DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › सीएम योगी का बढ़ेगा और रुतबा: ब्लॉक प्रमुख चुनाव में भी भाजपा का कब्जा, 648 सीटें जीतीं
उत्तर प्रदेश

सीएम योगी का बढ़ेगा और रुतबा: ब्लॉक प्रमुख चुनाव में भी भाजपा का कब्जा, 648 सीटें जीतीं

लाइव हिन्दुस्तान टीम ,लखनऊPublished By: Amit Gupta
Sat, 10 Jul 2021 09:25 PM
सीएम योगी का बढ़ेगा और रुतबा: ब्लॉक प्रमुख चुनाव में भी भाजपा का कब्जा, 648 सीटें जीतीं

जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव की तरह यूपी ब्लाॅक प्रमुख चुनाव में भी भाजपा का दबदबा कायम रहा। 825 सीटों में से 735 सीट पर बीजेपी ने ब्लाॅक प्रमुख के प्रत्याशी दिए थे, उसमें से 648 सीटों पर भाजपा के प्रत्याशी जीत गए हैं। वहीं कई सीटों पर सपा ने भी कब्जा किया है। मतदान के दौरान कई जिलों में बवाल भी हुआ। 

सीएम योगी ने कहा कि मैं विजयी प्रत्याशियों को हृदय से बधाई देता हूं उनका अभिनंदन करता हूं। क्षेत्र पंचायत प्रमुख के चुनाव में 635 से अधिक सीटों पर भाजपा अपने सहयोगियों और समर्थकों के साथ विजयी बन रही है, ये संख्या पूरे परिणाम आने पर अभी और बढ़ेगी। सीएम ने कहा कि मुझे बताते हुए प्रसन्नता है कि पार्टी की जो रणनीति थी जनप्रतिनिधियों और कार्यकर्ताओं के माध्यम से आगे बढ़ी, उसका परिणाम था 75 जिला पंचायत अध्यक्ष में से 67 सीटों पर भाजपा और सहयोगी दलों ने विजय प्राप्त की। सीएम ने कहा कि केन्द्रीय नेतृत्व के मार्गदर्शन में प्रदेश संगठन और सरकार ने मिलकर जनता तक योजनाओं को बिना भेदभाव पहुंचाने का कार्य किया। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के परिणाम उसके जीवंत उदाहरण हैं। पिछले सवा चार वर्ष के दौरान प्रदेश सरकार द्वारा गांव, गरीब, किसान, नौजवान और समाज के प्रत्येक तबके के लिए जो योजनाएं बनाई गईं उन्हें बिना भेदभाव समाज तक पहुंचाने का कार्य हुआ है। 

 

फ्री सीटों पर भी बड़ी संख्या में भाजपा के नेता ही जीते

825 ब्लाकों के प्रमुख के लिए भाजपा ने 735 प्रत्याशी मैदान में उतारे थे। 14 सीटें सहयोगी अपना दल (सोनेलाल) को दिए थे। जबकि 76 सीटों पर पार्टी की तरफ से एक से अधिक मजबूत दावेदार होने की वजह से पार्टी ने इस सीटों को फ्री छोड़ दिया था। बताया जाता है कि जिन सीटों को भाजपा ने फ्री छोड़ा था उनमें से भी अधिकांश सीटों पर भाजपा को जीत हासिल हुई है। सहयोगी अपना दल (सोनेलाल) के 14 में से नौ प्रत्याशी चुनाव जीत गए हैं। भाजपा के प्रदेश महामंत्री व पंचायत चुनाव के प्रभारी जेपीएस राठौड़ ने कहा है कि पहली बार इस चुनाव में भाजपा योजनाबद्ध तरीके से चुनाव मैदान में उतरी और यह ऐतिहासिक सफलता मिली है। अब इसी उत्साह के साथ पार्टी विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारी में जुटेगी। उन्होंने इस जीत के लिए प्रत्याशियों के साथ ही कार्यकर्ताओं को बधाई दी है। 

सभी क्षेत्रों में भाजपा को मिली एकतरफा जीत

इस चुनाव में भाजपा को सभी क्षेत्रों में एकतरफा जीत हासिल हुई है। भाजपा पश्चिम क्षेत्र के 14 जिलों के 109 सीटों में से 85, ब्रज क्षेत्र के 12 जिलों की 129 सीटों में से 112,  कानपुर क्षेत्र के 14 जिलों की 110 सीटों में से 90, अवध क्षेत्र के 13 जिलों की 173 सीटों में से 136, काशी क्षेत्र के 12 जिलों की 157 सीटों में से 109 तथा गोरखपुर क्षेत्र के 10 जिलों की 147 सीटों में से 116 सीटों पर भाजपा और सहयोगी दलों को बड़ी जीत हासिल हुई है। 

पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी सहित 14 जिलों में क्लीन स्वीप

इस चुनाव में प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी सहित राज्य के 14 जिलों में किसी भी सीट से विपक्ष का खाता तक नहीं खुला। भाजपा से मिली जानकारी के मुताबिक वाराणसी, आगरा, बदायूं, शाहजहांपुर, श्रावस्ती, गौतमबुद्धनगर, पीलीभीत, कन्नौज, बांदा, महोबा, ललितपुर, सोनभद्र, वाराणसी तथा लखनऊ में भाजपा ने क्लीन स्वीप किया है।  
 

वाराणसी में बंपर जीत :

