ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशन नई परंपरा शुरू हो, न सड़क पर नमाज हो, बकरीद को लेकर सीएम योगी का अफसरों को निर्देश

न नई परंपरा शुरू हो, न सड़क पर नमाज हो, बकरीद को लेकर सीएम योगी का अफसरों को निर्देश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को सुशासन के लिए पुलिस और प्रशानिक अधिकारियों को मंत्र दिया। इसके साथ की बकरीद को लेकर दोहराया कि न नई परंपरा शुरू हो और न ही सड़क पर कहीं नमाज अदा की जाए।

न नई परंपरा शुरू हो, न सड़क पर नमाज हो, बकरीद को लेकर सीएम योगी का अफसरों को निर्देश
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊThu, 13 Jun 2024 11:33 PM
ऐप पर पढ़ें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को सुशासन के लिए अधिकारियों को मंत्र दिया। उन्होंने कहा कि संवाद व समन्वय बनाकर जनता का विश्वास जीतें। उन्होंने परियोजनाओं पर जनप्रतिनिधियों से संवाद स्थापित कर उनका मार्गदर्शन लेने का निर्देश दिया। बकरीद पर तैयारियों की चर्चा करते हुए उन्होंने फिर दोहराया कि सड़क पर नमाज नहीं होगी और प्रतिबंधित पशु कटें तो हर हाल में कार्रवाई हो। मुख्यमंत्री आगामी पर्वों-त्योहारों के दृष्टिगत कानून-व्यवस्था और श्रद्धालुओं की सुविधाओं के संबंध में शासन स्तर के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ पुलिस कमिश्नरों, मंडलायुक्तों, जिलाधिकारियों व पुलिस कप्तानों द्वारा की जा रही तैयारियों की वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए समीक्षा कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि आगामी 16 जून को गंगा दशहरा, 17 जून को बकरीद, 18 जून को ज्येष्ठ माह का मंगल और 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन है, जबकि जुलाई में मोहर्रम और कांवड़ यात्रा जैसे कार्यक्रम होने हैं। स्वाभाविक रूप से यह समय कानून-व्यवस्था की दृष्टि से अत्यंत संवेदनशील है। इस कारण शासन-प्रशासन को 24 घंटे सतर्क रहने की आवश्यकता है। इन आयोजनों के लिए प्रदेश में 15 से 22 जून तक विशेष स्वच्छता अभियान चलाया जाए। गंगा दशहरा के दृष्टिगत गंगा नदी के घाटों की साफ-सफाई और साज-सज्जा की जाए। उन्होंने कहा कि गांव, नगर, महानगर, कहीं भी रोस्टरिंग के नाम पर अनावश्यक पावर कट न हो। ट्रांसफार्मर खराब होने अथवा फॉल्ट की समस्या का तेजी के साथ निस्तारण कराएं। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि थाना, सर्किल, जिला, रेंज, जोन व मंडल स्तर पर तैनात वरिष्ठ अधिकारी अपने-अपने क्षेत्र के धर्मगुरुओं व समाज के अन्य प्रतिष्ठित जनों के साथ संवाद बनाएं। लोगों के लिए सकारात्मक संदेश जारी कराएं। बकरीद पर कुर्बानी के लिए स्थान का चिह्नांकन पहले से ही होना चाहिए। इसके अतिरिक्त कहीं और कुर्बानी न हो। विवादित व संवेदनशील स्थलों पर कुर्बानी नहीं होनी चाहिए। कहीं भी प्रतिबंधित पशु की कुर्बानी न हो। नमाज परंपरानुसार एक निर्धारित स्थल पर ही हों। सड़क मार्ग अवरुद्ध कर नमाज नहीं होनी चाहिए। आस्था का सम्मान करें किंतु किसी नई परंपरा को प्रोत्साहन न दें। वीडियोग्राफी कराएं व ड्रोन का इस्तेमाल किया जाए। उन्होंने कहा कि यदि कोई शांति व्यवस्था को खराब करने का प्रयास करता मिले तो उसके साथ पूरी कड़ाई की जाए। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि वाहन सरकारी हो या कि प्राइवेट, प्रेशर हॉर्न अथवा हूटर नहीं बजना चाहिए। वीआईपी फ्लीट में सबसे आगे की गाड़ी में एक तय ध्वनि सीमा के साथ ही हूटर बजे। यदि कहीं से भी प्रेशर हॉर्न अथवा हूटर बजने की सूचना मिली तो संबंधित थाना पर कार्रवाई होनी तय है। वीआईपी कल्चर को किसी भी दशा में स्वीकार नहीं किया जाएगा। 

जनता की शिकायत निपटाने में कोई लापरवाही हुई तो कार्रवाई होगी
उन्होंने कहा कि मैंने जनता दर्शन कार्यक्रम पुनः प्रारंभ कर दिया है। जिलों से आ रहीं शिकायतों व आवेदनों की समीक्षा की जा रही है। जिस क्षेत्र से अधिक शिकायतें मिल रहीं हैं, उसी अनुसार वहां के अधिकारियों की जवाबदेही तय की जाएगी। जनता दर्शन कार्यक्रम जिला, रेंज व ज़ोन स्तर भी तत्काल शुरू हो। कौन सा अधिकारी किस दिन जहां जनसुनवाई करेगा, इसके बारे में जनता के बीच पहले से ही पहले से प्रसारित की जाए। सरकार की कार्रवाई माफिया के खिलाफ है, गरीब के खिलाफ नहीं। यह कार्रवाई और तेज की जाए। उन्होंने कहा कि फील्ड में तैनात अधिकारियों को सीयूजी फोन दिए गए हैं। यह जनता के लिए है, उसे 24 घंटे चालू रखें। हर अधिकारी यह फोन स्वयं रिसीव करें। कतिपय कारणवश रिसीव न कर सकें तो कॉल बैक करें। जनप्रतिनिधियों से भी संवाद बनाए रखें। 

उन्होंने कहा कि सरकार ने भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है। ब्लॉक हो या जिला मुख्यालय या फिर सचिवालय, कहीं भी किसी भी स्तर पर यदि अनैतिक लेन-देन की शिकायत प्राप्त हुई तो इसमें संलिप्त हर किसी के खिलाफ कार्रवाई होनी तय है। उन्होंने कहा कि 21 जून के मुख्य समारोह को सभी ग्राम पंचायतों और नगरीय निकायों में आयोजित किया जाए। अमृत सरोवर, ऐतिहासिक महत्व के स्थलों और सांस्कृतिक स्थलों में योगाभ्यास कराया जाना उचित होगा।