DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › सीएम योगी बोले-हमने अपने लिए नहीं, गरीबों के लिए बनाए 42 लाख मकान, 2022 में जीतेंगे 350 से ज्यादा सीटें
उत्तर प्रदेश

सीएम योगी बोले-हमने अपने लिए नहीं, गरीबों के लिए बनाए 42 लाख मकान, 2022 में जीतेंगे 350 से ज्यादा सीटें

लखनऊ। विशेष संवाददाताPublished By: Dinesh Rathour
Sun, 19 Sep 2021 11:34 PM
सीएम योगी बोले-हमने अपने लिए नहीं, गरीबों के लिए बनाए 42 लाख मकान, 2022 में जीतेंगे 350 से ज्यादा सीटें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि राज्य के सुरक्षा, विकास व सुशासन माडल की अब हर जगह सराहना हो रही है। इस कारण वह देश दुनिया में यूपी के बारे में पुरानी धारणा बदलने में कामयाब रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि चाहे कोरोना काल हो या कोई और मुश्किल हालात, हम हर संकट के वक्त जनता के साथ पूरी संवेदनशीलता से खड़े रहे। इसी कारण हम अगले विधानसभा चुनाव में 350 से ज्यादा सीटें जीतेंगे। 

भाजपा से पहले दो सरकारों ने लूट-खसोट की

मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार के साढ़े चार साल पूरे होने के मौके पर रविवार को मंत्रिमंडलीय सहयोगियों व भाजपा संगठन के पदाधिकारियों के साथ प्रेस कांफ्रेंस कर अपने कामकाज का हिसाब दिया। उन्होंने विपक्षी दलों को निशाने पर लेते हुए कहा कि भाजपा सरकार से पहले की दो सरकारों में जो लूट खसोट, दंगे, गुंडागर्दी थी, उसको उन्होंने सख्ती से  कुचला है। सीएम ने कहा कि यह वही उत्तर प्रदेश है, जहां पेशेवर माफिया सत्ता के संरक्षण में अराजकता फैलाते थे। जिस यूपी को पहले विकास में अवरोधक माना जाता था, वह अब केंद्र की 44 परियोजनाओं में नंबर एक पर है।

पूर्व मुख्यमंत्रियों में अपनी हवेली बनाने की होड़ लगती थी 

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले के मुख्यमंत्री अपनी हवेली-बंगले बनाने के लिए दूसरों के मकान गिरवाते थे, लेकिन हमने अपने लिए नहीं, 42 लाख गरीबों के लिए आवास बनाए हैं। पहले ट्रांसफर पोस्टिंग में खूब लेन-देन होता था। हमने इस पर रोक लगाई। पहले ताश के पत्तों की तरह नौकरशाही फेंट दी जाती थी। अब प्रशासनिक स्थिरता है। उन्होंने इस कामयाबी का श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन को दिया। साथ ही कहा कि गृहमंत्री अमित शाह, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्रियों के साथ-साथ पार्टी संगठन का भरपूर सहयोग रहा। 

पहले भर्ती में वसूली के लिए पूरा खानदान निकल पड़ता था 

मुख्यमंत्री ने कहा कि बीते चार साल में एक भी दंगा नहीं हुआ। पहले जब सरकारी नौकरी की भर्ती निकलती थी तो वसूली के लिए पूरा खानदान निकल पड़ता था। आज केवल मेरिट और मेधा का सम्मान है। वर्ष 2005-06 में यहां खाद्यान्न घोटाला हुआ था। लोग भूख से मरते थे। हमने जांच कराई तो 40 लाख फर्जी राशन कार्ड मिले। आज कोविड काल में 15 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन मिल रहा है। 

यूपी ने दिया कोविड प्रबंधन का सफल मॉडल

सीएम ने कहा कि यूपी के कोरोना प्रबंधन के मॉडल को हर ओर सराहा जा रहा है। कोरोना काल में ही देश की पहली मोबाइल डिस्प्ले यूनिट यूपी में लगी। यह नया उत्तर प्रदेश निवेशकों की पहली पसंद है तो पर्यटकों के मन की चाह भी है। प्रदेश में साढ़े चार लाख युवाओं को नौकरी दी गई है। सरकार के किए गए सुधार और विकास कार्यों का ही यह असर है कि आज प्रदेश निवेश के लिए पहले स्थान पर हैं। 

पहले विपक्षी नेता अयोध्या जाने से डरते थे

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले कुत्सित विचारों वाले विपक्षी दल अयोध्या जाने से डरते थे और अयोध्या में दीपोत्सव नहीं करवाते थे। उनमें डर था  कि कहीं साम्प्रदायिकता का ठप्पा न लग जाए और हम पर तंज करते थे कि मंदिर वहीं बनाएंगे पर तारीख नहीं बताएंगे। आज पूरी दुनिया अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण देख रही है। उन्होंने कहा कि अयोध्या दीपोत्सव, काशी की देव दीपावली, बरसाना का रंगोत्सव दुनिया को भारत की संस्कृति से परिचित करा रहा है।

विपक्ष पढ़ने की आदत डाले, भाजपा के प्रशिक्षण में शामिल हो 

मुख्यमंत्री से पूछा गया कि विपक्ष ने संकल्प पत्र के वादों को पूरा न करने का आरोप लगाया है, इस पर सीएम ने कहा कि 2017 विधानसभा चुनाव में जनता के सामने प्रस्तुत लोककल्याण संकल्प पत्र का एक-एक वादा पूरा किया गया है। विपक्ष को पढ़ने की आदत डालनी चाहिए और अपनी जानकारी बढ़ाने के लिए भाजपा संगठन के प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होना चाहिए।

संबंधित खबरें