ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशअमरोहा सीट पर कांग्रेस दानिश अली पर लगा सकती है दांव, चर्चाओं का दौर तेज 

अमरोहा सीट पर कांग्रेस दानिश अली पर लगा सकती है दांव, चर्चाओं का दौर तेज 

यूपी में सीट बंटवारे के बाद अमरोहा लोकसभा सीट पर कांग्रेस दानिश अली पर दांव लगा सकती है। अब प्रत्याशी के नाम को लेकर चर्चाओं का दौर तेज हो गया है।

अमरोहा सीट पर कांग्रेस दानिश अली पर लगा सकती है दांव, चर्चाओं का दौर तेज 
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,अमरोहाThu, 22 Feb 2024 09:40 AM
ऐप पर पढ़ें

आगामी आम चुनाव के लिए अमरोहा लोकसभा सीट सपा-कांग्रेस गठबंधन के तहत कांग्रेस के खाते में आने के बाद अब प्रत्याशी के नाम को लेकर चर्चाओं का दौर तेज हो गया है। मौजूदा बसपा सांसद कुंवर दानिश अली इस रेस में सबसे आगे बताए जा रहे हैं। सूत्रों की मानें तो मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य में गांधी परिवार के बेहद करीबियों में शुमार दानिश के नाम पर सपा मुखिया अखिलेश यादव ने भी अपनी सहमति जता दी है। हालांकि बसपा से निष्कासन के बाद दानिश ने अभी तक किसी भी दल का दामन नहीं थामा है। ऐसे में उनके अगले कदम और कांग्रेस शीर्ष नेतृत्व स्तर से घोषित किए जाने वाले प्रत्याशी के नाम के ऐलान को लेकर चर्चाओं का बाजार राजनीतिक गलियारों में रफ्तार पकड़ चुका है।

बीते लोकसभा चुनाव में दानिश अली ने सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के तहत बसपा के टिकट पर अमरोहा लोकसभा सीट से चुनावी किस्मत आजमाई थी। यहां उन्होंने तत्कालीन सांसद एवं भाजपा प्रत्याशी कंवर सिंह तंवर को शिकस्त देते हुए जीत का परचम लहराया था। तब उनकी जीत का अहम कारण सपा-बसपा संग रालोद के वोट बैंक का एक जगह संगठित होना माना गया था। वहीं बीते कुछ समय से दानिश की कांग्रेस शीर्ष नेतृत्व और गांधी परिवार संग नजदीकी के साथ ही बसपा आलाकमान संग तल्खी की खबरें लगातार चर्चाओं में बनी थीं। ऐसे में बसपा सुप्रीमो मायावती ने उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया था। बावजूद इसके दानिश ने न तो पार्टी और न ही पार्टी नेतृत्व के खिलाफ खुलकर कुछ भी बोला। अपने बयानों के जरिये वह लगातार बसपा सुप्रीमो के लिए मर्यादित और सधी भाषा में ही बयान देते रहे। इस सबके बीच बसपा में उनकी वापसी के लिए दरवाजे पूरी तरह बंद हो जाने की चर्चा भी आम हो चली थी। 

ऊहापोह के इसी दौर में कांग्रेस नेता राहुल गांधी समेत गांधी परिवार के अन्य सदस्यों और कांग्रेस शीर्ष नेतृत्व संग उनकी नजदीकियों ने पूरे सियासी गणित को ही उलझा दिया। हालांकि अभी तक भी दानिश ने खुले तौर पर कांग्रेस का दामन नहीं थामा है। पार्टी की प्राथमिक सदस्यता भी फिलहाल उनके पास नहीं है। वहीं बुधवार को हुए सपा-कांग्रेस गठबंधन में अमरोहा सीट कांग्रेस के खाते में आने के बाद दानिश का नाम एक बार फिर से राजनीतिक गलियारों की सुर्खियों में आ गया। सूत्रों की मानें तो दोनों दलों की इस पूरी डील में आला नेताओं संग दानिश अली ने भी महती भूमिका निभाई। अमरोहा सीट कांग्रेस के खाते में जाने को भी इसी का नतीजा बताया जा रहा है। कहा जा रहा है कि कांग्रेस की ओर से अमरोहा सीट पर दानिश का नाम बतौर प्रत्याशी किसी भी दिन सार्वजनिक किया जा सकता है और दानिश भी तब पार्टी के साथ खुलकर जुड़ जाएंगे। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने भी उनके नाम को लेकर अपनी सहमति दे दी है। इस बाबत दानिश अली फिलहाल खामोशी साधे हैं। सूत्रों की माने तो मौजूदा राजनीतिक हालात पर निगाह रखते हुए उन्होंने भी अपनी चुनावी तैयारियों को धार देना शुरू कर दिया है। 

दानिश के अमरोहा या मुरादाबाद से चुनाव लड़ने की थी चर्चा 
 बसपा से निष्कासन के बाद कुंवर दानिश अली के कांग्रेस के टिकट पर मुरादाबाद लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की चर्चाएं भी खूब चली थीं। हालांकि खुद दानिश ने इन चर्चाओं को सिरे से खारिज किया था। लगातार क्षेत्र में अपनी पैठ को मजबूत बनाए रखते हुए उन्होंने अमरोहा सीट से ही दोबारा चुनाव लड़ने का ऐलान किया था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें