DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  ऐसे तो संगम से ही फैल जाएगा कोरोना संक्रमण

उत्तर प्रदेशऐसे तो संगम से ही फैल जाएगा कोरोना संक्रमण

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजPublished By: Deep Pandey
Fri, 14 May 2021 06:00 AM
ऐसे तो संगम से ही फैल जाएगा कोरोना संक्रमण

कोरोना वायरस, प्रयागराज में कोरोना, संगम, गंगा, यमुना, प्रयागराज मेला प्राधिकरण, महामारी के काल में शासन ने भले ही लॉकडाउन घोषित कर लिया है, लेकिन पूर्वजों का परलोक सुधारने के लिए गंगा और यमुना के संगम पर रोजाना सैकड़ों लोगों का आगमन हो रहा है। अपनों की अस्थियों के विर्सजन के लिए सैकड़ों लोग वाहन से यहां पर रोजाना आते हैं, इन वाहनों में सवार होते हैं चार से पांच लोग। संगम किनारे व्यवस्थाएं हटाने से लोग यहीं पर गंदगी फैला रहे हैं। क्षेत्र में न तो सेनेटाइजेशन हो रहा है और न ही स्वच्छता का काम। इससे इस क्षेत्र से संक्रमण के प्रसार का खतरा बना हुआ है। 

संगम क्षेत्र में माघ मेला खत्म होने के बाद संगम क्षेत्र में वर्षपर्यंत सुविधाएं देने का दावा करने वाले प्रयागराज मेला प्राधिकरण ने सभी सुविधाओं को हटा लिया है। इस वक्त रोजाना प्रतापगढ़, कानपुर, लखनऊ, बहराइच, गोंडा, चित्रकूट, बांदा आदि क्षेत्रों से सैकड़ों लोग बेरोकटोक प्रयागराज आ रहे हैं। रात 10 बजे के बाद से वाहनों की कतार बांध के नीचे से शुरू होती है और संगम तक वाहन लग जाते हैं। प्रत्येक वाहन में चार से पांच लोग होते हैं। सभी का उद्देश्य अस्थि विसर्जन होता है। ये लोग यहां पर आते हैं तो शौचालय न होने के कारण खुले में ही नित्यकर्म करते हैं और वहीं संगम तट पर कुल्ला कर अस्थि विसर्जन कर सुबह 10 से 11 बजे के बीच निकल जाते हैं। इस क्षेत्र से संक्रमण के प्रसार का खतरा है, लेकिन प्रशासन आंखें बंद किए हुए है। 

एक सुलभ शौचालय का ही सहारा
मोबाइल टायलेट को साल भर संगम क्षेत्र में रखना था, लेकिन इस वक्त केवल एक सुलभ शौचालय के सहारे ही काम लिया जा रहा है। यहां पर संगम थाना भी बनाया गया है, लेकिन आने वालों से पूछताछ कोई नहीं कर रहा है। 

सेनेटाइजेशन एक बार भी नहीं हुआ
क्षेत्र में सेनेटाइजेशन एक बार भी नहीं कराया गया। पूरे क्षेत्र में रोजाना हजारों लोगों का आना है। न तो इनकी रिपोर्ट देखी जा रही है और न ही इन पर कोई बातचीत हो रही है। मेले के बाद से स्वच्छता कर्मी भी गायब हो गए हैं। 

क्या कहते हैं पुरोहित

संगम क्षेत्र में एक भी दिन सेनेटाइजेशन नहीं हुआ है। इस वक्त प्रत्येक तीर्थ पुरोहित के यहां पर 80 से 85 लोग प्रतिदिन आ रहे हैं। सभी लोग अस्थि विसर्जन के लिए आते हैं। एक ही नल है जिससे दिन भर पानी भरा रहा है। संक्रमण का प्रसार हो सकता है। यहां पर व्यवस्थाएं दुरुस्त करें। 
प्रदीप पांडेय, आचार्य व अध्यक्ष जय त्रिवेणी जय प्रयाग संस्था

रोजाना सैकड़ों लोगों का संगम की ओर आगमन हो रहा है। यहां पर रोकटोक नहीं है। शौचालय का भी प्रबंध नहीं है। जब कोरोना जैसा संक्रमण फैला हुआ है तो स्वच्छता पर ध्यान क्यों नहीं दिया जा रहा है। इससे महामारी फैलेगी। 
संतोष शर्मा, आचार्य व पुरोहित

घाट पर क्या हो रहा है, इसकी जानकारी फिलहाल नहीं है। इसे दिखवाया जाएगा। सेनेटाइजेशन के लिए कहा जाएगा। 
एके कनौजिया, एडीएम सिटी

संबंधित खबरें