DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › सीएम योगी का नया फैसला: महाराष्ट्र, केरल से यूपी आने वालों की कोविड जांच जरूरी
उत्तर प्रदेश

सीएम योगी का नया फैसला: महाराष्ट्र, केरल से यूपी आने वालों की कोविड जांच जरूरी

संवाददाता ,लखनऊPublished By: Amit Gupta
Tue, 28 Sep 2021 03:11 PM
सीएम योगी का नया फैसला: महाराष्ट्र, केरल से यूपी आने वालों की कोविड जांच जरूरी

योगी सरकार यूपी में दूसरे राज्यों से आने वालों की कोविड जांच हर हाल में कराएगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों के साथ बैठक में यह निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव और उपचार की व्यवस्थाओं को लगातार बेहतर रखा जाए। संक्रमण तेजी से कम हो रहा है, लेकिन अभी समाप्त नहीं हुआ है। यह अतिरिक्त सतर्कता व सावधानी बरतने का समय है।

मुख्यमंत्री को बैठक में बताया गया कि पिछले 24 घंटों में राज्य में कोरोना संक्रमण के सात नए मामले सामने आए हैं। अलीगढ़, अमेठी, अमरोहा, औरैया, अयोध्या, आजमगढ़, बदायूं, बागपत, बलिया, बांदा, बहराइच, बिजनौर, फर्रुखाबाद, गाजीपुर, गोंडा, हमीरपुर, हापुड़, हरदोई, हाथरस, कानपुर देहात, कासगंज, महोबा, मीरजापुर, मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, रामपुर, संतकबीर नगर, शामली, श्रावस्ती, सीतापुर और सोनभद्र में कोविड का एक भी मरीज नहीं है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रिकवरी दर 98.7 प्रतिशत है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव में कोविड टीकाकरण एक महत्वपूर्ण सुरक्षा कवच है। वैक्सीन की पहली डोज ले चुके लोग समय से दूसरी डोज लें, इसके लिए विशेष अभियान चलाया जाए। प्रदेश में 10 करोड़ 3 लाख 9 हजार से अधिक वैक्सीन लगाई जा चुकी है। डेंगू व अन्य वायरल बीमारियों के लिए सर्विलान्स कार्यक्रम चलाने का निर्देश दिया। साथ में स्वच्छता, सैनिटाइजेशन और फॉगिंग अभियान भी जारी रखा जाए।

उद्यमियों व व्यापारियों की समस्याओं का समाधान करें

मुख्यमंत्री ने कहा कि उद्यमियों और व्यापारियों की समस्याओं का समाधान किया जाए। डीएम की अध्यक्षता में हर माह और मंडलायुक्त की अध्यक्षता में दो माह में व्यापारिक व औद्योगिक संगठन के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की जाए। डीएम की बैठक में एसएसपी व एसपी और मंडलायुक्त की बैठक में आईजी, डीआईजी स्तर के अधिकारी जरूरी शामिल हों।

खुले मैदान में होगी रामलीला

प्रदेश में रामलीला आयोजन की समृद्ध परंपरा है। नवरात्रि, दशहरा व दीपावली के पर्व नजदीक है। रामलीला कमेटियों की तैयारियां शुरू हो गई होंगी। सभी कमेटियों से बातचीत कर उन्हें कोविड प्रोटोकॉल के अनुरूप आयोजन करने के लिए प्रेरित किया जाए। रामलीला का मंचन खुले मैदान में किया जाए। मैदान की क्षमता के अनुरूप दर्शकों के शामिल होने की अनुमति दी जाए।

संबंधित खबरें