ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशराहुल गांधी को श्रीकृष्ण के रूप में दर्शाने वाले पोस्टर पर छिड़ा विवाद, भाजपा विधायक बोले- यह सनातन धर्म का अपमान

राहुल गांधी को श्रीकृष्ण के रूप में दर्शाने वाले पोस्टर पर छिड़ा विवाद, भाजपा विधायक बोले- यह सनातन धर्म का अपमान

राहुल गांधी को श्रीकृष्ण के रूप में दर्शाने वाले एक पोस्टर को लेकर विवाद छिड़ गया है जो कानपुर में लगाया गया है। अब इसे लेकर भाजपा विधायक सुरेंद्र मैथानी ने इस पोस्टर पर कड़ी आपत्ति जताई है।

राहुल गांधी को श्रीकृष्ण के रूप में दर्शाने वाले पोस्टर पर छिड़ा विवाद, भाजपा विधायक बोले- यह सनातन धर्म का अपमान
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,कानपुरWed, 21 Feb 2024 10:42 PM
ऐप पर पढ़ें

राहुल गांधी को श्रीकृष्ण के रूप में दर्शाने वाले एक पोस्टर को लेकर विवाद छिड़ गया है जो कानपुर में लगाया गया है। इस पोस्टर पर नीचे उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य संदीप शुक्ला एडवोकेट का नाम और फोटो लगा है। इसके ठीक ऊपर बड़े पोस्टर में महाभारत के दौरान का दृश्य है जिसमें भगवान श्रीकृष्ण रथ पर सवार अर्जुन के सारथी बने हैं। रथ पर भगवा ध्वज लहरा रहा है। रथ हांक रहे श्रीकृष्ण के ठीक पीछे अर्जुन हैं जिनके हाथ में तीर और कमान है। ऊपर श्लोक है-यदा यदा हि धर्मस्य...। पोस्टर में श्रीकृष्ण की जगह राहुल गांधी का चेहरा है जबकि अर्जुन की जगह कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय राय का। अब इस पर भाजपा विधायक सुरेंद्र मैथानी ने इस पोस्टर पर कड़ी आपत्ति जताई है। 

गोविंदनगर विधान सभा क्षेत्र से विधायक सुरेंद्र मैथानी ने इस पोस्टर को लेकर अपना वीडियो जारी किया है। इसमें उन्होंने कहा है कि कांग्रेस की विकृत मानसिकता सामने आई है। उनका कहना है कि राहुल गांधी ने कानपुर में एक पोस्टर लगवाया है जिसमें उन्होंने श्रीकृष्ण का चेहरा लगाया है जबकि प्रदेश अध्यक्ष ने अर्जुन का चेहरा लगवाया है। इसे देखकर लगता है कि किस तरह ये लोग सनातन को बार-बार अपमानित करने का काम कर रहे हैं। लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचा रहे हैं। मैथानी कहते हैं कि कांग्रेस में बौखलाहट साफ दिख रही है।

कानपुर में गरजे राहुल गांधी

भारत जोड़ो न्याय यात्रा के दौरान राहुल गांधी कानपुर पहुंचे। यहां उन्होंने संबोधित करते हुए कहा कि देश का सबसे क्रांतिकारी कदम जातिगत जनगणना है। इससे दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। इससे यह पता लगेगा कि दलित, आदिवासी, पिछड़े, अल्पसंख्यकों के हाथ में कितना पैसा है। देश में 90 फीसदी लोग इन्ही चार वर्गों से हैं और ये अपने खून-पसीने की कमाई से देश का विकास कर रहे हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें