ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशवाराणसी समेत दस जिलों के कमिश्नर और सात डीएम पर सीएम योगी की नजरें टेढ़ी, लटकी कार्रवाई की तलवार

वाराणसी समेत दस जिलों के कमिश्नर और सात डीएम पर सीएम योगी की नजरें टेढ़ी, लटकी कार्रवाई की तलवार

सीएम योगी ने राजस्व मामलों के निस्तारण में लापरवाही पर वाराणसी समेत 10 जिलों के कमिश्नर और 7 जिलाधिकारियों पर नाराजगी जाहिर की है। इन अधिकारियों से जवाब तलब किया गया है। बड़ी कार्रवाई हो सकती है।

वाराणसी समेत दस जिलों के कमिश्नर और सात डीएम पर सीएम योगी की नजरें टेढ़ी, लटकी कार्रवाई की तलवार
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,लखनऊTue, 21 Nov 2023 08:46 PM
ऐप पर पढ़ें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को राजस्व वादों के निस्तारण में लेटलतीफी, लापरवाही, अनियमितता बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ नाराजगी जाहिर की है। मुख्यमंत्री ने अक्तूबर में राजस्व वादों के खराब निस्तारण पर वाराणसी समेत प्रदेश के 10 मंडलायुक्त और सात जिलाधिकारियों से जवाब-तलब किया है। वहीं माना जा रहा है कि संतोषजनक जवाब न मिलने पर अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा सकती है। अपर मुख्य सचिव राजस्व सुधीर गर्ग ने बताया कि मुख्यमंत्री ने प्रदेश के विभिन्न राजस्व न्यायालयों में लम्बित राजस्व वादों के त्वरित और समयबद्ध निस्तारण के लिए 60 दिन का विशेष अभियान चलाने के निर्देश दिये थे।

इसके साथ ही विशेष अभियान की हर मंगलवार को शासन स्तर पर समीक्षा करने के निर्देश दिए थे। ऐसे में अक्तूबर की समीक्षा बैठक मे पाया गया कि दस मंडलायुक्त (वाराणसी, सहारनपुर, आजमगढ़, अलीगढ़, बस्ती, चित्रकूट धाम, आजमगढ़, अयोध्या, सहारनपुर, अलीगढ़) और सात जिलाधिकारी (बागपत, शामली, मुजफ्फरनगर, हापुड़, चित्रकूट, ललितपुर, अमरोहा) द्वारा राजस्व के लंबित और नये वादों के निस्तारण में लापरवाही बरती जा रही है। 

इस पर मुख्यमंत्री के निर्देश पर शासन ने लापरवाह अधिकारियों से जवाब-तलब किया है। साथ ही लम्बित राजस्व वादों का मानक एवं निर्धारित लक्ष्य के अनुसार समयबद्ध एवं गुणवत्तापूर्ण निस्तारण सुनिश्चित कराने के सख्त निर्देश दिये हैं। वहीं माना जा रहा है कि जवाब संतोषजनक न मिलने पर बड़ी कार्रवाई की जा सकती है। 

वाराणसी मंडल में 440 लंबित वादों के सापेक्ष 82 मामलों का ही हुआ निस्तारण
अपर मुख्य सचिव राजस्व ने बताया कि प्रदेश के पांच मंडलों में लंबित मामलों के निस्तारण में लापरवाही बरती जा रही है। उन्होंने बताया कि वाराणसी मंडल में चार राजस्व न्यायालय हैं, जहां पर 440 लंबित राजस्व वादों के सापेक्ष 82 वादों का ही निस्तारण किया गया। इसी तरह सहारनपुर मंडल में चार राजस्व न्यायालय हैं, जहां पर 280 लंबित राजस्व वादों के सापेक्ष 54 वादों का ही निस्तारण किया गया जबकि आजमगढ़ मंडल में पांच राजस्व न्यायालय हैं, जहां पर 481 लंबित राजस्व वादों के सापेक्ष 126 वादों का ही निस्तारण किया गया।

अलीगढ़ मंडल में तीन राजस्व न्यायालय हैं, जहां पर 280 लंबित राजस्व वादों के सापेक्ष 83 वादों का ही निस्तारण किया गया जबकि बस्ती मंडल में तीन राजस्व न्यायालय हैं, जहां पर 280 लंबित राजस्व वादों के सापेक्ष 114 वादों का ही निस्तारण किया गया। इसके अलावा नए दायर वादों के निस्तारण में खराब प्रदर्शन करने वाले पांच बॉटम मंडलों में चित्रकूट धाम, आजमगढ़, अयोध्या, सहारनपुर और अलीगढ़ शामिल हैं। इसी तरह राजस्व मामलों के निस्तारण में लारवाही पर सात जिलाधिकारियों को नोटिस थमाई गई है।