ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशफिर एक्शन में दिखे सीएम योगी, मंत्रियों को सौंपा विधानसभा उपचुनाव का एजेंडा, बोले-अनावश्यक बयानबाजी से बचें, जनता का करें काम 

फिर एक्शन में दिखे सीएम योगी, मंत्रियों को सौंपा विधानसभा उपचुनाव का एजेंडा, बोले-अनावश्यक बयानबाजी से बचें, जनता का करें काम 

सीएम योगी आदित्यनाथ शनिवार को फिर एक्शन में दिखे। लोकसभा चुनाव के बाद बुलाई पहली मंत्रिपरिषद बैठक में उन्होंने मंत्रियों को यूपी में जल्द संभावित विधानसभा उपचुनावों के लिए जुटने का एजेंडा सौंपा।

फिर एक्शन में दिखे सीएम योगी, मंत्रियों को सौंपा विधानसभा उपचुनाव का एजेंडा, बोले-अनावश्यक बयानबाजी से बचें, जनता का करें काम 
-
Dinesh Rathourविशेष संवाददाता,लखनऊ।Sat, 08 Jun 2024 07:51 PM
ऐप पर पढ़ें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को फिर एक्शन में दिखे। लोकसभा चुनाव के बाद बुलाई पहली मंत्रिपरिषद बैठक में उन्होंने मंत्रियों को यूपी में जल्द संभावित विधानसभा उपचुनावों के लिए जुटने का एजेंडा सौंपा। कहा कि जनता के बीच रहें। पूरा फोकस अपने क्षेत्र, प्रभार वाले जिले और विभाग पर करें। नसीहत दी कि अनावश्यक बयानबाजी से बचें। मोबाइल पर बात करने में बेहद सावधानी बरतें। सीएम ने कहा कि नेताओं और कार्यकर्ताओं के अति आत्मविश्वास के चलते लोकसभा चुनाव के नतीजे हमारे अपेक्षित नहीं रहे। कुछ प्रत्याशियों को लेकर भी नाराजगी दिखी। इसी के चलते पूरी तरह गायब विपक्ष को संजीवनी मिल गई।

लोकसभा चुनाव के नतीजों से निकले संदेशों के साथ अब योगी सरकार फिर पूरे जोर-शोर से जनता के बीच सक्रिय होगी। प्रदेश में जल्द 15 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हो सकते हैं। लोकसभा चुनाव लड़ने वाले नौ विधायक अब सांसद बन गए हैं। इसमें भाजपा के पांच और सपा के अखिलेश यादव सहित चार विधायक शामिल हैं। इसके अलावा सपा राज्यसभा चुनाव में बगावत करने वाले छह विधायकों की सदस्यता भी खत्म कराना चाहती है। इसमें मनोज पांडेय, अभय सिंह, राकेश प्रताप सिंह, राकेश पांडे, आशुतोष मौर्या और विनोद चर्तुवेदी शामिल हैं। योगी सरकार का फोकस इन उपचुनावों पर होगा। बैठक में कहा गया कि जो मंत्री अपना क्षेत्र या बूथ हारें वह खास तौर पर कमियों को दूर करें। 

उपचुनाव वाली सीटों पर लगेगी ड्यूटी

उपचुनाव वाली सीटों पर जल्द कुछ मंत्रियों की ड्यूटी लगाई जाएगी। इनके जिम्मे सरकार के कामों के साथ ही चुनाव प्रबंधन का काम भी होगा। इसके लिए उन्हें संवाद और समन्वय का मंत्र दिया गया है। सीएम ने अपने सभी मंत्रियों को जमीनी पकड़ मजबूत करने के निर्देश दिए हैं। इस चुनाव में विपक्षी दल जैसे अपना एजेंडा नीचे तक पहुंचाने में सफल रहे, उसकी काट के लिए मुख्यमंत्री ने सोशल मीडिया नेटवर्क को मजबूत करने को कहा है। उन्होंने कहा कि केंद्र और प्रदेश सरकार के कामों, विभागीय उपलब्धियों को सोशल मीडिया के जरिए अधिकाधिक लोगों तक पहुंचाएं।

आशीष बोले विभाग से मिले सोशल मीडिया का बजट

सीएम ने जब सोशल मीडिया पर सक्रियता बढ़ाने की बात कही तो अपना दल (एस) कोटे से मंत्री आशीष पटेल ने कहा कि सोशल मीडिया टीम पर काफी खर्च आता है। इसके लिए बजट का कोई प्रावधान नहीं है। उन्होंने कहा कि विभाग की ओर से इसके लिए पैसे की व्यवस्था करा दी जाए। सीएम ने कहा कि इस पर विचार किया जाएगा।

सीएम की मंत्रियों को हिदायत

  • सभी मंत्री अनावश्यक बयानबाजी से बचें।
  • कोर्ट के फैसलों पर कोई प्रतिकूल प्रतिक्रिया कतई न दें। 
  • मंत्री के रूप में कोई भी शिकायती पत्र न लिखें। 
  • मोबाइल फोन पर बात करने में बेहद सावधानी बरतें।
  • विभागीय बजट पर अधिकारियों संग चर्चा कर तेजी से काम में जुटें।
  • आईजीआरएस पर आने वाली शिकायतों-समस्याओं का प्राथमिकता पर निवारण करें।
  • जनता की समस्याओं को निपटाने के लिए जी-जान से जुटें।