DA Image
26 अक्तूबर, 2020|9:14|IST

अगली स्टोरी

कानपुर संजीत हत्याकांड में पुलिस की नाकामी पर सीएम योगी नाराज,  मुख्य सचिव, डीजीपी व अपर मुख्य सचिव गृह को किया तलब

कानुपर में लैब टेक्नीशियन संजीत यादव की हत्या कर लाश नहर में फेंक देने का खुलासा होने के बाद पूरे मामले में पुलिस की नाकामी को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त नाराज़गी जताई। उन्होंने लखनऊ में शुक्रवार सुबह ही मुख्य सचिव, डीजीपी व अपर मुख्य सचिव गृह को तलब किया और पूरे मामले की समीक्षा की। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर नगर की एसपी साउथ अपर्णा गुप्ता समेत 11 पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया है। मुख्यमंत्री ने पुलिस लापरवाही की जांच एडीजी बीपी जोगदंड को सौंपी है।

शुक्रवार को कानपुर पुलिस ने खुलासा किया था कि संजीत यादव की उसके दो दोस्तों ने ही फिरौती के लिए उसका अपहरण कर हत्या कर दी थी। हालांकि पुलिस ने शुक्रवार को अपहरण में शामिल एक महिला समेत पांच अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया। कानुपर पुलिस न केवल वक्त रहते हत्यारों को दबोचने में नाकाम रही बल्कि उसने हीलाहवाली करते हुए अपहरणकर्ताओं को फिरौती की 30 लाख रुपये की रकम भी दिलवा दी। दूसरी ओर सियासी दलों ने इस कांड को लेकर एक बार फिर प्रदेश की भाजपा सरकार पर ध्वस्त कानून-व्यवस्था का आरोप लगाते हुए जोरदार हमला किया है।

सुजीत हत्याकांड में कानपुर पुलिस ने खुलासा किया है कि बर्रा-5 इलाके से 22 जून को अगवा किए गए लैब टेक्नीशियन संजीत यादव की हत्या कर दी गई है। अपहर्ताओं ने संजीत की हत्या 27 जून की सुबह ही कर दी थी। यह खुलासा दबोचे गए पांच अपहर्ताओं ने पुलिस की पूछताछ में किया है। अपहर्ताओं में दो संजीत के करीबी दोस्त थे। पुलिस अब तक शव बरामद नहीं कर पाई है। 

पुलिस संजीत का शव बरामद नहीं कर सकी
अपहरण कांड को लेकर पुलिस की अच्छी खासी फजीहत हो रही थी। किसी तरह से पुलिस ने अपहर्ता तो दबोच लिए लेकिन संजीत को नहीं बचा पाई। शुक्रवार सुबह आईजी मोहित अग्रवाल और एसएसपी दिनेश कुमार पी ने मीडिया को बताया कि बर्रा-5 निवासी चमन सिंह यादव के बेटे संजीत का अपहरण 22 जून को उसके दो दोस्तों समेत पांच लोगों ने अस्पताल से निकलने के बाद कर लिया था। उसे संजीत के घर से महज एक किलोमीटर दूर रतनलाल नगर स्थित एक घर में बंधक रखा गया था। भागने की कोशिश में अपहर्ताओं ने संजीत को 27 जून की भोर में ही रस्सी से गला घोंटकर मार डाला था। शव को ठिकाने लगाने के लिए उसे एक प्लास्टिक की बोरी में भरा और ले जाकर पांडु नदी में फेंक दिया। बेखौफ अपहर्ताओं ने हत्या के दो दिन बाद 29 जून को परिजनों को फोन कर 30 लाख की फिरौती मांगी।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:CM Yogi Adityanath angry over failure of police in Kanpur Sanjit yadav murder case summoned to Chief Secretary DGP and Additional Chief Secretary Home