DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शताब्दी एक्सप्रेस और प्रीमियम ट्रेनों में कॉक्रोच और चूहों से यात्री परेशान

शताब्दी एक्सप्रेस

शताब्दी एक्सप्रेस और प्रीमियम ट्रेनों में कॉक्रोच और चूहों से यात्रियों की परेशानियां बढ़ती जा रही है। रेलवे इसको दूर करने में नाकाम साबित हो रहा है। लगातार टि्वटर और सोशल मीडिया साइट पर यात्रियों की शिकायतों का अंबार लग रहा है।

चलती ट्रेनों में यात्रियों को कॉक्रोच और चूहों ने परेशान कर रखा है। रेलवे हर साल इसके लिए लाखों रुपये खर्च करता है। लेकिन, ट्रेन में सफर के दौरान यात्रियों को इससे निजात नहीं मिल रही है। यात्री सोशल मीडिया पर कई बार फोटो तक वायरल कर चुके हैं। सोशल मीडिया पर सूचना देने के बाद यात्रियों को सफर के दौरान मदद मिलना बंद हो गई है। अभी हाल ही में लखनऊ मेल सरीखी वीआइपी ट्रेन में कॉक्रोच से परेशान होकर यात्रियों ने इसकी फोटो टि्वटर पर वायरल की थी, लेकिन यात्रियों को कोई मदद नहीं मिली। 

स्लीपर कोचों में बढ़ रहीं समस्याएं 
कॉक्रोच और चूहों की सबसे ज्यादा समस्याएं स्लीपर कोचों में आ रही हैं। दरअसल, एसी कोचों के मुकाबले स्लीपर कोच में साफ-सफाई का ध्यान नहीं दिया जा रहा है। हाल ही में, लखनऊ मेल के नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से छूटने से पहले ट्रेन के स्लीपर कोचों में पानी भरा था। यात्रियों ने इसकी शिकायत भी की, लेकिन नतीजा सिफर रहा। दूसरी तरफ, एसी कोचों में कॉक्रोच ने यात्रियों का सफर मुसीबत भरा बना रखा है। 

चण्डीगढ़-पाटलीपुत्र के सेकंड एसी में गंदगी का अंबार
ट्रेन 22356 चण्डीगढ़-पाटलीपुत्र एक्सप्रेस से लखनऊ से वाराणसी के दौरान सेकंड एसी यात्री प्रीति जलान ने टि्वटर पर शिकायत दर्ज कराई कि ट्रेन का कोच बुरी तरह से गंदा हो रखा है। प्रीति जलान ने इसको लेकर रेल मंत्रालय फोन कर सूचित भी किया। उन्होंने बताया कि चारबाग रेलवे स्टेशन से ट्रेन छूटने के बाद उन्हें फोन पर मदद का आश्वासन भी मिला, लेकिन चारबाग 250 किलोमीटर दूर आने के बाद भी अभी तक कोई मदद नहीं मिली है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:cockroaches and rats inside Shatabdi Express and premium trains are creating problem for passengers