ब्लॉक प्रमुख चुनाव में सभी पदों पर भाजपा और उनके गठबंधन के प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की है। सबसे कड़ी टक्कर पिंडरा में रही। यहाँ भाजपा प्रत्याशी ने महज 7 वोट से विजयी हुआ। वहीं, बड़ागांव में भाजपा ने भितरघात किया। प्रतिद्वंद्वी निर्दल प्रत्याशी को जिताने में लगे रहे। हालांकि यहाँ अद(एस) प्रत्याशी विजयी हुई। चार ब्लॉकों में निर्विरोध निर्वाचन हुआ है। इस प्रकार सभी आठों ब्लॉकों में भाजपा व उसके सहयोगी दलों का परचम लहरा।

देवरिया में 16 में से 12 पर भाजपा का कब्जा

ब्लॉक प्रमुख चुनाव में देवरिया के 16 ब्लॉकों में से 12 ब्लॉकों पर भाजपा ने कब्जा जमा लिया जबकि सिर्फ 2 ब्लॉकों में सपा प्रत्याशियों को जीत मिली। वहीं दो जगह भाजपा के बागी प्रत्याशी जीत में कामयाब रहे। देवरिया सदर से भाजपा प्रत्याशी पवन कुमार गुप्ता 104 वोट पाकर विजयी रहे। जबकि सपा के सोहन लाल गुप्ता को यहां से 9 वोट ही मिले। देसही देवरिया से भाजपा प्रत्याशी प्रज्ञा तिवारी को 42 वोट मिले। यहां दूसरे स्थान पर निर्दल चुनाव लड़ रहे मुकेश कुमार को 22 वोट मिला, जबकि शैलेश तिवारी को मात्र एक वोट ही मिल सका। बैतालपुर से भाजपा प्रत्याशी चंदा देवी 70 वोट पाकर जीतीं। यहां से सपा प्रत्याशी शैल देवी को 27 वोट मिले।

शीश झुका कर वंदन करता हूं : स्वतंत्र देव सिंह 

राज्य के अंदर बहुमत से हम लोग और एक तरह कहा जाए कि भाजपा को बंपर जीत मिली है। राज्य के सभी लोगों का शीश झुका कर मैं हृदय से सभी लोगों का वंदन करता हूं। आज योगी जी के नेतृत्व में राज्य भ्रष्टाचार मुक्त हुआ है। घर में बैठी बेटी भी कहती है राज्य में 12 बजे भी मैं किसी सड़क पर निकल सकती हूं, किसी गुंडे की हैसियत नहीं है कि मुझे छेड़ दे।

बरेली मंडल की 52 सीटों में से 45 पर भाजपा जीती

बरेली मंडल के चार जिलों की 52 ब्लाक प्रमुख सीटों में से 45 पर भाजपा का कब्जा हो गया है। सपा मात्र तीन सीटों पर ही जीत हासिल कर सकी और चार सीटें निर्दलीय प्रत्याशियों ने जीतीं। बरेली की 15 ब्लॉक प्रमुख की सीटों में से 11  भाजपा ने अपने खाते में कर ली जबकि सपा ने तीन और एक सीट निर्दलीय उम्मीदवार ने जीती। एक दिन पहले पांच ब्लॉक प्रमुख निर्विरोध निर्वाचित हुए थे। इनमें चार पर भाजपा और एक पर सपा ने जीत हासिल की थी। शनिवार को 10 सीटों पर चुनाव हुआ। इनमें सात भाजपा के खाते में गईं। जबिक दो पर सपा ने जीत हासिल की। जबकि एक सीट निर्दलीय ने जीत ली। बदायूं जिले के सभी 15 ब्लाकों पर भाजपा की जीत हो गई। भाजपा की ओर से 13 उम्मीदवार निर्विरोध निर्वाचित हुए। दो ब्लाक बिसौली और वजीरगंज पर मतदान हुआ जिसमें भी भाजपा उम्मीदवारों ने जीत हासिल की। शाहजहांपुर जिले की 15 ब्लाक प्रमुख पद की सीटों पर भाजपा का कब्जा हो गया है। पहले ही 10 सीटों पर भाजपा के प्रत्याशी निर्विरोध ब्लाक प्रमुख बन गए थे। पांच सीटों पर चुनाव हुआ, इन पांचों सीटों पर भाजपा प्रत्याशियों ने सपा के प्रत्याशियों को पटखनी दे दी। पीलीभीत के सात ब्लाकों में से चार पर भाजपा और तीन पर निर्दलीय प्रत्याशियों ने जीत हासिल की है। इनमें भाजपा के दो निर्विरोध चुने गए थे।

कई जिलों में हुआ बवाल:

मतदान के दौरान बाराबंकी, रायबरेली, सुलतानपुर, लखीमपुर खीरी समेत कई जिलों में भाजपा और सपा कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। इटावा में वोटिंग के दौरान हुए बवाल की सूचना पर पहुंचे एसपी सिटी प्रशांत कुमार को किसी ने थप्पड़ मार दिया। इससे गुस्साई पुलिस ने कई राउंड हवाई फायरिंग की और आंसू गैस के गोले छोड़े। हाथरस में भी सपा-भाजपा कार्यकर्ताओं की झड़प के बाद पथराव और फायरिंग हुई। सुलतानपुर में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने सड़क जाम कर दी है। बाराबंकी और लखीमपुर खीरी में भाजपा-सपा प्रत्याशी आमने सामने आ गए। 

संबंधित खबरें