ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशएक सप्ताह पहले बताएं, तब रामलला के दर्शन के लिए अयोध्या आएं; सीएम योगी की वीआईपी से अपील

एक सप्ताह पहले बताएं, तब रामलला के दर्शन के लिए अयोध्या आएं; सीएम योगी की वीआईपी से अपील

राम मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुए सीएम योगी ने VIP गेस्ट से अगले 10 दिनों तक राम नगरी न आने का आग्रह किया है। साथ ही जब अयोध्या आएं तो इसकी सूचना एक हफ्ते पहले ट्रस्ट को दे दें।

एक सप्ताह पहले बताएं, तब रामलला के दर्शन के लिए अयोध्या आएं; सीएम योगी की वीआईपी से अपील
Pawan Kumar Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,अयोध्याWed, 24 Jan 2024 04:37 PM
ऐप पर पढ़ें

राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा के बाद अयोध्या में रामभक्तों का हुजूम उमड़ पड़ा है। मंगलवार को पांच लाख से अधिक लोगों ने रामलला का दर्शन किया। बढ़ती भीड़ को देखते हुए अब मंदिर में दर्शन का समय बढ़ा दिया गया है। अब सुबह 6 बजे से लेकर रात के 10 बजे तक श्रद्धालु रामलला के दर्शन कर पाएंगे। साथ ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी भीड़ को देखते हुए वीआईपी गेस्ट को अगले दस दिनों तक अयोध्या न आने का अनुरोध किया है। 

रामलला के प्राण प्रतिष्ठा के बाद अयोध्या आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ गई है। आए दिन लाखों की संख्या में लोग राम मंदिर पहुंच रहे हैं। मंगलवार को मंदिर में कुछ कदर भीड़ बढ़ी कि प्रमुख सचिव गृह संजय प्रसाद और डीजीपी कानून व्यवस्था लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार को मौके पर पहुंचना पड़ा। साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी हेलीकॉप्टर से सीधे अयोध्या पहुंच गए और अफसरों की मीटिंग बुलाई। सीएम ने आला आधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। बुधावार को रामलला के दर्शन को पहुंचे श्रद्धालुओं के लिए मंगलवार के मुकाबले आसानी नजर आई। पुलिस ने भारी भीड़ की स्थिति को नियंत्रित कर लिया। अब सीएम योगी आदित्यनाथ ने वीआईपी गेस्ट से आग्रह किया है कि वह अगले कुछ दिनों तक अयोध्या न आएं। साथ ही आने से एक हफ्ते पहले श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास या राज्य सरकार को सूचित कर दिया जाए।

आप भी अयोध्या जाने का बना रहे हैं प्लान, तो इन स्थानों पर जाना न भूलें, ये हैं टॉप टूरिस्ट प्लेस

ई बसों के संचालन पर रोक

मंगलवार को श्रद्धालुओं की बढ़ती भीड़ को देखते हुए रामनगरी में ई बसों के आवाजाही पर रोक लगा दी गई। उदया चौरहा, चूड़ामणि चौराहा और हाइे स्थित साके पेट्रोल पंप के बास बैरियर लगने से बसों को यहीं से वापस जाना पड़ रहा था।                                 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें