DA Image
1 जुलाई, 2020|5:57|IST

अगली स्टोरी

निजी डॉक्टर ने जिस बच्चे की जान का खतरा बताकर दिल्ली ले जाने की दी थी सलाह, सीएचसी के डॉक्टरों ने उसे दे दिया जीवनदान

chc doctor rescues newborn from hard work of twenty days

शाहजहांपुर के एक नामचीन बाल रोग विशेषज्ञ द्वारा जिस नवजात को कुछ मिनटों का मेहमान बता कर हजारों रुपए ठग लिए थे, उस शिशु को बीस दिन की कड़ी मेहनत के बाद तिलहर सीएचसी के डाक्टर अजय प्रताप सिंह ने बचा लिया। डाक्टर की कामयाबी पर समाजसेवियों ने उन्हें बधाई दी। ढकियारघा गांव के अजय सिंह ने बताया कि 6 जून को उन्होंने नवजात को शाहजहांपुर के नामचीन बाल रोग विशेषज्ञ के यहां भर्ती कराया था।

उन्होंने बताया कि डाक्टर ने 6 दिनों तक शिशु को वेंटीलेटर पर रखकर भर्ती किया था। तमाम जांचें कराईं, हजारों रुपए ठग लिए। इसके बाद नवजात के दिल में खराबी होने की बात कहकर दिल्ली ले जाने के लिए कह दिया था। साथ ही यह भी कहा कि बच्ची कुछ मिनटों की मेहमान है। परिजन नवजात को लेकर सीएचसी तिलहर पहुंचे, जहां बाल रोग विशेषज्ञ डाक्टर अजय प्रताप सिंह व डा.शालिनी सिंह ने पूरी लगन से नवजात का इलाज शुरू किया। चिकित्साधीक्षक डा. कमरुज्जमा ने शिशु को एनआईसीयू में भर्ती कर इलाज शुरू कराया।

चिकित्साधीक्षक डा.कमरुज्जमा के निर्देशन में डॉक्टरों के अलावा नर्स तथा वार्ड ब्याय नवजात को बचाने में लगे रहे। बाल रोग विशेषज्ञ डाक्टर अजय प्रताप सिंह ने शिशु को स्वयं ले जाकर दिल की जांच कराई, जिसमें रिपोर्ट सही पाई गई। इसके बाद डाक्टरों ने 20 दिन की कड़ी मेहनत और लगन के साथ नवजात को बचा लिया। बुधवार को नवजात की छुट्टी सीएचसी से की गई। डाक्टर की कामयाबी पर लोगों ने उन्हें बधाई दी।

नवजात के दिल में कोई भी परेशानी नहीं थी। प्रसव के दौरान गंदा पानी शिशु के अंदर चले जाने से कई इंफेक्शन हो गए थे। इंफेक्शन होने के कारण शिशु को सांस लेने में परेशानी हो रही थी। शिशु को आक्सीजन पर रखा गया था, अब शिशु नॉर्मल हो गया है। कामयाबी पर पूरी अस्पताल टीम का श्रेय है।
डा. अजय प्रताप सिंह, बाल रोग विशेषज्ञ तिलहर सीएचसी

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:CHC doctor rescues newborn from hard work of twenty days