ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशभाजपा नेता पर दर्ज हुआ एक और मुकदमा, इंजीनियर के मकान पर कब्जा करके मांगी थी 50 लाख की रंगदारी

भाजपा नेता पर दर्ज हुआ एक और मुकदमा, इंजीनियर के मकान पर कब्जा करके मांगी थी 50 लाख की रंगदारी

मुरादाबाद में भाजपा नेता की एक बार फिर दबंगई सामने आई है। रंगदारी वसूलने में फंसे भाजपा जिला उपाध्यक्ष गजेंद्र चौधरी पर रंगदारी और अवैध कब्जा का एक और मुकदमा दर्ज हुआ है।

भाजपा नेता पर दर्ज हुआ एक और मुकदमा, इंजीनियर के मकान पर कब्जा करके मांगी थी 50 लाख की रंगदारी
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,मुरादाबादSun, 10 Dec 2023 06:51 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के मुरादाबाद में भाजपा नेता की एक बार फिर दबंगई सामने आई है। डॉ. बीपीएस लोचब से रंगदारी वसूलने में फंसे भाजपा जिला उपाध्यक्ष गजेंद्र चौधरी पर रंगदारी और अवैध कब्जा का एक और मुकदमा दर्ज हुआ है। यह केस मेरठ विकास प्राधिकरण के जेई पद से रिटायर हुए वेद प्रकाश की तहरीर पर सिविल लाइंस में लिखा गया है। जिसमें गजेंद्र सिंह समेत सात नामजद और कुछ अज्ञात को आरोपी बनाया गया है। दरअसल सभी पर मकान पर कब्जा करके उसे खाली करने के लिए 50 लाख रुपये की रंगदारी मांगने का आरोप है। 

मेरठ जिले के पल्लवपुरम फेज-1 रुड़की रोड निवासी वेद प्रकाश वर्मा एमडीए के जेई पद से रिटायर्ड हैं। वेद प्रकाश शर्मा की तहरीर पर सिविल लाइंस थाना पुलिस ने जिले के डिलारी थाना क्षेत्र के गांव ईलर सुल्तानपुर दोस्त निवासी गजेंद्र सिंह, भगतपुर के अनूप सिंह, जालपुर निवासी सचिन चौधरी, सिविल लाइंस के सचिन कुमार, आशियाना कॉलोनी निवासी अनिल कुमार, सुनील और मनोज कुमार और अज्ञात के खिलाफ अवैध कब्जा और रंगदारी मांगने का केस दर्ज कराया है। दर्ज रिपोर्ट में रिटायर्ड जेई ने बताया कि उन्होंने मुरादाबाद सिविल लाइंस थाना क्षेत्र के अवंतिका कॉलोनी में एक मकान बनवाया था। जिसमें अपनी जीवन भर की कमाई लगाई थी। साल 2012 में उस मकान में एक कमरा अनूप सिंह ने दो महीने के लिए पढ़ाई करने हेतु किराये पर लिया था।

साल 2013 में वेदप्रकाश ड्यूटी के कारण मेरठ थे। उसी दौरान अनूप सिंह और अन्य आरोपियों ने उनके मकान के अन्य कमरों का ताला तोड़कर कब्जा कर लिया। इतना ही नहीं फर्जी किरायानामा बनवाकर खुद को किरायेदार दर्शाते हुए कोर्ट में मुकदमा भी दायर कर दिया। रिटायर्ड जेई वेद प्रकाश ने दावा किया कि 26 मई 2017 और 22 सितंबर 2017 को कोर्ट का निर्णय भी उनकी पत्नी के पक्ष में आया था। 

आरोप लगाया कि निर्णय आने के बाद गजेंद्र सिंह उर्फ गजेंद्र चौधरी ने उनके मकान में अपने नाम से टोरंट गैस का कनेक्शन करा लिया। जब इसका विरोध किया तो आरोपी गजेंद्र सिंह ओर उसके साथियों ने मिलकर उनके साथ मारपीट कर दी। इतना ही नहीं तमंचा तानकर कहा कि 50 लाख रुपये रंगदारी दो तभी मकान खाली करेंगे। पीड़ित के अनुसार आरोपी गजेंद्र सिंह उर्फ गजेंद्र चौधरी रसूखदार है इसलिए डर के कारण वह इतने दिन आवाज नहीं उठा पा रहे थे। अब जबकि वह जेल गया तो उनकी हिम्मत बढ़ी और एसएसपी को शिकायती पत्र दिया। जहां से एफआईआर के आदेश हुए। एसएचओ सिविल लाइंस आरपी शर्मा ने बताया कि जो भी तथ्य सामने आएगा उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें