ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशसंयोग या साजिश? पहले तमंचा अब कारतूस मिलने से CM योगी की सुरक्षा को लेकर गोरखनाथ मंदिर में हड़कंप

संयोग या साजिश? पहले तमंचा अब कारतूस मिलने से CM योगी की सुरक्षा को लेकर गोरखनाथ मंदिर में हड़कंप

गोरखनाथ मंदिर में चेकिंग के दौरान पहले बिहार के व्यापारी के पास से .315 बोर का तमंचा और अब श्रावस्ती के भाजपा नेता की गाड़ी से .315 बोर के दो कारतूस मिलना यह महज संयोग है या फिर कोई गहरी साजिश।

संयोग या साजिश? पहले तमंचा अब कारतूस मिलने से CM योगी की सुरक्षा को लेकर गोरखनाथ मंदिर में हड़कंप
Ajay Singhवरिष्ठ संवाददाता,गोरखपुरTue, 25 Jul 2023 08:25 AM
ऐप पर पढ़ें

CM Yogi Security: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जनता दर्शन में जा रहे श्रावस्ती के भाजपा नेता की गाड़ी के डैशबोर्ड में कारतूस मिलने से हड़कम्प मच गया। चेकिंग के दौरान .315 बोर के दो कारतूस बरामद होने के बाद गाड़ी में सवार सभी पांच लोगों को हिरासत में लेकर पुलिस और एलआईयू के साथ ही आईबी ने पूछताछ शुरू कर दी है।
 
गोरखनाथ मंदिर में चेकिंग के दौरान पहले बिहार के व्यापारी के पास से .315 बोर का तमंचा और अब श्रावस्ती के भाजपा नेता की गाड़ी से .315 बोर के दो कारतूस मिलना यह महज संयोग है या फिर कोई गहरी साजिश, खुफिया एजेंसियों ने इस पर जांच शुरू कर दी हैं। बिहार के व्यापारी के पास तमंचा मिलने के बाद उसे तो आर्म्स एक्ट में गिरफ्तार किया गया था। वहीं भाजपा नेता की गाड़ी में कारतूस मिलने की जांच की जा रही है। हालांकि इसके बारे में पकड़े गए लोग कोई सटीक जवाब नहीं दे पा रहे हैं। उनका कहना है कि उन्हें खुद भी नहीं पता यह कारतूस कैसे आया?

गाड़ी में सवार लोगों का कहना है कि यह गाड़ी भाजपा नेता माता प्रसाद उर्फ करिया के नाम से रजिस्टर्ड है। वही इससे चलते थे। उनकी हत्या हो चुकी है। ऐसे में यह गाड़ी घर पर खड़ी थी। कारतूस गाड़ी के डैशबोर्ड में कहां से आया, उन्हें नहीं पता। खुफिया एजेंसियां भी उनसे पूछताछ कर रही हैं। अभी तक यह तय नहीं हो पाया है कि यह कारतूस कहां से और कैसे गाड़ी के डैशबोर्ड में रखा गया है। हिरासत में लिए गए सभी आरोपितों के क्रिमिनल रिकॉर्ड भी जांचे जा रहे हैं।

वहीं 15 जुलाई को गोरखनाथ मंदिर में चेकिंग के दौरान पश्चिम चम्पारण (बिहार) के रहने वाले व्यापारी सुबोध मिश्रा के पास से .315 बोर का तमंचा बरामद हुआ था। गोरखनाथ पुलिस ने उनके खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज उन्हें जेल भेज दिया है। जांच में पता चला कि सुबोध मिश्रा के बैग में साजिशन नहीं बल्कि गलती से यह तमंचा था। सुबोध के बेटे ने रेलवे स्टेशन पर एक बैग को उठा लिया था। बैग में ही तमंचा था जिसे वह देख नहीं पाए थे और चेकिंग के दौरान पकड़े गए थे। उस घटना के एक सप्ताह बाद ही कारतूस मिलने से सभी के कान खड़े हो गए हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें