DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  दीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना का शुभारंभ, तीन हजार 484 लाभार्थियों के खाते में भेजे गए 17.42 करोड़ रुपये : सीएम योगी

उत्तर प्रदेशदीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना का शुभारंभ, तीन हजार 484 लाभार्थियों के खाते में भेजे गए 17.42 करोड़ रुपये : सीएम योगी

प्रमुख संवाददाता,लखनऊPublished By: Dinesh Rathour
Sat, 18 Jul 2020 08:10 PM
दीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना का शुभारंभ, तीन हजार 484 लाभार्थियों के खाते में भेजे गए 17.42 करोड़ रुपये : सीएम योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अगर अनुसूचित जाति से जुड़े हुए हमारे बंधुगण आर्थिक रूप से समाज की मुख्यधारा से जुड़ जाएंगे तो सामाजिक रूप से उनसे भेदभाव करने का दुस्साहस कोई नहीं कर सकेगा। आर्थिक समानता, सामाजिक समानता का आधार बनती है। मुख्यमंत्री शनिवार को 'नवीन रोजगार छतरी योजना' के शुभारंभ पर ये बातें कहीं। इस योजना के शुभारंभ पर पं. दीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना के  3,484 लाभार्थियों को उनके खाते में सीधे 17.42 करोड़ रुपये ऑनलाइन पैसा भेजा। इस पैसे  से वह अपना रोजगार शुरू करेंगे। 

छह जिलों के लाभार्थियों से की बात

मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज में एक तबका मजबूत और दूसरा कमजोर होने वाला कभी भी आत्मनिर्भर समाज नहीं बन सकता है। इसके लिए सामाजिक और आर्थिक स्तर पर संतुलन जरूरी है। इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए सरकार 'सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास' के मूल मंत्र पर काम कर रही है। यह योजना अनुसूचित जाति के गरीब व्यक्तियों के सर्वागीण विकास के लिए है। मुख्यमंत्री ने इस दौरान रायबरेली, गोरखपुर, बस्ती, मेरठ, आजमगढ़ और मुरादाबाद के लाभार्थियों से बात भी किए। लाभार्थियों ने बताया कि वे इस पैसे से परचून की दुकान, जनरेटर सेट, लांड्री और ड्राइक्लीनिंग, साइबर कैफे, टेलरिंग, बैंकिंग, टेंट हाउस, गौ-पालन आदि का काम करेंगे।

डा. भीमराव आंबेडकर सपना हो रहा साकार

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरा विश्व इस समय वैश्विक महामारी कोविड-19 से त्रस्त है। इससे न केवल आर्थिक जगत की स्थितियां खराब हुई हैं, बल्कि सामाजिक और अन्य सभी प्रकार की व्यवस्थाएं भी प्रभावित हुई हैं। इन परिस्थितियों में भी प्रदेश सरकार लोगों को आर्थिक मदद देकर उन्हें स्वावलंबी बनाने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि डा. भीमराव आंबेडकर और अन्य सभी महापुरुषों के सामाजिक समानता का सपना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व प्रदेश सरकार पूरा करने का काम कर रही है। जरूरतमंदों को 1000-1000 रुपये भरण-पोषण भत्ता देने के साथ 1.25 करोड़ से अधिक को रोजगार व स्वरोजगार से जोड़ा जा चुका है। कोविड-19 के दौरान 3.56 करोड़ प्रधानमंत्री जनधन खातों में 500-500 रुपये भेजे जा चुके हैं। समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री आदि इस मौके पर थे। वित्तीय वर्ष 2020-21 के प्रथम त्रैमास में विश्वव्यापी कोविड-19 महामारी के बाद भी प्रदेश में 1,77,491 अनुसूचित जाति के व्यक्तियों को विभागों द्वारा वित्तीय सुविधा उपलब्ध कराई गई है।
 

संबंधित खबरें