DA Image
26 नवंबर, 2020|7:40|IST

अगली स्टोरी

यूपी बोर्ड परीक्षा के लिए केंद्र निर्धारण नीति तय, छात्राओं का रखा जाएगा विशेष ख्याल

उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से हाईस्कूल, इंटरमीडिएट परीक्षा 2021 के लिए केंद्र निर्धारण नीति जारी कर दी गई है। इस बार केंद्र निर्धारण प्रक्रिया में परिवर्तन कर दिया गया है। बोर्ड परीक्षा के लिए गर्ल्स कॉलेज को पहले सेंटर बनाया जाएगा। बालिका विद्यालयों को राजकीय एवं सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों पर वरीयता दी गई है।

इसके बाद जरूरत के हिसाब से सेंटर बनाए जाएंगे। जबकि पिछले साल राजकीय, सहायता प्राप्त तथा वित्तविहीन कॉलेज के आधार पर सेंटर का निर्धारण किया जाता था। उसमें बालिका कॉलेज की प्राथमिकता नहीं होती थी। इस बार केंद्र निर्धारण की जांच डीआईओएस नहीं, बल्कि जिलाधिकारी जांच करेंगे। 

शासन की ओर से जारी निर्देश में कहा गया है कि वित्तविहीन विद्यालयों को केंद्र बनाने में सबसे अंत में रखा जाए। शासन की ओर से कहा गया है कि परीक्षा केंद्र निर्धारित होने वाले बालिका विद्यालयों में मान्यता प्राप्त विद्यालयों के बालक परीक्षार्थियों का केंद्र न बनाया जाए।

जिन विद्यालयों की धारण क्षमता एक पाली में 150 से कम होगी, उन्हें परीक्षा केंद्र न बनाया जाए। इस बार शासन ने केंद्र तय करने की जिम्मेदारी पूरी तरह से जिलाधिकारी के हवाले कर दी है। जिलाधिकारी की ओर से तय केंद्रों की सूची को जिला विद्यालय निरीक्षक यूपी बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड करेंगे।

साफ्टवेयर करेगा परीक्षा केंद्रों का निर्धारण
जिला विद्यालय निरीक्षक की ओर से यूपी बोर्ड की वेबसाइट पर उपलब्ध कराई गई जानकारी के आधार पर परीक्षा केंद्रों का निर्धारण साफ्टवेयर ऑनलाइन करेगा। विद्यालयों की ओर से उनके बारे में उपलब्ध कराई गई जानकारी के आधार पर अंक देने के साथ राजकीय, सहायता प्राप्त एवं वित्तविहीन विद्यालयों की अलग-अलग मेरिट तैयार की जाएगी। पिछले वर्ष परीक्षा केंद्र होने पर 20 अंक, 2020 में हाईस्कूल का रिजल्ट 90 फीसदी से अधिक होने पर 20 अंक और इंटरमीडिएट का रिजल्ट 90 फीसदी से अधिक होने पर 20 अंक अर्थात कुल मिलाकर 60 अंक मिल जाएंगे। ऐसे में इन विद्यालयों को परीक्षा केंद्र बनना लगभग तय है।

समय सारिणी 
- 5 दिसंबर तक सभी प्रधानाचार्य विद्यालय की आधारभूत सूचनाएं, सुविधाएं परिषद की वेबसाइट पर अपलोड करेंगे, संशोधन करने की भी यही तारीख होगी।
- 20 दिसंबर तक सूचनाओं का भौतिक सत्यापन जिला समिति करेगी।
- 26 दिसंबर तक जिला समिति के भौतिक सत्यापन की रिपोर्ट परिषद की वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी।
- 11 जनवरी तक सूचना और रिपोर्ट के आधार पर केंद्रों का आनलाइन चयन कर जिला समिति के निरीक्षण के लिए वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी।
- 16 जनवरी तक चयनित केंद्रों पर आपत्तियां व शिकायतें प्राप्त की जाएंगी।
- 25 जनवरी तक जिला विद्यालय निरीक्षक को आपत्तियों का परीक्षण व निस्तारण कर जानकारी वेबसाइट पर अपलोड करनी होगी।
- 31 जनवरी तक आपत्तियों व परीक्षण की रिपोर्ट की जांच डीएम व उनकी कमेटी करेगी और अपनी सहमति देगी।
- चार फरवरी तक छात्र, अभिभावक, प्रधानाचार्य, प्रबंधक के प्रत्यावेदन व आपत्तियों के निराकरण के बाद भी कोई आपत्ति हो, तो ली जाएगी।
- नौ फरवरी तक जिला समिति के अनुमोदन पर केंद्र निर्धारण समिति ई-मेल आईडी पर निर्धारित तिथि तक आपत्तियों का परीक्षण व निराकरण कर अंतिम सूची वेबसाइट पर जारी कर देगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Center fixation policy fixed for UP board exam special care will be taken of the girl students