंची। टीम ने पहले चक्र की स्क्रीनिंग में फिट मिले 12 बच्चों को बारी-बारी से पहली डोज दी। एक घंटे निगरानी के बाद सभी को अभिभावकों के साथ घर भेज दिया। ट्रायल के चीफ गाइड डॉ.जेएस कुशवाहा ने बताया कि अभी 12-18 साल से कम के बच्चों यानी किशोरों को ट्रायल का हिस्सा बनाया गया है। 12 बच्चों को पहली डोज ट्रायल के तौर पर दी गई है। इसके बाद 6-12 साल के बच्चों को लिया जाएगा। 50 बच्चों पर कोवैक्सीन के ट्रायल का लक्ष्य है। ट्रायल को आठ सप्ताह में पूरा किया जाएगा। 

तीसरी लहर में कारगर होगी कोवैक्सीन
इससे पहले भी प्रखर में ही बीते साल 1075 वालंटियरों पर कोवैक्सीन का ट्रायल किया गया था। तब इसकी सफलता 85 फीसद से ज्यादा तक आंकी गई थी। डॉ.कुशवाहा ने बताया कि विशेषज्ञों ने तीसरी लहर में बच्चों में पर अधिक खतरे की आशंका जताई है। ऐसे में कोवैक्सीन काफी मददगार होगी।

संबंधित खबरें