DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  गुजरात के बाद लखनऊ के कोरोना मरीज घातक फंगस म्यूकर माइकोसिस की चपेट में

उत्तर प्रदेशगुजरात के बाद लखनऊ के कोरोना मरीज घातक फंगस म्यूकर माइकोसिस की चपेट में

रजनीश रस्तोगी, लखनऊPublished By: Shivendra Singh
Tue, 11 May 2021 05:59 AM
गुजरात के बाद लखनऊ के कोरोना मरीज घातक फंगस म्यूकर माइकोसिस की चपेट में

कोरोना वायरस को लेकर लगातार चौंकाने व डराने वाले तथ्य सामने आ रहे हैं। अब कोरोना संक्रमितों में घातक फंगस की पुष्टि हो रही है। गुजरात के बाद लखनऊ के कोरोना मरीजों में म्यूकरमाइकोसिस फंगस मिला है। लोहिया संस्थान में चार व केजीएमयू के तीन मरीज घातक फंगस की चपेट में आने के बाद जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे हैं।

यूपी में सबसे ज्यादा कोरोना वायरस का प्रकोप लखनऊ में है। यहां संक्रमण व मृत्युदर काफी है। हालात यह हैं कि कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए आईसीयू-वेंटिलेटर बेड तक कम पड़ गए हैं। बेड की किल्लत, दवा, ऑक्सीजन संग अब मरीजों को फंगल संक्रमण से भी जूझना पड़ रहा है। लोहिया संस्थान में मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष डॉ. विक्रम सिंह के मुताबिक कोरोना के चार मरीजों में फंगल की पुष्टि हुई है। वहीं केजीएमयू मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष डॉ. वीरेंद्र आत्म के मुताबिक तीन मरीजों में फंगस की पुष्टि हुई। अभी तक यह फंगस डायबिटीज मरीजों में देखने को मिलता था।

नाक व आंख के पास आती है सूजन
मरीजों की नाक व आंख के बीच के हिस्से में सूजन के बाद जांच कराई गई। जिसमें संक्रमण का पता चला। वह बताते हैं कि म्यूकरमाइकोसिस फंगस नाक के रास्ते दिमाग तक पहुंचता है। रास्ते में आने वाली हड्डी व त्वचा को फंगस नष्ट कर देता है। इससे मरीज की मौत तक हो सकती है। मरीज के आंखें खराब हो सकती हैं। रोशनी भी जा सकती है।

ज्यादा स्टराइड से पनप सकता है फंगस
डॉ. विक्रम सिंह बताते हैं कि ऐसे मरीज जिनमें रोगों से लड़ने की ताकम कम होती है। यदि वह कोरोना की चपेट में आ जाते हैं तो उनके सामने दिक्कत आ सकती है। स्टराइड की खुराक ज्यादा मात्रा में लेने से भी इस तरह की दिक्कत आ सकती है। वह बताते हैं कि बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित फोन पर डॉक्टर की सलाह लेकर स्टराइड का सेवन कर रहे हैं। स्टराइड कोरोना पर वार तो कर रहा है लेकिन उसकी मात्रा अधिक होने से मरीज की सेहत को नुकसान हो सकता है। जिनमें रोगों से लड़ने की ताकत कम होती है, उनमें दिक्कत बढ़ जाती है। यही नहीं ऐसे मरीज जो लंबे समय तक अस्पताल में भर्ती हुए हैं उनमें फंगस का खतरा ज्यादा होता है। फंगस से बचने के लिए बिना डॉक्टर की सलाह के स्टराइड का सेवन न करें।

ये है म्यूकोरमाइकोसिस
ये म्यूकोर नाम का फंगल इनफेक्शन होता है। जो शरीर के नमी वाली सतह पर तेजी से पनपता है। इसका असर नाक से दिमाग की ओर जान वाले हिस्से में अधिक देखने को मिलता है। फेफड़े को भी आसानी से अपनी चपेट में ले लेता है। ऑक्सीजन मास्क से भी फंगल का खतरा रहता है। हाई फ्लो कैनुअल से लंबे समय तक ऑक्सीजन लेने वाले भी इसकी चपेट में आ जाते हैं।

डायबिटीज मरीजों पर खतरा
डॉ. वीरेंद्र आत्म के मुताबिक डायबिटीज व कम रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले मरीजों के लिए यह फंगस ज्यादा खतरनाक होता है। स्टाराइड देने पर शुगर का स्तर गड़बड़ा जाता है। मरीज में रोगों से लड़ने की ताकत कम होने के साथ कमजोर हो जाती है। ऐसे में यह फंगल और हमलावर हो जाता है। शरीर में बहुत तेजी से फैलता है। यह संक्रमण सांस के जरिए शरीर में दाखिल होता है।

लक्षण
- कोरोना मरीज की बार-बार नाक बंद होना
- नाक से पानी आना
- गालों पर काले या लाल चकत्ते
- चेहरे के एक तरफ सूजन, सुन्नपन
- दांतों व जबड़े में दर्द
- धुंधलापन आए या दर्द हो
- खून की उल्टियां होना

संबंधित खबरें