ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशवेस्ट यूपी को दहलाने की साजिश, टाइम बम बरामद होने के बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अलर्ट 

वेस्ट यूपी को दहलाने की साजिश, टाइम बम बरामद होने के बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अलर्ट 

टाइम बम से वेस्ट यूपी को दहलाने की साजिश का खुलासा होने से हड़कंप है। खुफिया एजेंसियों ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अलर्ट जारी किया है। पुलिस को अब  टाइम बम बनवाने वाली इमराना की तलाश है।

वेस्ट यूपी को दहलाने की साजिश, टाइम बम बरामद होने के बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अलर्ट 
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,मेरठFri, 16 Feb 2024 08:33 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी एसटीएफ मेरठ यूनिट ने मुजफ्फरनगर के खालापार में चार जिंदा बोतल टाइम बम/आईईडी के साथ जावेद नामक युवक को गिरफ्तार किया है। उससे पूछताछ के लिए कई खुफिया एजेंसी, आईबी, एटीएस और एसटीएफ टीम लगी हैं। खालापार मिमलाना रोड लालीला टीला निवासी जावेद को एसटीएफ ने संदिग्ध गतिविधियों के चलते निगरानी पर रखा था। वह 4 बोतल टाइम बम/आईईडी की सप्लाई करने के लिए इमराना नामक महिला के संपर्क में था। इमराना मूल रूप से शामली की रहने वाली है और वर्तमान में मुजफ्फरनगर के खालापार में रह रही है।

जावेद से जिस तरह टाइम बम/आईईडी बरामद किए गए हैं, उससे साफ है कि वेस्ट यूपी को दहलाने की साजिश थी। इमराना की गिरफ्तारी के बाद बाकी बातों से पर्दा उठेगा। टीम को इमराना की तलाश है। जावेद की गिरफ्तारी और टाइम बम/आईईडी की बरामदगी के बाद सुरक्षा एजेंसियों से लेकर खुफिया एजेंसियां सक्रिय हो गईं।

वेस्ट यूपी में अलर्ट जारी कर दिया गया है। आशंका है कि वेस्ट यूपी को दहलाने या किसी विशेष मकसद से इन टाइम बम/आईईडी को बनवाया गया। जावेद के अलावा पूर्व में कई बार वेस्ट यूपी का आतंकी और आईएसआई कनेक्शन सामने आ चुका है। मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर में विशेष तौर पर पुलिस को अलर्ट जारी किया गया है।

इमराना का आईएसआई एजेंट से कनेक्शन
इमराना शामली की निवासी है। एसटीएफ को इनपुट मिला है कि इमराना का कनेक्शन हाल ही में पकड़े गए आईएसआई एजेंट तहसीम मोटा और उसके भाई कलीम से था। दोनों को एसटीएफ ने गिरफ्तार कर जेल भेजा था। एसटीएफ इस इनपुट को तस्दीक कर रही है और इमराना की तलाश की जा रही है। 

जावेद को रेडियो बनाना, बम बनाना सब कुछ आता है
एसटीएफ एसपी ब्रिजेश सिंह ने बताया कि जावेद रेडियो मिस्त्री भी है। उसने कुछ दिन तक ई-रिक्शा बनाने का काम भी किया है। इससे पहले वह पटाखे बनाया करता था और वर्तमान में कपड़े का काम कर रहा था। 

50 हजार में इमराना के कहने पर बनाया था टाइम बम
जावेद की गिरफ्तारी के बाद कोतवाली में उससे तमाम एजेंसी के अधिकारियों, आईबी और एटीएस टीम ने पूछताछ की। आरोपी से बम बनाने का तरीका पूछा गया और उसके पिछले दिनों के मोबाइल कॉल रिकार्ड खंगाले गए। पूछताछ में खुलासा हुआ कि आरोपी ने खालापार में रहने वाली इमराना नामक महिला के कहने पर ये टाइम बम बनाए थे। इमराना ने 10 हजार रुपये एडवांस दिए थे, बाकी 40 हजार रुपये शुक्रवार को बम की डिलीवरी देने पर मिलने थे। इमराना फरार है और उसकी तलाश में टीम को लगाया है।

जावेद ने खुलासा किया कि इमराना पत्नी आजाद निवासी गांव बंतीखेड़ा, थाना बाबरी शामली की रहने वाली है। वर्तमान में इमराना मुजफ्फरनगर में 198/30 काली नदी पुल के पास प्रेमपुरी कॉलोनी थाना कोतवाली में रह रही थी। जावेद का कहना है कि करीब एक माह पूर्व उसका संपर्क इमराना से हुआ था और इमराना ने उसे बम बनाने के लिए 10 हजार रुपये एडवांस में दिए थे।

उसने कहा था कि जिस दिन सभी चार बम तैयार हो जाएंगे और मिल जाएंगे, उसके बाद बाकी के 40 हजार रुपये दे दिए जाएंगे। इन बम को आगे किसको, कब और कहां दिया जाना था, ये इमराना ही जानती है। इमराना के मोबाइल कॉल डिटेल और लोकेशन के संबंध में तमाम एजेंसी पता करने में लगी हैं।

ऐसे बनाया था टाइम बम/आईईडी 
जावेद टाइम बम या आईईडी (इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) बनाने के लिए ग्लूकोज की बोतल लेता था। इनमें सबसे नीचे साइकिल के बेरिंग की गोलियां/छर्रे डालता था और इसके ऊपर पीओपी भरता था। इसके बाद विस्फोटक भरकर ऊपर से रुई लगाकर और बोतल पर विस्फोटक और सर्किट लगाकर इस बोतल को बंद कर देता था। बोतल के ऊपर बैटरी और टाइमर लगाकर इसके सर्किट से जोड़ दिया था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें