DA Image
7 मई, 2021|3:41|IST

अगली स्टोरी

कोरोना : कैलिफोर्निया से बेटी की गुहार, पिता तो नहीं रहे, मां को बचा लो

bhu doctor give plasma to another icu patient

कैलिफोर्निया से एक बेटी ने अपनी कानपुर में रह रही मां की जान बचा लेने की गुहार लगाई है। कोरोना संक्रमित पिता स्वास्थ्य विभाग की कुव्यवस्था के शिकार हो गए और उनकी जान चली गई। इस घटना से व्यथित बेटी इस बात को लेकर परेशान है कि मां की जिंदगी किसी तरह बच जाए।

मूलरूप से हिमाचल प्रदेश की रहने वाले दंपति पिछले कुछ समय से कानपुर के नौबस्ता इलाके में रह रहे थे। इनकी बेटी मंजू कैलीफोर्निया में रहती हैं जो साफ्टवेयर इंजीनियर हैं। उनकी शादी हो चुकी है और पति भी साथ ही कैलिफोर्निया में रहते हैं। इनकी मां और पिता यहां अकेले पड़ गए थे। मां और पिता दोनों को कोरोना संक्रमण के लक्षण नजर आ रहे थे। 9 अप्रैल को जब जांच हुई तो दोनों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। दो दिन में ही माता-पिता की हालत बिगड़ने लगी तो कैलिफोर्निया में मंजू परेशान हो गईं।

उन्होंने सोशल साइट के जरिए कई ग्रुपों से संपर्क साधा। वह खुद यहां नहीं आ सकती थीं क्योंकि उनके छोटे बेटे की भी वहां तबीयत ठीक नहीं थी। सांस की समस्या को लेकर वह बेटे का इलाज करा रही थीं। इस बीच उनका कानपुर के एक ब्लड डोनर ग्रुप पीजीएसएस से संपर्क स्थापित हो गया। उन्होंने व्हाट्सएप के जरिए मदद मांगी। युवाओं का कुछ ग्रुप आगे आया और उनके पिता को किसी तरह हैलट अस्पताल में भर्ती करा दिया।

मंजू ने व्हाट्सएप के जरिए बताया कि 14 को पिता भर्ती हुए तो रेमडेसिविर की जरूरत थी। हैलट में इसकी व्यवस्था नहीं हो पाई और 15 अप्रैल को उन्होंने अंतिम सांस ली। इसी बीच मां की तबीयत बिगड़ी तो मंजू ने गुहार लगाई कि किसी तरह मां की जान बचा लो। युवाओं के इसी ग्रुप ने महापौर प्रमिला पाण्डेय और उनके बेटे अमित की मदद से रामा मेडिकल कॉलेज के लिए सीएमओ का रेफरल लेटर बनवाया और वहां भर्ती करा दिया। हकीकत यह है कि जीवन और मौत से संघर्ष कर रहीं मंजू की मां को यह तक पता नहीं है कि उनके पति इस दुनिया में नहीं रहे। मंजू चाहती हैं कि किसी तरह मां अस्पताल से बाहर बचकर आ जाएं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Corona : A daughter pleads from California Pita toh nhi rahe maa ko bacha lo